Skip to main content

बाप अपनी ही बेटियों से बरसों करता रहा बलात्कार ; मां की अहमियत समझाती हुई एक ख़बर

40 साल पिता की कैद में रहीं बेटियां
 

वियना। आस्ट्रिया के उत्तरी शहर ब्रानो में रहने वाली दो बहनों को 40 वर्ष से भी अधिक समय से बंधक बनाकर रखने, मारपीट करने और उनका यौनशोषण करने का उनके ही पिता पर गंभीर आरोप लगा है। ऊपरी आस्ट्रिया प्रांत के पुलिस विभाग ने गुरूवार को जारी एक बयान में इस सनसनीखेज मामले की जानकारी दी।

पुलिस के मुताबिक ब्रानो शहर के नजदीक रहने वाले एक व्यक्ति ने वर्ष 1970 से ही लगातार अपनी दोनों बेटियों को घर में बंधक बनाकर रखा और उन्हें किसी से भी मिलने-जुलने की इजाजत नहीं दी। इतने वर्षो तक वह दोनो बेटियों को मारने-पीटने के अलावा उनका यौनशोषण भी करता रहा।

आस्ट्रियाई पुलिस ने बताया कि आरोपी पिता ने अपनी दोनों बेटियों को घर के रसोईघर में वर्षो तक कैद करके रखा। दोनों बहनों को सोने के लिए लकड़ी की एक पतली बेंच भर दी गई थी। लेकिन वर्षो की जलालत झेलने के बाद गत मई में दोनों बहनों का गुस्सा फूट पड़ा जब इस बुजुर्ग ने बड़ी बेटी के साथ बलात्कार करने की कोशिश की। अब 53 साल की हो चुकी बड़ी बेटी ने अपने कुकर्मी पिता को धक्का देकर गिरा दिया और इपनी 45 वर्षीय छोटी बहन के साथ उस कैदखाने से भाग निकली। 
Source : http://www.patrika.com/news.aspx?id=663838
---------------
यह एक समाचार है जो बताता है कि घर में अगर मां न हो तो बाप भी हैवान बन जाता है। रिश्तों की पवित्रता को घर में क़ायम रखने में मां का बहुत अहम रोल होता है। इस समाचार को इस एंगल से भी देखने की ज़रूरत है।
बाप द्वारा बेटी के यौन शोषण के क़िस्से आजकल समाचार पत्रों द्वारा अक्सर ही सामने आते रहते हैं।
इन तमाम क़िस्सों में अक्सर यही देखने में आता है कि मां की मृत्यु या उसके कहीं चले जाने के बाद ही ऐसी घटनाएं घटित होती हैं।
ऐसे में मां अगर अपना ज़्यादा समय घर को देती है तो वह अपने घर को हादसों से बचाती है। रिश्तों की पवित्रता को क़ायम रखती है लेकिन फिर भी उसके कामकाज को आज कामकाज नहीं माना जाता, यह दुःखद है।
औरत के कामकाज और उसकी अहमियत को सही संदर्भों में समझे जाने की ज़रूरत है।

Comments

Urmi said…
सच्चाई को आपने बहुत सुन्दरता से प्रस्तुत किया है! बहुत ही शर्मनाक और दुखद घटना!
मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
http://seawave-babli.blogspot.com/
http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/

Popular posts from this blog

माँ बाप की अहमियत और फ़ज़ीलत

मदर्स डे पर विशेष भेंट  इस्लाम में हुक़ूक़ुल ऐबाद की फ़ज़ीलत व अहमियत इंसानी मुआशरे में सबसे ज़्यादा अहम रुक्न ख़ानदान है और ख़ानदान में सबसे ज़्यादा अहमियत वालदैन की है। वालदैन के बाद उनसे मुताल्लिक़ अइज़्जा वा अक़रबा के हुक़ूक़ का दर्जा आता है डाक्टर मोहम्मद उमर फ़ारूक़ क़ुरैशी 1 जून, 2012 (उर्दू से तर्जुमा- समीउर रहमान, न्यु एज इस्लाम) दुनिया के हर मज़हब व मिल्लत की तालीमात का ये मंशा रहा है कि इसके मानने वाले अमन व सलामती के साथ रहें ताकि इंसानी तरक़्क़ी के वसाइल को सही सिम्त में रख कर इंसानों की फ़लाहो बहबूद का काम यकसूई के साथ किया जाय। इस्लाम ने तमाम इंसानों के लिए ऐसे हुक़ूक़ का ताय्युन किया है जिनका अदा करना आसान है लेकिन उनकी अदायगी में ईसार व कुर्बानी ज़रूरी है। ये बात एक तरह का तर्बीयती निज़ाम है जिस पर अमल कर के एक इंसान ना सिर्फ ख़ुद ख़ुश रह सकता है बल्कि दूसरों के लिए भी बाइसे राहत बन सकता है। हुक़ूक़ की दो इक़्साम हैं । हुक़ूक़ुल्लाह और हुक़ूक़ुल ऐबाद। इस्लाम ने जिस क़दर ज़ोर हुक़ूक़ुल ऐबाद पर दिया है इससे ये अमर वाज़ेह हो जाता है कि इन हुक़ूक़ का कितना बुलंद मुक़ाम है और उनकी अ

छोटे से फ़रिश्ते

तू नज़र आता है, तो हर ग़म कमतर नज़र आता है, मेरे छोटे से फ़रिश्ते, तेरे चेहरे पे, खुदा का नूर नज़र आता है  तेरी मासूमियत से बढकर कुछ नहीं, तेरा भोलापन हर शै से बेहतर नज़र आता है तेरी हंसती आँखों में बसती है मेरी दुनिया जहां हर सू प्यार ही प्यार नज़र आता है  तुझे ज़रा कुछ हो जाए तो थम जाती है ज़िन्दगी, तेरी शरारतों में मुक्कमल मेरा संसार नज़र आता है  सोचती हूँ जो भूल गया ये दिन तू बड़े हो कर, फरमान-ऐ-मौत सा तेरा इनकार नज़र आता है देखा है उस माँ को जो अपनी औलाद से जुदा हुई  उसका कलेजा कतरा-कतरा, ज़ार-ज़ार नज़र आता है  ये दुआ है तेरे लिये, जो देखे तुझे वो कहे, खुदा का अक्स तेरे चेहरे पर नज़र आता है  एक औरत हूँ कई रिश्ते और रस्में निभाती हूँ, मगर सबसे खूबसूरत माँ का किरदार नज़र आता है 

माँ तो माँ है...

कितना सुन्दर नाम है इस ब्लॉग का प्यारी माँ .हालाँकि प्यारी जोड़ने की कोई ज़रुरत ही नहीं है क्योंकि माँ शब्द में संसार का सारा प्यार भरा है.वह प्यार जिस के लिए संसार का हर प्राणी भूखा है .हर माँ की तरह मेरी माँ भी प्यार से भरी हैं,त्याग की मूर्ति हैं,हमारे लिए उन्होंने अपने सभी कार्य छोड़े और अपना सारा जीवन हमीं पर लगा दिया. शायद सभी माँ ऐसा करती हैं किन्तु शायद अपने प्यार के बदले में सम्मान को तरसती रह जाती हैं.हम अपने बारे में भी नहीं कह सकते कि हम अपनी माँ के प्यार,त्याग का कोई बदला चुका सकते है.शायद माँ बदला चाहती भी नहीं किन्तु ये तो हर माँ की इच्छा होती है कि उसके बच्चे उसे महत्व दें उसका सम्मान करें किन्तु अफ़सोस बच्चे अपनी आगे की सोचते हैं और अपना बचपन बिसार देते हैं.हर बच्चा बड़ा होकर अपने बच्चों को उतना ही या कहें खुद को मिले प्यार से कुछ ज्यादा ही देने की कोशिश करता है किन्तु भूल जाता है की उसका अपने माता-पिता की तरफ भी कोई फ़र्ज़ है.माँ का बच्चे के जीवन में सर्वाधिक महत्व है क्योंकि माँ की तो सारी ज़िन्दगी ही बच्चे के चारो ओर ही सिमटी होती है.माँ के लिए कितना भी हम करें वह माँ