सेक्स और क्राइम की दलदल से अपनी नस्ल को कैसे बचाएं ?

Posted on
  • Tuesday, June 19, 2012
  • by
  • DR. ANWER JAMAL
  • in
  • पल्लवी सक्सेना जी बता रही हैं एक सच्ची घटना 


    करे कोई भरे कोई ... 

    कल की ही बात है मेरे शहर भोपाल में मेरे घर के पास एक दवाई की दुकान है जिसे एक पिता पुत्र  मिलकर चलाते थे ,उन अंकल से अर्थात दुकान के मालिक की मेरे पापा के साथ बहुत अच्छी दोस्ती हो गयी थी। कल अचानक पता चला कि उनके 22 साल के लड़के ने आत्महत्या कर ली। जानकार बेहद अफसोस हुआ। इस सारे मामले के पीछे की जो कहानी मेरे पापा को उन्होंने जो सुनाई और मेरे पापा ने जो मुझे बताया वही आपके सामने रख रही हूँ।

    हुआ यूं कि उनका बेटा न जाने कैसे एक-के बाद एक कुछ स्त्रियों के चक्कर में फंस गया उसकी ज़िंदगी में आने वाली तीनों लड़कियों में से दो ने उसे प्यार में धोखा दिया तीसरी बार एक महिला जो खुद 2 बच्चों की माँ थी उसने उसके साथ सहानभूति रखते हुए संबंध बनाए और एक दिन हद पार हो जाने के बाद उसका वीडियो बना कर उस लड़के को ब्लैकमेल करना शुरू कर दिया। बदले में मांगी 5 लाख रुपये की धनराशि, एक दिन पुत्र ने पिता के पास आकर कहा पापा मुझे 5 लाख रूपय चाहिए पिता ने कहा 5 क्या तुम 7 लाख ले लेना, मगर पहले कारण तो बताओ कि आखिर तुमको इतने पैसे क्यूँ चाहिए। तब उसने अपने पापा को सारी सच्चाई बताई अब इतने सारे पैसे आज की तारीख में कोई घर में तो रखता नहीं है सो पिता ने कहा ठीक है मुझे दो-तीन दिन का वक्त दो मैं कुछ इंतजाम करता हूँ और मन ही मन  उन्होंने सोचा इस बहाने एक दो दिन सोचने का भी समय मिल जायेगा कि इस मामले में और क्या किया जा सकता है, मगर हाय रे यह आजकल की नासबरी जनरेशन उसने उस औरत और उसके पति के दवारा दी हुई धमकियों के डर से अगले दिन ही आत्महत्या कर ली, उन अंकल के एक बेटी भी है जिसकी शादी हो चुकी है कल तक बेटा भी था जो अब नहीं रहा। ऐसे में वो बहुत टूट गए हैं उनका कहना है अब मैं कमाऊँ तो किसके लिए अब कमाई की न तो बहुत जरूरत है न कोई अरमान, ऊपर से उनकी दुकान पर आने वाले लोग उनसे मुंह छुपाकर किन्तु उन्हीं के सामने उनके बेटे के लिए अभद्र बातें करते है जिसके चलते अंकल से सहा नहीं जाता और वो दुकान बंद करके कहीं एकांत में जाकर बहुत रोते हैं।

    1. जिसने ख़ता की वह आत्महत्या करके मर गया लेकिन जिस औरत ने उसे ब्लेकमेल किया उसके खिलाफ कानूनी कार्रवाई ज़रूर करनी चाहिए हालाँकि उसके जुर्म को साबित कर पाना बड़ा मुश्किल है.
      बच्चे आत्महत्या न करें इसके लिए माँ बाप को बचपन से ही उनके सामने उन लोगों का चरित्र नहीं आने देना चाहिए जिन्होंने समस्या पड़ने पर खुद आत्महत्या कर ली.
      जिन लोगों ने आत्महत्या की है उन्हें कभी आदर्श बनाकर पेश न किया जाए. गलत लोगों को आदर्श बनाया जायेगा तो बच्चे उनके रास्ते पर चल सकते हैं.
      एक सच्चे आदर्श व्यक्ति का अनुसरण किये बिना समाज का दुःख कम होने वाला नहीं है.

      युवक के पिता के साथ हमारी संवेदनाएं हैं.

      1. @जिन लोगों ने आत्महत्या की है
        उन्हें कभी आदर्श बनाकर पेश न
        किया जाए. गलत
        लोगों को आदर्श
        बनाया जायेगा तो बच्चे उनके
        रास्ते पर चल सकते हैं
        जमाल साहब,यहाँ कौन ये कह रहा हैं कि आत्महत्या करने वाले को आदर्श बनाया जाए.इस बात को यहाँ डालने का मतलब?और यदि आपको सवाल उठाने ही हैं तो सीधे शब्दों में उठाइए लोग जवाब भी देंगे.मैंने एक बार पहले भी आपसे निवेदन किया था कि कम से कम महिलाओं के मुद्दों को अपने धर्म को लेकर रुटीन झगडों से दूर रखें.आप इस्लाम की अच्छी शिक्षाओं पर बात करिए न.बाकी हिंदू धर्म की तो विशेषता रही हैं अपने मिथकों और परंपराओं की तार्किक व्याख्या की.इतनी स्वतंत्रता तो हमें हैं कि हम अपने अराध्यों तक को सवालों के घेरे में ला सकते हैं और उन पर भी सवाल उठा सकते हैं इसके लिए हमें धर्मगुरुओं के फतवों का भी डर नहीं है.यही कारण हैं कि हिंदू धर्म दुनिया में सबसे कम समय में सबसे अधिक बदलावों को स्वीकार करने वाला धर्म हैं.एक नास्तिक होते हुए भी मुझे हिंदू धर्म की यह विशेषता अपने आपमें अनूठी लगती हैं.

      2. @ राजन जी ! हमने कोई प्रश्न नहीं उठाया है बल्कि उस कारण की तरफ इशारा किया है जिसकी वजह से युवा ही नहीं बल्कि बच्चे भी आत्महत्या कर रहे हैं . आत्महत्या ही नहीं बल्कि ह्त्या भी कर रहे हैं .

        आज ज़्यादातर लोग किसी धार्मिक हस्ती को आदर्श मानकर जिंदगी नहीं गुज़ार रहे हैं . आज लोगों के रोल मॉडल फ़िल्मी एक्टर्स हैं. परदे पर ये जो कुछ करते हैं उसे युवा और बच्चे अपने जीवन में उतारने की कोशिश करते हैं. इसी चक्कर में वे सेक्स और क्राइम की दलदल में फँस जाते हैं.
        दिव्या भारती जैसे कई फ़िल्मी सितारे हैं जो ख़ुदकुशी करके अपनी जान दे चुके हैं. युवा और बच्चे आजा अपना ज्यादा वक़्त इनकी फ़िल्में देखकर ही गुज़ार रहा है . उन्हें बचाना है तो उन्हें इनके असर से निकालना ज़रूरी है और उन्हें एक सही आदर्श व्यक्ति का परिचय हमें देना ही होगा. आखिर सवाल करोड़ों जीवन बचने का है.

        इतने सादा से कमेन्ट पर भी आपने ऐतराज़ जता दिया है और ले जाकर हिन्दू धर्म से जोड़ दिया.

        हिन्दू धर्म महान है . यह सही बात है. मैं खुद भी 'यूनिक हिन्दू' हूँ. यूनिक इसलिए कि मैं मनु के धर्म को जानता हूँ और उसका पालन भी करता हूँ जोकि आप नहीं करते.

        देखिये क़ुर'आन , सूरा ए शूरा की 13 वीं आयत .

    Source : http://mhare-anubhav.blogspot.in/2012/06/blog-post_18.html

    6 comments:

    dheerendra said...

    अगर माँ बाप शुरू से बच्चों के दिन भर के क्रिया कलाप पर ध्यान रखे तो शायद ये नौबत नही आती,,,,,

    RECENT POST ,,,,,पर याद छोड़ जायेगें,,,,,

    डा. श्याम गुप्त said...

    ----par is post men kaise bachayen .ye kahan bataya gaya hai gaya hai...jo sheershak hai..?

    --- sirf ek kahanee/ ghatana varnan karane se kyaa matalab nikalata hai...

    -- esee bekar ke post likh kar samay jaya n karen...

    DR. ANWER JAMAL said...

    @ डा. श्याम गुप्ता जी ! नफ़रत और संकीर्णता छोड़कर देखा होता तो आपको हल नज़र आ जाता . हमने बताया है कि आदर्श चरित्र का अनुसरण किया जाए तो नई नस्ल को आत्महत्या से बचाया जा सकता है.

    सुखदरशन सेखों (दरशन दरवेश) said...

    ये रचनाएँ हर आम के पास जानी चाहिए | बेहतरीन !!

    मनोज कुमार said...

    दवाब, मानसिकता और ग़लत चयन इन सब के कारण आज ऐसी स्थिति पैदा हो गई है।
    आपने सही कहा है लोग आज ग़लत रोल मॉडल भी चुनने लगे हैं।

    Dr. Ayaz Ahmad said...

    आज भारत में हर चौथे मिनट पर एक नागरिक आत्महत्या कर रहा है. हरेक उम्र के आदमी मर रहे हैं. अमीर ग़रीब सब मर रहे हैं. उत्तर दक्षिण में सब जगह मर रहे हैं। हिन्दू मुस्लिम सिख इसाई सब मर रहे हैं। बच्चे भी मर रहे हैं। जिनके एक दो हैं वे ज्यादा मर रहे हैं और जिनके दस पांच हैं वे कम मर रहे हैं। जिनके एक बच्चा था और वही मर गया तो माँ बाप का परिवार नियोजन सारा रखा रह जाता है। दस पांच में से एक चला जाता है तो भी माँ बाप के जीने के सहारे बाक़ी रहते हैं। जिन्हें दुनिया ने कम करना चाहा वे बढ़ रहे हैं और जो दूसरों का हक़ भी अपनी औलाद के लिए समेट लेना चाहते थे उनके बच्चे आत्महत्या कर रहे हैं या फिर ड्रग्स लेकर मरने से बदतर जीते रहते हैं।
    कोई अक्लमंद अब इन्हें बचा नहीं सकता। ऊपर वाला ही बचाए तो बचाए .
    लेकिन वह किसी को क्यों बचाए जब वह उसकी मानता ही नहीं .
    जिसके सुनने के कान हों वह सुन ले।

    There was an error in this gadget

    Followers

    प्यारी माँ

    Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
    • बेघर बेचारी नारी - [image: Image result for poor position of woman image] निकल जाओ मेरे घर से एक पुरुष का ये कहना अपनी पत्नी से आसान बहुत आसान किन्तु क्या घर बनाना उसे बसाना सी...
    • एकाकी मोरनी - बाट निहारूँ कब तक अपना जीवन वारूँ आ जाओ प्रिय तुम पर अपना सर्वस हारूँ सूरज डूबा दूर क्षितिज तक हुआ अंधेरा घिरी घटाएं रिमझिम बरसें टूटे जियरा ...
    • क्या दीवाली लक्ष्मी जयन्ती है? - एक मान्यता के अनुसार दीपावली ‘लक्ष्मी जयन्ती’ अर्थात् लक्ष्मी के जन्मदिन के रूप में मनाई जाती है। निश्चित ही यह कल्पना अर्वाचीन है, क्योंकि प्राचीन देवताओं...
    • दीवाली इस वर्ष - [image: Happy Diwali and swachchhata abhiyan - pics के लिए चित्र परिणाम] जब ज्योति जली विष्णुप्रिया के मंदिर में तम घटा घर के हर कोने का जगमग मन मंदिर हु...
    • अपनी बचा लूं और दूसरे की रीत दूँ - पहली बार अमेरिका 2007 में जाना हुआ था। केलिफोर्निया में रेड-वुड नामक पेड़ का घना जंगल है। हम मीलों-मील चलते रहे लेकिन जंगल का ओर-छोर नहीं मिला। इस जंगल में...
    • हुनर - *समेट लेना खुद को , अपने दायरे में * *सिखा देता है ये हुनर , वक़्त आहिस्ता आहिस्ता !!* *सु-मन *
    • We never can change our history - Dr Sharad Singh - *Dr Sharad Singh, * *Author & Historian**Thought of the Day* *History give us a chance to change ourselves but we never can change our history.* *- Dr Shar...
    • झूठ की लंका ! - गाँव में समाधान बैठक होने वाली थी और उसमें मंत्रीजी का आना तय था। सरपंच गाँव में माहौल बनाने के लिए लोगों को पहले से स...
    • - * गज़ल * बेवफाई के नाम लिखती हूँ आशिकी पर कलाम लिखती हूँ खत में जब अपना नाम लिखती हूँ मैं हूँ उसकी जिमाम लिखती हूँ आँखों का रंग लाल देखूँ तो उस नज़र को मैं...
    • अँधा युग - गोली और गाली जो बन चुके हैं पर्यायवाची इस अंधे युग की बनकर सौगात लगाते हैं ठिकाने बडबोली जुबान को तुम , तुम्हारी जुबान और तुम्हारी कलम रहन है सत्ता की...
    • नींद बनाम ख्व़ाब - मैंने अपनी नींदें बेच, कुछ ख्वाब खरीदे थे। रख दिया था सहेज कर, उन्हें अपनी पलकों तले। वक़्त की बारिशों औ आंधी से, कुछ उड़ गए, कुछ बह गए। कुछ को बचाया जतन...
    • माँ तुझे प्रणाम - *माँ तुझे प्रणाम* *शत शत नमन कोटि प्रणाम * *माँ तुझे प्रणाम ।* *जब मैं तेरी कोख में आई * *तूने स्पर्श से बताया था * *ममता का कोई मोल नहीं * *तूने ही सि...
    • जाने कहाँ गया वो दिन??? - "आज कुछ special बना दो, Sunday है... " ... अभी तो परसों कढ़ाही पनीर बनी थी... "सुनो, मैं अपने दोस्तों से मिल कर आ रहा हूँ, वो आज Sunday है न..." ... हाँ, द...
    • अधूरे हम... - एक युवक बगीचे में खिन्न मुद्रा में बैठा था । एक बुजुर्ग ने उस परेशान युवक से पूछा - क्या हुआ बेटा क्यूं इतने परेशान हो ? युव...
    • भ्रष्ट आचार - स्वतंत्र भारत की नीव में उस समय के नेताओं ने अपनी महत्त्वाकांक्षाओं के रख दिये थे भ्रष्ट आचार फिर देश से कैसे खत्म हो भ्रष्टाचार ?
    • उदास आँखों में छुपी झुर्रियों की दास्तान (भाग -4) - *(रात में बेटी के फोन की आवाज़ से वे जग जाती हैं,और पुराना जीवन याद करने लगती हैं.उनकी चार बेटियों और दो बेटों से घर गुलज़ार रहता. पति गाँव के स्कूल में श...

    मन की दुनिया

    नारी का पूर्ण सशक्तिकरण

    • बेघर बेचारी नारी - [image: Image result for poor position of woman image] निकल जाओ मेरे घर से एक पुरुष का ये कहना अपनी पत्नी से आसान बहुत आसान किन्तु क्या घर बनाना उसे बसाना सी...
      1 day ago
     
    Copyright (c) 2010 प्यारी माँ. All rights reserved.