पैसा, शोहरत और बेक़ैद आज़ादी का नाम कामयाबी नहीं है Success

Posted on
  • Friday, June 7, 2013
  • by
  • DR. ANWER JAMAL
  • in
  • Labels:
  • ज़िया ख़ान मर गई. उसने 3 दिन पहले पंखे से लटक कर खुदकुशी कर ली थी. पोस्टमार्टम रिपोर्ट में आया है कि मरने से पहले उसने शराब भी पी थी. मरने से पहले उसने सूरज पंचोली को फ़ोन किया था. अखबारों के मुताबिक़- 
    बॉलिवुड ऐक्ट्रेस जिया खान की खुदकुशी केस में सूरज पंचोली के अलावा एक नाम बार-बार आ रहा है और वह है नीलू। जुहू पुलिस ने बुधवार को इस नीलू के रहस्य से पर्दा उठाया। पहले शक किया जा रहा था कि यह नीलू सूरज और जिया की प्रेम कहानी का एक तीसरा कोण है, पर जुहू पुलिस के एक अधिकारी ने एनबीटी को बताया कि यह नीलू किसी कम उम्र की लड़की का नाम नहीं, एक महिला का है। यह नीलू पेश से जूलर है। शायद जूलरी की शॉपिंग के दौरान जिया और सूरज की नीलू से पहचान हुई होगी।
    पुलिस सूत्रों के मुताबिक, सोमवार रात को जब जिया ने सूरज को अपने घर मिलने के लिए एसएमएस किया, तो सूरज ने कहा कि उसे नीलू से 10 बजे मिलने जाना है। इसके कुछ घंटे बाद जब जिया ने नीलू को फोन किया कि क्या आपके यहां सूरज है, तो नीलू ने कहा कि नहीं, वह तो कल आनेवाला है। इस पर जिया ने मान लिया कि शायद सूरज किसी और लड़की के पास गया है। इसी को लेकर वह सूरज पर भड़क उठी।
    बाद में सूरज ने नीलू से जिया की गलतफहमी को दूर करने के लिए फोन भी करवाया, पर तब तक बहुत देर हो चुकी थी। सूरज ने पुलिस को बताया कि वह जिया को नीलू से मिलने से जुड़े एसएमएस में दस बजे के साथ एएम (यानी अगले दिन सुबह दस बजे) लिखना भूल गया था, इसलिए यह गलतफहमी हुई।
    सूरज ने पुलिस को यह भी बताया कि वह और जिया करीब एक साल से रिलेशनशिप में थे। करीब आठ महीने पहले जब जिया ने खुदकुशी की पहली बार कोशिश की थी, तो सूरज के पिता आदित्य ने सूरज को जिया से अलग रहने की सलाह दी थी। लेकिन सूरज ने फिर भी यह रिश्ते बनाए रखे। सूरज ने बाद में जिया की मां रबिया को लंदन फोन किया और उसे अपनी बेटी के साथ मुंबई रहने की सलाह दी।
    आदमी कामयाबी पाना चाहता है क्योंकि वह कामयाबी पाने के लिये ही बना है. 
    ...लेकिन असल में इंसान को सबसे पहले यह समझना होगा कि कामयाबी किसे कहते हैं ?
    पैसा, शोहरत और बेक़ैद आज़ादी पा लेने का नाम कामयाबी नहीं है और न ही कोई भी आदमी खुद से तय कर सकता है कि कामयाबी क्या है ?
    काम को पूरा कर लेने का नाम कामयाबी या सफलता है.
    इंसान का काम या कर्म क्या है ?
    इसे जानने के लिये ही ईश्वर की ज़रूरत पड़ती है . 
    कर्म ही धर्म है .
    आज इंसान ईश्वर और धर्म से कटकर जी रहा है और इस जीने के हाथों मर रहा है .
    हमने बार बार कहा है कि आत्महत्या करने वालों को अपना आदर्श न बनाएं. जो इनका अनुसरण करता है या इनके जैसा बनना चाहता है वह भी आत्महत्या के मार्ग पर चल पड़ता है.
    एक ताज़ा ख़बर हमारे इस दावे की दलील है -

    जिया खान के गम में 12 साल के लड़के ने दी जान

    2 comments:

    तुषार राज रस्तोगी said...

    बेहद दुःख की बात है यह | भगवान् जिया खान की आत्मा को शांति प्रदान करे |

    रविकर said...

    बेबाक विश्लेषण-
    सचेत करती प्रस्तुति-

    There was an error in this gadget

    Followers

    प्यारी माँ

    Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
    • बनोगी उसकी ही कठपुतली - [image: Image result for kathputli image] माथे ऊपर हाथ वो धरकर बैठी पत्थर सी होकर जीवन अब ये कैसे चलेगा चले गए जब पिया छोड़कर ..................................
    • गुटर गूं के अतिरिक्त नहीं है जीवन - #हिन्दी_ब्लागिंग मसूरी में देखे थे देवदार के वृक्ष, लम्बे इतने की मानो आकाश को छूने की होड़ लगी हो और गहरे इतने की जमीन तलाशनी पड़े। पेड़ जहाँ उगते हैं, वे ...
    • 'वो सफ़र था कि मुकाम था' - मेरी नज़र से - Maitreyi Pushpa जी की लिखी संस्मरणात्मक पुस्तक पर मेरे द्वारा लिखी समीक्षा "शिवना साहित्यिकी" के जुलाई-सितम्बर 2017 अंक में प्रकाशित हुई है ......जो चित्र...
    • कुण्डली हाइकू - गाड़ी न छूटे वक्त पर पहुँचो पकड़ो गाड़ी दबंग बनो किसीसे मत डरो रहो दबंग राज़ की बात किया जो परिहास दुःख का राज़ दिया जलाया घर भी जला दिया क्यों दर...
    • एक पिता की फ़रियाद - हमने भी जिया है जीवन ! मर्यादाओं के साथ ! मूल्यों के साथ ! सीमाओं में रह कर ! अनुशासन के साथ ! जीवन तुम भी जी रहे हो ! लेकिन अपनी शर्तों के साथ ! नितांत...
    • सावन का वह सोमवार... - लड़कियों का स्कूल हो तो सावन के पहले सोमवार पर पूरा नहीं तो आधा स्कूल तो व्रत में दिखता ही था. अपने स्कूल का भी यही हाल था. सावन के सोमवारों में गीले बाल ...
    • संत कबीर के गुरु विषयक बोल - गु अँधियारी जानिये, रु कहिये परकाश । मिटि अज्ञाने ज्ञान दे, गुरु नाम है तास ॥ जो गुरु को तो गम नहीं, पाहन दिया बताय । शिष शोधे बिन सेइया, पार न पहुँचा जाए ...
    • - गज़ल 1 मुहब्बत से रिश्ता बनाया गया उसे टूटते रोज पाया गया मुहब्बत पे उसकी उठी अँगुलियाँ सरे बज़्म रुसवा कराया गया यहाँ झूठ बिकता बड़े भाव पर मगर सच को ठेंगा द...
    • बस यूँ ही ~ 2 - *मैं जिंदा तो हूँ , जिंदगी नहीं है मुझमें * *फक़त साँस चल रही है ज़िस्म फ़ना होने तक !!* *सु-मन *
    • माँ तुझे प्रणाम - *माँ तुझे प्रणाम* *शत शत नमन कोटि प्रणाम * *माँ तुझे प्रणाम ।* *जब मैं तेरी कोख में आई * *तूने स्पर्श से बताया था * *ममता का कोई मोल नहीं * *तूने ही सि...
    • जाने कहाँ गया वो दिन??? - "आज कुछ special बना दो, Sunday है... " ... अभी तो परसों कढ़ाही पनीर बनी थी... "सुनो, मैं अपने दोस्तों से मिल कर आ रहा हूँ, वो आज Sunday है न..." ... हाँ, द...
    • अधूरे हम... - एक युवक बगीचे में खिन्न मुद्रा में बैठा था । एक बुजुर्ग ने उस परेशान युवक से पूछा - क्या हुआ बेटा क्यूं इतने परेशान हो ? युव...
    • नया साल ! - समर घर से निकला तो पत्नी और बच्चों के लिए गिफ्ट पहले ही खरीदता हुआ होटल पहुंचा था। रात में प्रोग्राम ख़त्म करके सीधे घर भागेगा क्यो...
    • वेदों में गायन कला - *- डॉ. शरद सिंह* *गायन मानव की संवेदनाओं को जागृत करता है.आज दुनिया भर में संगीत के महत्व पर वैज्ञानिक शोध हो रहे हैं . पाश्चात्य जगत के व...
    • भ्रष्ट आचार - स्वतंत्र भारत की नीव में उस समय के नेताओं ने अपनी महत्त्वाकांक्षाओं के रख दिये थे भ्रष्ट आचार फिर देश से कैसे खत्म हो भ्रष्टाचार ?
    • उदास आँखों में छुपी झुर्रियों की दास्तान (भाग -9) - *(रात में बेटी के फोन की आवाज़ से जग कर वे,अपना पुराना जीवन याद करने लगती > हैं.उनकी चार बेटियों और दो बेटों से घर गुलज़ार रहता. पति गाँव के स्कूल में > ...

    मन की दुनिया

    नारी का पूर्ण सशक्तिकरण

    • कठपुतली - [image: Image result for kathputli image] माथे ऊपर हाथ वो धरकर बैठी पत्थर सी होकर जीवन अब ये कैसे चलेगा चले गए जब पिया छोड़कर ..................................
      7 hours ago
     
    Copyright (c) 2010 प्यारी माँ. All rights reserved.