Skip to main content

माँ बाप की अहमियत और फ़ज़ीलत

मदर्स डे पर विशेष भेंट 
इस्लाम में हुक़ूक़ुल ऐबाद की फ़ज़ीलत व अहमियत
इंसानी मुआशरे में सबसे ज़्यादा अहम रुक्न ख़ानदान है और ख़ानदान में सबसे ज़्यादा अहमियत वालदैन की है। वालदैन के बाद उनसे मुताल्लिक़ अइज़्जा वा अक़रबा के हुक़ूक़ का दर्जा आता है
डाक्टर मोहम्मद उमर फ़ारूक़ क़ुरैशी
1 जून, 2012
(उर्दू से तर्जुमा- समीउर रहमान, न्यु एज इस्लाम)
दुनिया के हर मज़हब व मिल्लत की तालीमात का ये मंशा रहा है कि इसके मानने वाले अमन व सलामती के साथ रहें ताकि इंसानी तरक़्क़ी के वसाइल को सही सिम्त में रख कर इंसानों की फ़लाहो बहबूद का काम यकसूई के साथ किया जाय। इस्लाम ने तमाम इंसानों के लिए ऐसे हुक़ूक़ का ताय्युन किया है जिनका अदा करना आसान है लेकिन उनकी अदायगी में ईसार व कुर्बानी ज़रूरी है।
ये बात एक तरह का तर्बीयती निज़ाम है जिस पर अमल कर के एक इंसान ना सिर्फ ख़ुद ख़ुश रह सकता है बल्कि दूसरों के लिए भी बाइसे राहत बन सकता है। हुक़ूक़ की दो इक़्साम हैं । हुक़ूक़ुल्लाह और हुक़ूक़ुल ऐबाद। इस्लाम ने जिस क़दर ज़ोर हुक़ूक़ुल ऐबाद पर दिया है इससे ये अमर वाज़ेह हो जाता है कि इन हुक़ूक़ का कितना बुलंद मुक़ाम है और उनकी अदमे अदाइगी किस तरह अल्लाह रब्बुल इज़्ज़त की नाराज़गी का सबब बन सकती है।
इस्लामी तालीमात की रू से बंदों के हुक़ूक़ की अदायगी इस्लामी नज़्मे इबादत का लाज़िमी जुज़ है और उन हुक़ूक़ से आराज़ व पहलू तही एक तरफ़ तो मुआशरे के बिगाड़ का सबब बन सकता है और दूसरी तरफ़ अल्लाह की नाराज़गी का सबब। लिहाज़ा बहैसियत मुसलमान हमें हुक़ूक़ुल ऐबाद की तरफ़ ज़्यादा तवज्जोह देनी चाहीए।
इस्लाम एक ऐसा दीन है जो ख़ैरो बरकत और अमन व सलामती से इबारत है। इसमें अपने पराए, वाक़िफ़ नावाक़िफ़, बड़े छोटे, हाकिम मह्कूम, औरत मर्द, हर एक के हुक़ूक़ का ना सिर्फ ये कि एहतिमाम किया गया है बल्कि उनकी अदायगी को इबादत क़रार दिया गया है। इसलिए इस्लाम आलमे इंसानियत के लिए पाँच चीज़ों के तहफ़्फ़ुज़ औऱ निगेहदाश्त की ज़मानत फ़राहम करता है। हिफ़्ज़े नफ़स, हिफ़्ज़े माल, हिफ़्ज़े अर्ज़, हिफ़्ज़े दीन और हिफ़्ज़े नस् । उन पर ग़ौर करने से मालूम होगा कि इस्लाम इंसान की जान और उसके माल, उसकी इज़्ज़त, उसके दीन और उसकी नस्ल की हिफ़ाज़त का बहुत एहतेमाम करता है। लिहाज़ा हुक़ूक़ुल्लाह के बाद जब हम हुक़ूक़ुल ऐबाद की बात करते हैं तो इसमें एक इंसान पर दूसरे इंसान की इन पाँच चीज़ों की हिफ़ाज़त लाज़िम आती है।
इंसानी मुआशरत में सबसे ज़्यादा अहम रुक्न ख़ानदान है और ख़ानदान में सबसे ज़्यादा अहमियत वालदैन की है। वालदैन के बाद उनसे मुताल्लिक़ अइज़्जा व अक़रबा के हुक़ूक़ का दर्जा आता है। इसके बाद जैसे जैसे इंसानी मुआशरे के ताल्लुक़ात वसीअ होते जाते हैं, वैसे वैसे इंसान आफ़ाक़ी हो जाता है और कायनात में मौजूद तमाम मख़लूक़ात से उसके ख़ुशगवार ताल्लुक़ात की इब्तेदा होती है। हर एक के लिए जो कम से कम हक़ है वो मीठा बोल है।
तमाम तब्क़ात में से हर एक के हुक़ूक़ की तवील फ़ेहरिस्त तैय्यार हो सकती है लेकिन सबसे ज़्यादा जिस बात पर ज़ोर दिया गया है वो क़ौले करीम और क़ौले मारूफ़ है। अल्लाह रब्बुल इज़्ज़त ने वाल्दैन के साथ हुस्ने सुलूक और एहसान के साथ जिस तफ़्सील का ज़िक्र किया है इसमें ज़बान को बुनियादी हैसियत हासिल है चुनांचे इरशाद फ़रमाया हैः इन दोनों (वालदैन) में से किसी को भी उफ़ तक ना कहो। बल्कि उनसे अच्छी बात कहो। इन आयात की तालीमात पर ग़ौर फ़रमाएं।
पहले जिन दो बातों से मना किया गया है उनका ताल्लुक़ ज़बान ही से है। ज़बान से वाल्दैन को उफ़ तक ना कहो, उन्हें सख़्त अलफ़ाज़ में झिड़को भी नहीं। इसके बरख़िलाफ़ हुक्म ये हो रहा है कि इनके साथ नरमी से गुफ़्तुगु करो। गुफ़्तुगु करो। नरमी भी ऐसी जिससे रहमत व शफ़्क़त ,मोहब्बत व मौदत और रहमो करम टपकता हो। ये इसलिए कहा गया कि बूढ़े वाल्दैन को इस बुढ़ापे में सबसे ज़्यादा शीरीं कलामी की ज़रूरत है। जहां तक उनकी माद्दी ज़रूरियात का ताल्लुक़ है, वो अगर औलाद पूरा ना भी करे तो रब्बे कायनात उनकी रबूबियत उस वक़्त तक करता रहेगा जब तक उन्हें इस दुनिया में क़याम करना है।
औलाद के करने का सबसे अहम काम ये है कि वो सब्र व तहम्मुल से काम ले, उन से तंग ना आए और उन के बुढ़ापे के अवारिज़ से परेशान ना हो जाए बल्कि उन से शीरीं कलामी के ज़रीए उनका दिल बहलाए, उनमें एतेमाद, उम्मीद जगाए और उनकी दिल बस्तगी का सामान करे। परवरदिगारे आलम ने अपने बंदों को ये उमूमी तालीम दी। इरशाद फ़रमायाः और लोगों के साथ भले तरीक़े से बात करो।
रसूलुल्लाह सल्लल्लाहू अलैहि वसल्लम ने इंसानी ज़िंदगी के किसी भी पहलू को ग़ैर अहम क़रार नहीं दिया। हज़रत अब्बू हुरैरा रज़िअल्लाहू अन्हू से मर्वी है कि एक सहाबी ने रसूलुल्लाह सल्लल्लाहू अलैहि वसल्लम से दरयाफ़्त किया कि दुनिया में मुझ पर सबसे ज़्यादा हक़ किस का है यानी मेरे हुस्ने सुलूक का सबसे ज़्यादा मुस्तहिक़ कौन है तो आप सल्लल्लाहू अलैहि वसल्लम ने फ़रमाया तुम्हारी माँ। सहाबी ने यही सवाल तीन मर्तबा दुहराया और तीनों मर्तबा आप सल्लल्लाहू अलैहि वसल्लम ने यही जवाब दिया कि तुम्हारे हुस्ने सुलूक की सबसे ज़्यादा मुस्तहिक़ तुम्हारी माँ है। चौथी मर्तबा आप सल्लल्लाहू अलैहि वसल्लम ने फ़रमाया कि तुम्हारा बाप।
एक और हदीस में आप सल्लल्लाहू अलैहि वसल्लम ने फ़रमाया कि एक मुसलमान के दूसरे मुसलमान पर चंद हुक़ूक़ हैं। (1) जब मुसलमान भाई से मिले तो उसे सलाम करे (2) जब वो दावत दे तो उसे क़ुबूल करे (3) जब वो ख़ैर ख़्वाही चाहे तो उससे ख़ैर ख़्वाही की जाय (4) जब उसे छींक आए और वो अलहम्दोलिल्लाह कहे तो इसके जवाब में यरहमोकल्लाह कहे, और (5) जब वो इंतेक़ाल कर जाय तो इस के जनाज़े में शिरकत करे।
हुस्ने खुल्क के बारे में आप सल्लल्लाहू अलैहि वसल्लम का इरशादे गिरामी हैः सब से वज़नी चीज़ जो क़यामत के दिन मोमिन की मीज़ान में रखी जाएगी वो उसका हुस्ने एख़्लाक़ होगा। बेशक अल्लाह उस शख़्स को नापसंद फ़रमाता है जो ज़बान से बेहयाई की बात निकालता और बदज़बानी करता है। हज़रत अबदुल्लाह बिन मुबारक रज़ियल्लाहू अन्हू हुस्ने खुल्क की तशरीह यूं करते हैः और जब वो मिले तो हंसते हुए चेहरे से मिले और मोहताजों पर माल ख़र्च करे और किसी को तकलीफ़ ना दे।
रहमतुललिल्आलमीन बंदों के बाहमी ताल्लुक़ात में बेहतरी और ख़ुशगवारी लाने के लिए अपने पैरोकारों को चंद ऐसी रुहानी बीमारियों से बचने की तलक़ीन फ़रमाते हैं जिनसे अगर एक इंसान बच जाय तो उसका वजूद बाइसे रहमत और उसकी हस्ती मूजिबे सुकून हो जाए। इरशाद नबवी सल्लल्लाहू अलैहि वसल्लम है: अपने आप को बदगुमानी से बचाओ। दूसरों के बारे में मालूमात मत हासिल करते फ़िरो, एक दूसरे से बुग़्ज़ मत रखो और ना एक दूसरे की काट में लगे रहो।
बंदों के हुक़ूक़ की अदायगी से इंसान की महरूमियाँ दूर हो जाती हैं और बाहमी मोहब्बत व यगांगत की फ़िज़ा पैदा हो जाती है। इस तरह बुग़् व अदावत का ख़ात्मा हो जाता है। ये बात ज़हन नशीन रहे कि हर आदमी सिर्फ अपने हुक़ूक़ की बात ना करे बल्कि फ़राइज़ को भी पहचाने। इस तरह हुक़ूक़ व फ़राइज़ के दरमियान एक मुनासिब तवाज़ुन बरक़रार रखे ताकि किसी का हक़ ग़सब ना हो और कोई फ़र्द महरूमियों का शिकार होकर इंतिहापसंदी की जानिब माएल ना हो।
1 जून, 2012  बशुक्रियाः इन्क़िलाब,  नई दिल्ली
URL for Urdu article:
URL for this article:

Comments

Unknown said…
Apka blog achchha hai aur isase related meri bhi blog hai. please apne blog men mere blog ko sthan de.
http://suvichar4u.blogspot.in/
Anand Bodh said…
अगर ऐसा है तो फिर, वन्दे मातरम से परहेज़ क्यों?
Unknown said…
प्रिय दोस्त मझे यह Article बहुत अच्छा लगा। आज बहुत से लोग कई प्रकार के रोगों से ग्रस्त है और वे ज्ञान के अभाव में अपने बहुत सारे धन को बरबाद कर देते हैं। उन लोगों को यदि स्वास्थ्य की जानकारियां ठीक प्रकार से मिल जाए तो वे लोग बरवाद होने से बच जायेंगे तथा स्वास्थ भी रहेंगे। मैं ऐसे लोगों को स्वास्थ्य की जानकारियां फ्री में www.Jkhealthworld.com के माध्यम से प्रदान करता हूं। मैं एक Social Worker हूं और जनकल्याण की भावना से यह कार्य कर रहा हूं। आप मेरे इस कार्य में मदद करें ताकि अधिक से अधिक लोगों तक ये जानकारियां आसानी से पहुच सकें और वे अपने इलाज स्वयं कर सकें। यदि आपको मेरा यह सुझाव पसंद आया तो इस लिंक को अपने Blog या Website पर जगह दें। धन्यवाद!
Health Care in Hindi
Mayur said…
भगवान हर जगह नहीं जा सकता इस लिए उसने माँ बनाई!
Unknown said…
Thanks for share such a wonderful post with us
Looking to publish Online Books, in Ebook and paperback version, publish book with best
Free E-book Publishing Online
Prateek said…
बहुत अच्छा लिखा है। ऐसे ही लिखते रहिए। हिंदी में कुछ रोचक ख़बरें पड़ने के लिए आप Top Fibe पर भी विजिट कर सकते हैं
meenasite.com said…
आपने काफी बढ़िया पोस्ट लिखी है आप एक बार हमारे ब्लॉग पर भी विजिट करें online hindi book
Kya Hai Kaise
Vishal said…
आंसुओ के बदले मुस्कान देती है
कितना भी छुपा लो माँ हर गम पहचान लेती है
जब भी अँधेरा छा जाता है मेरी जिंदगी में
माँ दुआओ की रौशनी लेकर मेरे पास आ जाती है

माँ शायरी
GAMELOFTT said…
ji aapne bhut achchhi jankariya btayi hai is post ke madhym se dhanywad aapka
helpful

Popular posts from this blog

छोटे से फ़रिश्ते

तू नज़र आता है, तो हर ग़म कमतर नज़र आता है, मेरे छोटे से फ़रिश्ते, तेरे चेहरे पे, खुदा का नूर नज़र आता है  तेरी मासूमियत से बढकर कुछ नहीं, तेरा भोलापन हर शै से बेहतर नज़र आता है तेरी हंसती आँखों में बसती है मेरी दुनिया जहां हर सू प्यार ही प्यार नज़र आता है  तुझे ज़रा कुछ हो जाए तो थम जाती है ज़िन्दगी, तेरी शरारतों में मुक्कमल मेरा संसार नज़र आता है  सोचती हूँ जो भूल गया ये दिन तू बड़े हो कर, फरमान-ऐ-मौत सा तेरा इनकार नज़र आता है देखा है उस माँ को जो अपनी औलाद से जुदा हुई  उसका कलेजा कतरा-कतरा, ज़ार-ज़ार नज़र आता है  ये दुआ है तेरे लिये, जो देखे तुझे वो कहे, खुदा का अक्स तेरे चेहरे पर नज़र आता है  एक औरत हूँ कई रिश्ते और रस्में निभाती हूँ, मगर सबसे खूबसूरत माँ का किरदार नज़र आता है 

माँ तो माँ है...

कितना सुन्दर नाम है इस ब्लॉग का प्यारी माँ .हालाँकि प्यारी जोड़ने की कोई ज़रुरत ही नहीं है क्योंकि माँ शब्द में संसार का सारा प्यार भरा है.वह प्यार जिस के लिए संसार का हर प्राणी भूखा है .हर माँ की तरह मेरी माँ भी प्यार से भरी हैं,त्याग की मूर्ति हैं,हमारे लिए उन्होंने अपने सभी कार्य छोड़े और अपना सारा जीवन हमीं पर लगा दिया. शायद सभी माँ ऐसा करती हैं किन्तु शायद अपने प्यार के बदले में सम्मान को तरसती रह जाती हैं.हम अपने बारे में भी नहीं कह सकते कि हम अपनी माँ के प्यार,त्याग का कोई बदला चुका सकते है.शायद माँ बदला चाहती भी नहीं किन्तु ये तो हर माँ की इच्छा होती है कि उसके बच्चे उसे महत्व दें उसका सम्मान करें किन्तु अफ़सोस बच्चे अपनी आगे की सोचते हैं और अपना बचपन बिसार देते हैं.हर बच्चा बड़ा होकर अपने बच्चों को उतना ही या कहें खुद को मिले प्यार से कुछ ज्यादा ही देने की कोशिश करता है किन्तु भूल जाता है की उसका अपने माता-पिता की तरफ भी कोई फ़र्ज़ है.माँ का बच्चे के जीवन में सर्वाधिक महत्व है क्योंकि माँ की तो सारी ज़िन्दगी ही बच्चे के चारो ओर ही सिमटी होती है.माँ के लिए कितना भी हम करें वह माँ