औरत तू जननी हे !

Posted on
  • Saturday, March 5, 2011
  • by
  • दर्शन कौर धनोय
  • in
  • Labels:



  • (माता गुजरी व् बालक गोविंद )


    औरत  तू जननी हे--एक बहन है--एक बेटी है--एक पत्नीहै-- और इन सबसे ऊपर तू एक माँ है--हमारे गुरू गोविंदसिंह जी ने कहा  हे :--

    "एकअच्छी माँ ही एक शूरवीर को जन्म देती हे" 

    यदि माता गुजरी जी न होती तो, 
    गुरु गोविन्दसिंह जी जेसे शूरवीर कहाँ होते ? 

    यदि माँ जिजामाता न होती तो, 
    शिवाजी कैसे  मराठा -पुत्र कहलाते ?

    यशोदा माँ ही थी ,
    जिसने कृष्ण का पालन किया |

    वो देवकी माँ ही थी ,
    जिसने कान्हा को जन्म दिया |

    रानी कोशल्या भी तो माँ थी, 
    जिसकी  कोंख से रघुवीर जन्मे |

    उस कैकई को कैसे भूलू ,
    जिसके वचनों से वनवास गए | 

    वो भी माँ का एक रूप थी ,
    जिसके कारण रावण का संहार हुआ | 

    वो माँ ही थी जिसकी कोंख से ,
    कभी भगत,कभी सुभाष,कभी प्रताप पैदा हुए | 

    वो माँ ही थी ? वो माँ ही है --  
    जिसने हमे सूखे में सुलाया |

    नो माह हमारा बोझा ढोहा,  
    रातो को जागकर,
    हमे तिल -तिल बड़ा किया, 
    हमारी हर ख़ुशी पर अपनी खुशियों को निहाल किया |

    वो माँ ही हे--जो एक मांस के लोथड़े  को, 
    कभी डॉ.,कभी वकील,कभी इंजिनियर बनाती है,
    और इन सबसे ऊपर उसे एक इंसान बनाती है-

    माँ तुझे सलाम !!!      

                                        

    7 comments:

    सदा said...

    इन सबसे ऊपर उसे एक इंसान बनती है-

    वाह ...हर पंक्ति बहुत ही सुन्‍दर भावों को समेटे हुये..मां के बारे में क्‍या कहूं ...जहां ये शब्‍द 'मां' होता है नजरें खुद-ब-खुद वहां ठहर जाती हैं ..बेहतरीन प्रस्‍तुति ।

    बलबीर सिंह (आमिर) said...

    जहां शब्‍द 'मां' होता है नजरें खुद-ब-खुद वहां ठहर जाती हैं

    शालिनी कौशिक said...

    वो माँ ही हे--जो एक मांस के लोथड़े को,
    कभी डॉ.,कभी वकील,कभी इंजिनियर बनाती है,
    और इन सबसे ऊपर उसे एक इंसान बनाती है
    सराहनीय प्रस्तुति
    http://shalinikaushik2.blogspot.com

    Mohammad Ahmad Haqqani said...

    Nice Post

    Anjana (Gudia) said...

    वो माँ ही हे--जो एक मांस के लोथड़े को,
    कभी डॉ.,कभी वकील,कभी इंजिनियर बनाती है,
    और इन सबसे ऊपर उसे एक इंसान बनाती है-

    sach hai! bahut sunder post!

    DR. ANWER JAMAL said...

    गुमरही की गर्द जम जाए न मेरे चाँद पर
    बारिशे ईमान में यूं रोज़ नहलाती है माँ

    कोई टीपू तो कोई सिकंदर हुआ ,
    कोई कबीर तो कोई क़लंदर हुआ
    हर वुजूद अलग हो चाहे मगर
    हर वुजूद माँ से ही ज़ाहिर हुआ

    निर्मला कपिला said...

    माँ की महिमा अपरम्पार।सुन्दर रचना। शुभकामनायें

    There was an error in this gadget

    Followers

    प्यारी माँ

    Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

    मन की दुनिया

    नारी का पूर्ण सशक्तिकरण

     
    Copyright (c) 2010 प्यारी माँ. All rights reserved.