Skip to main content

छोटे से फ़रिश्ते


तू नज़र आता है,
तो हर ग़म कमतर नज़र आता है,
मेरे छोटे से फ़रिश्ते, तेरे चेहरे पे,
खुदा का नूर नज़र आता है 
तेरी मासूमियत से बढकर कुछ नहीं,
तेरा भोलापन हर शै से बेहतर नज़र आता है
तेरी हंसती आँखों में बसती है मेरी दुनिया
जहां हर सू प्यार ही प्यार नज़र आता है 
तुझे ज़रा कुछ हो जाए तो थम जाती है ज़िन्दगी,
तेरी शरारतों में मुक्कमल मेरा संसार नज़र आता है 
सोचती हूँ जो भूल गया ये दिन तू बड़े हो कर,
फरमान-ऐ-मौत सा तेरा इनकार नज़र आता है
देखा है उस माँ को जो अपनी औलाद से जुदा हुई 
उसका कलेजा कतरा-कतरा, ज़ार-ज़ार नज़र आता है 
ये दुआ है तेरे लिये, जो देखे तुझे वो कहे,
खुदा का अक्स तेरे चेहरे पर नज़र आता है 
एक औरत हूँ कई रिश्ते और रस्में निभाती हूँ,
मगर सबसे खूबसूरत माँ का किरदार नज़र आता है 

Comments

DR. ANWER JAMAL said…
@ बहन अंजना जी ! इस प्यारे ब्लाग पर आपकी पहली रचना का हार्दिक स्वागत है । आपकी रचना दिल से निकली है इसीलिए पढ़ने वाले के दिल पर असर करती है । आपने इसमें रिश्तों की हक़ीक़त को ही नहीं बल्कि मौजूदा समाज की स्वार्थी सोच को भी सामने ला खड़ा किया है।
हज़रत मुहम्मद साहब सल्ल. ने एक शख़्स से कहा था कि तेरी जन्नत तेरी मां के क़दमों तले है ।
इसमें मां के प्रति विनय और सेवा दोनों का उपदेश है । मां भी अपनी औलाद को हमेशा नेकी का रास्ता बताती है ।
हज़रत ईसा अलैहिस्सलाम ने फ़रमाया है कि जब तक तुम बच्चों की मानिंद न हो जाओ स्वर्ग के राज्य में प्रवेश नहीं कर सकते ।
बच्चे मासूम होते हैं , ख़ुद को अपनी मां पर निर्भर मानते हैं । उसका कहना मानते हैं लेकिन आज माँ बाप औलाद को बेईमानी के रास्ते पर खुद धकेल रहे हैं।
वे अपने बच्चों को ज्यादा से ज्यादा दौलतमंद देखना चाहते हैं । जिसके लिए वे खुद भी बेईमानी करते हैं और उनके बच्चे भी उनसे यही सीखते हैं और अपनी मासूमियत खो बैठते हैं जो कि बच्चे की विशेषता थी । मां ने भी सही गाइडेंस देने का अपना गुण खो दिया और बच्चे की मासूमियत भी नष्ट कर दी और तब इस धरती पर नर्क उतर आया हर ओर ।
अगर इस साक्षात नर्क से खुद भी मुक्ति पानी है और समाज को भी दिलानी है तो माँ को अपने मूल स्वभाव की ओर लौटना होगा । अपने बच्चे को ज़्यादा से ज़्यादा धन संपन्न देखने की चाहत छोड़ कर उसे ज़्यादा से ज़्यादा गुण संपन्न बनाना होगा , उसे नेकी और सच्चाई का रास्ता दिखाना होगा ।
आपकी रचना जिन बिंदुओं को रेखांकित कर रही है , उनके संबंध में अपने विचार मैं आपको और आपके पाठकोँ को अर्पित करता हूं ।
एक अच्छी रचना के लिए धन्यवाद !
Anjana (Gudia)@ एक बार फिर बेहतरीन पोस्ट...कई बार पढ़ा इसको हर बार नया लुत्फ़ आता है
Kanta Dayal said…
gudia maa ban kar apni maa ko samajhna kitna asan ho gaya .shanu ki maa to me hu tu to mummy he .khuda tujhe aur tere ladle ko hamesha2 salamat rakhe .kabhi paththar se bhi thes na lage.god bless u.
Anonymous said…
अन्जना जी,
बहुत प्यारी कविता और भाव हैं.. शुभकामनाएं....
Unknown said…
Dear Anjana ji... Very nice and touching poem.. liked it so much.. :) keep it up...
एक माँ के हक़ से बहुत सुंदर भाव व्यक्त किये हैं. हाँ माँ ऐसी ही होती है. औलाद कुछ भी करे वह कभी उसके लिए बुरा नहीं चाह सकती है.
DR. ANWER JAMAL said…
खुशी और आनंद का पल
कान्ता जी के बारे में मैंने बहन अंजना जी से पूछा तो उन्होंने बताया कि वे मेरी माता जी हैं। मुझे बेहद खुशी हुई कि इस ब्लाग का नाम ‘प्यारी मां‘ पर बहन अंंजना जी के रूप में एक मां ही विराजमान नहीं हैं बल्कि उनकी मां के रूप में ‘मां की भी मां‘ तशरीफ़ रखती हैं। मैं इन दोनों मांओं का बेहद मशकूर हूं और तहे दिल से इनका स्वागत करता हूं और ख़ास तौर पर मां कान्ता जी से दरख्वास्त करता हूं कि वे नियमित रूप से अपनी उपस्थिति इस ब्लाग पर बनाए रखें और अगर संभव हो तो वे अपनी ईमेल आईडी मुझे भेज दें ताकि उन्हें भी मैं अपने ब्लाग में एक लेखिका के तौर पर जोड़कर खुद को इज़्ज़त दे सकूं। आशा है कि वे मना नहीं करेंगी।
DR. ANWER JAMAL said…
बहन रेखा श्रीवास्तव जी कातहे दिल सस्वागत हैं
बहन रेखा श्रीवास्तव जी का भी मैं स्वागत करता हूं। वे भी एक मां हैं। एक सफल नौकरीपेशा और सफल गृहिणी हैं। वे एक सशक्त साहित्यकार भी हैं। आधुनिकता और परंपरा का एक अच्छा संतुलन उनमें देखा जा सकता है। शिक्षा उन्हें उच्छृख्ंाल आधुनिका में नहीं बदल पाई है। भारतीय संस्कार और मूल्य उन्हें आज भी याद हैं और वे उन्हें बरतती भी हैं। औरत और मां क्या होती है ? वे जानती हैं क्योंकि वे खुद एक औरत हैं, एक मां हैं। उनके विचार हमारे लिए अमूल्य हैं क्योंकि वे साबितशुदा तजर्बे की हैसियत रखते हैं। उनका इस प्यारे ब्लाग पर आना हम सबके हित में लाभकारी हो, अपने मालिक से हम ऐसी कामना करते हैं।
DR. ANWER JAMAL said…
आज रिश्तों की अज़्मत
रोज़ कम से कमतर होती जा रही है। रिश्तों की अज़्मत और उसकी पाकीज़गी को बरक़रार रखने के लिए उनका ज़िक्र निहायत ज़रूरी है। मां का रिश्ता एक सबसे पाक रिश्ता है। शायद ही कोई लेखक ऐसा हुआ हो जिसने मां के बारे में कुछ न लिखा हो। शायद ही कोई आदमी ऐसा हुआ हो जिसने अपनी मां के लिए कुछ अच्छा न कहा हो। तब भी देश-विदेश में अक्सर मुहब्बत की जो यादगारें पाई जाती हैं वे आशिक़ों ने अपनी महबूबाओं और बीवियों के लिए तो बनाई हैं लेकिन ‘प्यारी मां के लिए‘ कहीं कोई ताजमहल नज़र नहीं आता।
ऐसा क्यों हुआ ?
इस तरह के हरेक सवाल पर आज विचार करना होगा।
‘प्यारी मां‘ के नाम से ब्लाग शुरू करने का मक़सद यही है।
इस प्यारे से ब्लाग को एक टिनी-मिनी एग्रीगेटर की शक्ल भी दी गई है ताकि ज़्यादा से ज़्यादा मांओं और बहनों के ब्लाग्स को ब्लाग रीडर्स के लिए उपलब्ध कराया जा सके। जो मां-बहनें इस ब्लाग से एक लेखिका के तौर पर जुड़ने की ख्वाहिशमंद हों वे अपनी ईमेल आईडी भेजने की कृपा करें और जो अपना ब्लाग इसमें देखना चाहती हों, वे अपने ब्लाग का पता इसी ब्लाग की टिप्पणी में या फिर ईमेल से भेज दें।
मेरा ईमेल पता है- eshvani@gmail.com
Sabhi ko bahot bahot shukriya.

Pyari Maa, Anwar bhai ki bahot hi behetreen koshish hai. Mujhe khushi hai main iska hissa ban saki :-)
अंजना जी की आमद और शिरकत का मैं ख़ैर मक़दम करता हूँ .
अंजना जी की पोस्ट क़ाबिले तहसीन है.
मैं नेट पर कम वक़्त दे पा रहा हूँ , इसलिए देर से हाज़री के लिए माज़रत ख्वाह हूँ .

Popular posts from this blog

माँ बाप की अहमियत और फ़ज़ीलत

मदर्स डे पर विशेष भेंट  इस्लाम में हुक़ूक़ुल ऐबाद की फ़ज़ीलत व अहमियत इंसानी मुआशरे में सबसे ज़्यादा अहम रुक्न ख़ानदान है और ख़ानदान में सबसे ज़्यादा अहमियत वालदैन की है। वालदैन के बाद उनसे मुताल्लिक़ अइज़्जा वा अक़रबा के हुक़ूक़ का दर्जा आता है डाक्टर मोहम्मद उमर फ़ारूक़ क़ुरैशी 1 जून, 2012 (उर्दू से तर्जुमा- समीउर रहमान, न्यु एज इस्लाम) दुनिया के हर मज़हब व मिल्लत की तालीमात का ये मंशा रहा है कि इसके मानने वाले अमन व सलामती के साथ रहें ताकि इंसानी तरक़्क़ी के वसाइल को सही सिम्त में रख कर इंसानों की फ़लाहो बहबूद का काम यकसूई के साथ किया जाय। इस्लाम ने तमाम इंसानों के लिए ऐसे हुक़ूक़ का ताय्युन किया है जिनका अदा करना आसान है लेकिन उनकी अदायगी में ईसार व कुर्बानी ज़रूरी है। ये बात एक तरह का तर्बीयती निज़ाम है जिस पर अमल कर के एक इंसान ना सिर्फ ख़ुद ख़ुश रह सकता है बल्कि दूसरों के लिए भी बाइसे राहत बन सकता है। हुक़ूक़ की दो इक़्साम हैं । हुक़ूक़ुल्लाह और हुक़ूक़ुल ऐबाद। इस्लाम ने जिस क़दर ज़ोर हुक़ूक़ुल ऐबाद पर दिया है इससे ये अमर वाज़ेह हो जाता है कि इन हुक़ूक़ का कितना बुलंद मुक़ाम है और उनकी अ

माँ तो माँ है...

कितना सुन्दर नाम है इस ब्लॉग का प्यारी माँ .हालाँकि प्यारी जोड़ने की कोई ज़रुरत ही नहीं है क्योंकि माँ शब्द में संसार का सारा प्यार भरा है.वह प्यार जिस के लिए संसार का हर प्राणी भूखा है .हर माँ की तरह मेरी माँ भी प्यार से भरी हैं,त्याग की मूर्ति हैं,हमारे लिए उन्होंने अपने सभी कार्य छोड़े और अपना सारा जीवन हमीं पर लगा दिया. शायद सभी माँ ऐसा करती हैं किन्तु शायद अपने प्यार के बदले में सम्मान को तरसती रह जाती हैं.हम अपने बारे में भी नहीं कह सकते कि हम अपनी माँ के प्यार,त्याग का कोई बदला चुका सकते है.शायद माँ बदला चाहती भी नहीं किन्तु ये तो हर माँ की इच्छा होती है कि उसके बच्चे उसे महत्व दें उसका सम्मान करें किन्तु अफ़सोस बच्चे अपनी आगे की सोचते हैं और अपना बचपन बिसार देते हैं.हर बच्चा बड़ा होकर अपने बच्चों को उतना ही या कहें खुद को मिले प्यार से कुछ ज्यादा ही देने की कोशिश करता है किन्तु भूल जाता है की उसका अपने माता-पिता की तरफ भी कोई फ़र्ज़ है.माँ का बच्चे के जीवन में सर्वाधिक महत्व है क्योंकि माँ की तो सारी ज़िन्दगी ही बच्चे के चारो ओर ही सिमटी होती है.माँ के लिए कितना भी हम करें वह माँ