Skip to main content

माँ तो माँ है...

कितना सुन्दर नाम है इस ब्लॉग का प्यारी माँ .हालाँकि प्यारी जोड़ने की कोई ज़रुरत ही नहीं है क्योंकि माँ शब्द में संसार का सारा प्यार भरा है.वह प्यार जिस के लिए संसार का हर प्राणी भूखा है .हर माँ की तरह मेरी माँ भी प्यार से भरी हैं,त्याग की मूर्ति हैं,हमारे लिए उन्होंने अपने सभी कार्य छोड़े और अपना सारा जीवन हमीं पर लगा दिया.
शायद सभी माँ ऐसा करती हैं किन्तु शायद अपने प्यार के बदले में सम्मान को तरसती रह जाती हैं.हम अपने बारे में भी नहीं कह सकते कि हम अपनी माँ के प्यार,त्याग का कोई बदला चुका सकते है.शायद माँ बदला चाहती भी नहीं किन्तु ये तो हर माँ की इच्छा होती है कि उसके बच्चे उसे महत्व दें उसका सम्मान करें किन्तु अफ़सोस बच्चे अपनी आगे की सोचते हैं और अपना बचपन बिसार देते हैं.हर बच्चा बड़ा होकर अपने बच्चों को उतना ही या कहें खुद को मिले प्यार से कुछ ज्यादा ही देने की कोशिश करता है किन्तु भूल जाता है की उसका अपने माता-पिता की तरफ भी कोई फ़र्ज़ है.माँ का बच्चे के जीवन में सर्वाधिक महत्व है क्योंकि माँ की तो सारी ज़िन्दगी ही बच्चे के चारो ओर ही सिमटी होती है.माँ के लिए कितना भी हम करें वह माँ के त्याग के आगे कुछ भी नहीं है .माँ बदला नहीं चाहती चाहती है केवल बच्चों का प्यार ओर हम कितने स्वार्थी होते हैंकि हम वह भी माँ को नहीं दे पाते.विश्व में हम देखते हैंकि जितने सफलता के उच्च शिखर पर पहुंचे हैं उनकी सफलता में माँ का महत्व है.

Comments

Shikha Kaushik said…
bilkul sahi kaha hai aapne .bhavbhari prastuti ke liye hardik badhai .
Shikha Kaushik said…
bilkul sahi kaha hai aapne .bhavbhari prastuti ke liye hardik badhai .
Shikha Kaushik said…
bilkul sahi kaha hai aapne .bhavbhari prastuti ke liye hardik badhai .
POOJA... said…
ji... ekdam satya... mai bhi aapki baaton se poorntaya sahmat hu...
DR. ANWER JAMAL said…
@ शालिनी जी और शिखा जी ! इस प्यारी मां के आंचल तले आप दोनों कौशिक सिस्टर्स का दिली इस्तक़बाल है। दो बहनों की एक साथ शिरकत से यहां पारिवारिक जज़्बे का अहसास ताज़ा रहेगा।
यह सही है कि ‘मां‘ लफ़्ज़ अपने अंदर खुद मुकम्मल भी है और प्यारा भी लेकिन मात्र चार अक्षरों से ब्लागस्पॉट पर कोई यूआरएल नहीं बनता, इसलिए मां के साथ अगर कोई लफ़ज़ जोड़ा जा सकता है तो फिर वह लफ़ज़ प्यार के अलावा कुछ और हो ही नहीं सकता। मां प्यार देती भी है और प्यारी लगती भी है। हमें भी उसके प्रति अपने प्यार को ज़ाहिर करने में कभी संकोच नहीं करना चाहिए। हमें यह नहीं सोचना चाहिए कि हमारी मां तो जानती ही है कि हम उससे बहुत प्यार करते हैं।
नहीं, आप उससे कहिए कि आप उससे बहुत प्यार करते हैं। आप देखेंगे कि ऐसा कहने के बाद उसके चेहरे की चमक बढ़ जाएगी और आपके दिल को एक सुकून मिलेगा, ऐसा सुकून जो कि किसी और काम करने से आपको कभी नहीं मिल सकता।
आपने एक अच्छी पोस्ट इस प्यारे ब्लाग को दी है, इसके लिए आपका शुक्रिया।
जो भी इस ब्लाग का मेम्बर है, जब भी वह इस ब्लाग पर कोई पोस्ट पब्लिश करे तो हमारी वाणी के लोगो पर ज़रूर क्लिक करे ताकि आपकी पोस्ट हमारी वाणी पर दिखाई दे और फिर हरेक पाठक अगर वह किसी अन्य माध्यम से इस ब्लाग पर आया है तो उसे भी हमारी वाणी पर जाकर पोस्ट के ‘ाीर्षक पर एक क्लिक ज़रूर दे ताकि पोस्ट हमारी वाणी के हॉट कॉलम में आ जाए और एक अच्छा संदेश ज़्यादा से ज़्यादा लोगों तक पहुंच सके।
मैं इस साहित्य को समाचार पत्रों में भी प्रकाशित किए जाने की व्यवस्था करूंगा। इसके लिए एक पूरी स्मारिका भी निकाली जा सकती है।
हरेक मेम्बर कम से कम अपने परिचितों में से एक ब्लागर को अवश्य ही इस ब्लाग का मेम्बर या फॉलोअर बनाए ताकि पाठकों की संख्या में इज़ाफ़ा हो सके।
नेक मक़सद के लिए सभी एक मन होकर परस्पर सहयोग करें और इस ब्लाग को ब्लाग जगत की एक मिसाल बनाएं, इसे बेमिसाल बनाएं और ऐसा होकर रहेगा, इंशा अल्लाह !
आप लोग इतना इमोशनल क्यों लिखते हो यार ? हाँ नहीं तो.....

माँ......मैं आ रहा रहा हूँ माँ।
Sunil Kumar said…
माँ के बारे में जितना भी कहा जाये वह कम है बस इसी लिए उसका दर्जा ख़ुदा के बाद आया है
मेरे मन के मन्दिर में एक धुंधली -सी तस्वीर हे जिसे शायद 'माँ 'कहते हे --मेरी माँ का देहांत १०वर्ष की उम्र में ही हो गया था बस कुछ यादे बाकी हे जो बेहद हसीन हे --आपका ब्लोक पसंद आया जल्दी ही ई - मेल करुगी
Minakshi Pant said…
माँ तो माँ है उसकी छवि कही भी आसानी से देखि जा सकती है फिर वो पशु हो या फिर पक्षी कितनी खूबसूरती से अपना सारा कर्तव्य निभाती है माँ के बारे मै जिनता भी कहो लगता है नहीं अभी कुछ और कहना बाक़ी है ! सच मै इतनी ही प्यारी होती है माँ जो हरदम साये की तरह अपने साथ ही महसूस की जा सकती है !
Neelam said…
Maa main tumhe bhul paayungi kaise,
sach tum behadd yaad aati ho .
kaash wahan se lout aana sambhav hota to main har koshish karti tumhe waapis le aane ki.
miss u lot Maa.
Neelam said…
Maa main tumhe bhul paayungi kaise,
sach tum behadd yaad aati ho .
kaash wahan se lout aana sambhav hota to main har koshish karti tumhe waapis le aane ki.
miss u lot Maa.
Neelam said…
http://neelamkashaas.blogspot.com
mera email id hai ..
gracious.sharma@gmail.com
bahut sundar lekh hai..shalini ji kaa...प्यारी माँ ब्लॉग में...
कल यानि ११ तारीख को शालिनी जी का ये लेख चर्चामंच पर होगा... http://charchamanch.blogspot.com

आप चर्चामंच पर आ कर आपने विचारों से भी अनुग्रहित करियेगा..
मेरा ई मेल पता है -
nutan.dimri@gmail.com
रंजना said…
बहुत सही कहा आपने...

काश कि सब यह समझ पाते...
सार्थक पोस्ट। शुभकामनायें।
merisha dsouza said…
YES YOUR CORRECT WITHOUT MOTHER EVERYINTHING IS BLANK IN A CHILD'S LIFE.I AM THANKFUL TO GOD T5HAT I HAVE A VERY LOVING MOTHER AND I LOVE HER SO MUCH THAT I AM READY TO DO WHATEVER
Laxmi said…
Maa to bas maa hi hai.
eska ehsas ek ladki ko sabse jyada tab hota hai jab wo khud maa banti hai.

Popular posts from this blog

माँ बाप की अहमियत और फ़ज़ीलत

मदर्स डे पर विशेष भेंट  इस्लाम में हुक़ूक़ुल ऐबाद की फ़ज़ीलत व अहमियत इंसानी मुआशरे में सबसे ज़्यादा अहम रुक्न ख़ानदान है और ख़ानदान में सबसे ज़्यादा अहमियत वालदैन की है। वालदैन के बाद उनसे मुताल्लिक़ अइज़्जा वा अक़रबा के हुक़ूक़ का दर्जा आता है डाक्टर मोहम्मद उमर फ़ारूक़ क़ुरैशी 1 जून, 2012 (उर्दू से तर्जुमा- समीउर रहमान, न्यु एज इस्लाम) दुनिया के हर मज़हब व मिल्लत की तालीमात का ये मंशा रहा है कि इसके मानने वाले अमन व सलामती के साथ रहें ताकि इंसानी तरक़्क़ी के वसाइल को सही सिम्त में रख कर इंसानों की फ़लाहो बहबूद का काम यकसूई के साथ किया जाय। इस्लाम ने तमाम इंसानों के लिए ऐसे हुक़ूक़ का ताय्युन किया है जिनका अदा करना आसान है लेकिन उनकी अदायगी में ईसार व कुर्बानी ज़रूरी है। ये बात एक तरह का तर्बीयती निज़ाम है जिस पर अमल कर के एक इंसान ना सिर्फ ख़ुद ख़ुश रह सकता है बल्कि दूसरों के लिए भी बाइसे राहत बन सकता है। हुक़ूक़ की दो इक़्साम हैं । हुक़ूक़ुल्लाह और हुक़ूक़ुल ऐबाद। इस्लाम ने जिस क़दर ज़ोर हुक़ूक़ुल ऐबाद पर दिया है इससे ये अमर वाज़ेह हो जाता है कि इन हुक़ूक़ का कितना बुलंद मुक़ाम है और उनकी अ

छोटे से फ़रिश्ते

तू नज़र आता है, तो हर ग़म कमतर नज़र आता है, मेरे छोटे से फ़रिश्ते, तेरे चेहरे पे, खुदा का नूर नज़र आता है  तेरी मासूमियत से बढकर कुछ नहीं, तेरा भोलापन हर शै से बेहतर नज़र आता है तेरी हंसती आँखों में बसती है मेरी दुनिया जहां हर सू प्यार ही प्यार नज़र आता है  तुझे ज़रा कुछ हो जाए तो थम जाती है ज़िन्दगी, तेरी शरारतों में मुक्कमल मेरा संसार नज़र आता है  सोचती हूँ जो भूल गया ये दिन तू बड़े हो कर, फरमान-ऐ-मौत सा तेरा इनकार नज़र आता है देखा है उस माँ को जो अपनी औलाद से जुदा हुई  उसका कलेजा कतरा-कतरा, ज़ार-ज़ार नज़र आता है  ये दुआ है तेरे लिये, जो देखे तुझे वो कहे, खुदा का अक्स तेरे चेहरे पर नज़र आता है  एक औरत हूँ कई रिश्ते और रस्में निभाती हूँ, मगर सबसे खूबसूरत माँ का किरदार नज़र आता है