सिजेरियन ऑपरेशन पैसा कमाने का ज़रिया

Posted on
  • Monday, July 15, 2013
  • by
  • DR. ANWER JAMAL
  • in
  • बसे विज्ञान का विकास एवं आम व्यक्ति की पहुंच तक विस्तार हुआ है तो बजाय आसानी से प्रसव होने के डिलेवरियाँ ऑपरेशन के जरिये हो रही हैं! इसका मतलब यह माना जावे कि अप्रशिक्षित दाईयाँ आज की प्रसूतारोग विशेषज्ञ महिला चिकित्सकों की तुलना में श्रेृष्ठ थी? नहीं उन्हें श्रृेष्ठ तो नहीं माना जा सकता, लेकिन वे आज की पढी-लिखी महिला डाक्टरों की तुलना में अत्यधिक संवेदनशील अवश्य थी। उनके लिये प्रसूता एवं नवजात दोनों का जीवन महत्वपूर्ण होता था। प्रसव होने तक दाई परमात्मा से सामान्य प्रसव के लिये प्रार्थना किया करती थी, जबकि आज की लालची चिकित्सक ऐसे अवसरों की तलाश में रहती हैं कि किसी प्रकार से प्रसव कुछ घण्टों के लिये विलम्बित हो जाये तो प्रसूता के परिजनों को सिजेरियन ऑपरेशन के लिये सहमत करना आसान हो जाये। इस अन्तर को समझने की जरूरत है और ऐसी दुष्ट, लालची एवं अपराधी महिला चिकित्सकों को कानून के शिकंजे में लाकर जेल में डलवाने की जरूरत है।
    ———————————————-
    नयी दिल्ली। 14 एवं 15 जनवरी, 10 के दैनिक समाचार-पत्रों में उक्त खबर अनेक पाठकों ने पढी होगी। खबर पढकर फेंक देनी की आदत से लाचार हम लोगों ने इस खबर को भी वैसे ही पढकर फेंका होगा, जैसे कि किसी पुत्र के दुर्घटना में मरने की खबर। सेना में आतंकवादियों के मारे गये किसी पिता की खबर और किसी बेटी की आबरू लुटने की खबर को हम हर दिन असंवेदनशील से बनकर फेंक देते हैं। सवाल उठता है कि आखिर एक आम व्यक्ति अकेला कर भी क्या सकता है? हमारी यही सोच हमें लुटने, पिटने और बीच चौराहे पर, सरकारी दफ्तर में तथा समाज के समक्ष अपमानित होते रहने की असली वजह है। सर्व-प्रथम हमें इसी मानसिकता से उबरना होगा। इसलिये अकसर मैं कहता रहता हँू कि बिना जागरूकता के आज के समय में इंसान जानवरों से भी गया-बीता है।
    हम रोजाना देखते हैं कि हर छोटे-बडे कस्बे एवं शहर में महिलाओं के प्रसव आसानी से नहीं होकर ऑपरेशन के जरिये हो रहे हैं, जिन्हें सिजेरियन डिलेवरी का नाम दिया जाता है। हम सब कुछ जानते हुए भी भयभीत होने के कारण अनजान बने रहते हैं। डॉक्टर पर विश्वास नहीं करें तो खतरा और विश्वास करें तो सिजेरियन का खतरा। दोनों ही दशाएँ अत्यन्त दुखदायी हैं। ऐसे में प्रसूता के परिजन विवश होकर सिजेरियन डिलेवरी के लिये सहमत हो जाते हैं, जबकि 30 वर्ष पहले तक कोई बिरला केस ही सिजेरियन डिलेवरी का कारण बनता था।माताएँ स्थानीय दाईयों के सहयोग से बच्चों को जन्म देती रही हैं। जबसे विज्ञान का विकास एवं आम व्यक्ति की पहुंच तक विस्तार हुआ है तो बजाय आसानी से प्रसव होने के डिलेवरियाँ ऑपरेशन के जरिये हो रही हैं! इसका मतलब यह माना जावे कि अप्रशिक्षित दाईयाँ आज की प्रसूतारोग विशेषज्ञ महिला चिकित्सकों की तुलना में श्रेृष्ठ थी? नहीं उन्हें श्रृेष्ठ तो नहीं माना जा सकता, लेकिन वे आज की पढी-लिखी महिला डाक्टरों की तुलना में अत्यधिक संवेदनशील अवश्य थी। उनके लिये प्रसूता एवं नवजात दोनों का जीवन महत्वपूर्ण होता था। प्रसव होने तक दाई परमात्मा से सामान्य प्रसव के लिये प्रार्थना किया करती थी, जबकि आज की लालची चिकित्सक ऐसे अवसरों की तलाश में रहती हैं कि किसी प्रकार से प्रसव कुछ घण्टों के लिये विलम्बित हो जाये तो प्रसूता के परिजनों को आसानी से सिजेरियन ऑपरेशन के लिये सहमत करना आसान हो जाये। इस अन्तर को समझने की जरूरत है और ऐसी दुष्ट, लालची एवं अपराधी महिला चिकित्सकों को कानून के शिकंजे में लाकर जेल में डलवाने की जरूरत हैं। यपि यह काम बेहद कठिन है, लेकिन आम व्यक्ति इस बात के लिये अपने आपको तैयार करले तो कुछ भी मुश्किल या असम्भव नहीं है। हर व्यक्ति का यह दायित्व है कि लालची और अपराधी प्रवृत्ति की उन सभी प्रसूता रोग विशेषज्ञ चिकित्सकों को खोज-खोज करके पकडवाया जावे और माताओं एवं बहनों के जीवन को सुरक्षित किया जावे।
    क्या विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्लू एच ओ) की ओर से पिछले दिनों जारी की गयी यह खबर दिल दहला देने वाली नहीं है कि हमारे देश में माताओं के ज्यादातर सिजेरियन ऑपरेशन अस्पतालों द्वारा पैसा कमाने के मकसद से फिजूल में कराए जाते हैं और इस प्रकार के ऑपरेशन यह जानते हुए भी होते हैं कि इनसे माता और शिशु की जान जाने सहित अन्य जोखिम बढ जाते हैं।
    विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्लूएचओ) द्वारा माता व नवजात शिशुओं के स्वास्थ्य को लेकर किए गए वैश्विक सर्वेक्षण में भारत सहित नौ एशियाई देशों में 2007-08 में सिजेरियन ऑपरेशनों में 27 फीसदी की वृद्धि दर्ज की गई है। देश में 18 फीसदी डिलीवरी सिजेरियन ऑपरेशन से हुई हैं। इसमें सबसे चिंताजनक बात यह है कि दिल्ली, मुंबई जैसे शहरों के निजी अस्पतालों में इस तरह के मामले पांच प्रतिशत से बढकर 65 फीसदी तक पहुंच गए हैं। डब्लूएचओ की सूची में चीन सबसे ऊपर है, जहां 46 फीसदी डिलीवरी सिजेरियन ऑपरेशन से होती हैं। सबसे दुखद बात तो यह है कि इसका कारण आकस्मिक चिकित्सा जरूरत नहीं बल्कि पैसा कमाने की लालसा है।

     – डॉ. पुरुषोत्तम मीणा ‘निरंकुश’

    माता और बच्चे के हित के लिए साभार 

    2 comments:

    रेखा श्रीवास्तव said...

    bahut samasamayik lekh prastut kiya hai . ye bat bilkul sach hai ki khastaur par nursing home men to yah ek aamadani ka badhiya jariya hai . sarakari aspatal men arthk drishti se kamajor log hi jate hain aisa nahin ki vahan par kaabil doctor nahin hai lekin hamari apani manasikata bhi aise ho chuki hai ki ham khud ko bada mahasoos karte hain .
    aaj samanya prasav kee bat to kam hi sunane ko milati hai . kuchh to aajkal kee mahilaayen prasav peeda ko sahan na karne ke liye bhi operation karvana pasand karne lagi hain. lekin isamen doctor kee aamadani ka jariya sabse bada hai . lekin ho kya sakata hai ?

    shikha kaushik said...

    SACH AAJ YE EK PAISA KAMANE KA DHANDHA BAN GAYA HAI .

    There was an error in this gadget

    Followers

    प्यारी माँ

    Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
    • आस अभी ज़िंदा है - जब साँझ का धुँधलका हो मन कहीं खोया हुआ हो सूचना होगी ऐसी मन में उदासी भर देगी पर हर वक्त का नकारात्मक सोच जीवन का सुकून हर लेगा यदि दीप जलाने का...
    • कब साकार होगा नशा मुक्त देवभूमि का सपना - जब कोई हमारी प्रकृति की सुरम्य पहाड़ियों की गोद में बसे देवता, ऋषि-मुनियों एवं तपस्वियों की निवास स्थली देवभूमि उत्तराखंड की चर्चाएं मद्यपान के फलते-फूलते क...
    • मैं नदी हूँ - बहती रही अथक निरंतर मैं सदियों से करती रही धरा अभिसिन्चित मैं सदियों से साधना वैद
    • क्या आदमी सच में आदमी है ? - [image: Image result for buffalo with man free images] ''आदमी '' प्रकृति की सर्वोत्कृष्ट कृति है .आदमी को इंसान भी कहते हैं , मानव भी कहते हैं ,इसी कारण आ...
    • तू इसमें रहेगा और यह तुझ में रहेगा - प्रेम में डूबे जोड़े हम सब की नजरों से गुजरे हैं, एक दूजे में खोये, किसी भी आहट से अनजान और किसी की दखल से बेहद दुखी। मुझे लगने लगा है कि मैं भी ऐसी ही प्र...
    • वह जीने लगी है... - अब नहीं होती उसकी आँखे नम जब मिलते हैं अपने अब नहीं भीगतीं उसकी पलके देखकर टूटते सपने। अब नहीं छूटती उसकी रुलाई किसी के उल्हानो से अब नहीं मरती उसकी भूख कि...
    • ये है सरकारी होली :) - सरकार आपको होली तक फ्री राइड करवाएगी फिर वो बस हो ऑटो टैक्सी या फिर मेट्रो क्योंकि यदि नोट लेकर निकले और किसी ने रंग भरा गुब्बारा मार दिया तो आपकी तो बल्ले...
    • तुम और मैं -८ - *.....तुम !* *स्याह लफ्ज़ों में लिपटे ख़यालात हो* *और मैं...* *उन ख़यालों की ताबीर |* *एक एहसास की नज़्म* *आज भी ...* *जिन्दा है तुम्हारे मेरे बीच !!* *सु-म...
    • जाने कहाँ गया वो दिन??? - "आज कुछ special बना दो, Sunday है... " ... अभी तो परसों कढ़ाही पनीर बनी थी... "सुनो, मैं अपने दोस्तों से मिल कर आ रहा हूँ, वो आज Sunday है न..." ... हाँ, द...
    • अधूरे हम... - एक युवक बगीचे में खिन्न मुद्रा में बैठा था । एक बुजुर्ग ने उस परेशान युवक से पूछा - क्या हुआ बेटा क्यूं इतने परेशान हो ? युव...
    • टी-पाट - *टी-पाट* *कहानी-पूनम श्रीवास्तव * *छनाक की तेज आवाज हुयी और उज्ज्वला कुछ लिखते लिखते चौंक पड़ी।फिर बोली क्या हुआ?क्या टूटा ?अ...
    • नया साल ! - समर घर से निकला तो पत्नी और बच्चों के लिए गिफ्ट पहले ही खरीदता हुआ होटल पहुंचा था। रात में प्रोग्राम ख़त्म करके सीधे घर भागेगा क्यो...
    • - * गज़ल * तमन्ना सर फरोशी की लिये आगे खड़ा होता मैं क़िसमत का धनी होता बतन पर गर फना होता अगर माकूल से माहौल में मैं भी पला होता मेरा जीने का मक़सद आसमां से भी ...
    • वेदों में गायन कला - *- डॉ. शरद सिंह* *गायन मानव की संवेदनाओं को जागृत करता है.आज दुनिया भर में संगीत के महत्व पर वैज्ञानिक शोध हो रहे हैं . पाश्चात्य जगत के व...
    • भ्रष्ट आचार - स्वतंत्र भारत की नीव में उस समय के नेताओं ने अपनी महत्त्वाकांक्षाओं के रख दिये थे भ्रष्ट आचार फिर देश से कैसे खत्म हो भ्रष्टाचार ?
    • उदास आँखों में छुपी झुर्रियों की दास्तान (भाग -9) - *(रात में बेटी के फोन की आवाज़ से जग कर वे,अपना पुराना जीवन याद करने लगती > हैं.उनकी चार बेटियों और दो बेटों से घर गुलज़ार रहता. पति गाँव के स्कूल में > ...

    मन की दुनिया

    नारी का पूर्ण सशक्तिकरण

     
    Copyright (c) 2010 प्यारी माँ. All rights reserved.