शादी के लिए होती है महिलाओं की खरीद-फरोख्त Women as animal

Posted on
  • Wednesday, April 18, 2012
  • by
  • DR. ANWER JAMAL
  • in
  • Labels:
  • women-sold.jpg
    शादी के लिए होती है महिलाओं की खरीद-फरोख्त
    जयपुर।। राजस्थान में महिलाओं की खरीद-फरोख्त करने वाले मानव तस्कर किस हद तक सक्रिय हैं, इसका बड़ा खुलासा हुआ है। पाली के 47 वर्षीय गोरधन लाल ने 3 महीने के अंदर 3 शादियां कीं, लेकिन उनकी तीनों ही दुल्हन छोड़ कर भाग गईं। जीवन बसाने की कोशिश में उन्होंने मानव तस्करी करने वाले गैंग का सहारा लिया था। उन्होंने तीनों शादियों के लिए गैंग को करीब ढाई लाख रुपये दिए।

    पिछले 3 महीने में उन्होंने मानव तस्करी करने वाले गिरोह से 3 बार महिलाएं खरीदीं। शादी के कुछ दिन बाद ही तीनों गोरधन को छोड़ कर भाग गईं। पिछले हफ्ते ही तीसरी वाली महिला जब भागी तो उन्होंने इसकी शिकायत पुलिस से की। पुलिस ने ट्रेस कर रविवार को उस महिला को अजमेर से बरामद कर लिया और लाकर गोरधन लाल को सौंप दिया, लेकिन उन्होंने अपनी पत्नी को अपनाने से इनकार कर दिया।

    गोरधन लाल ने पाली के इंडस्ट्रीयल एरिया पुलिस स्टेशन में रिपोर्ट दर्ज करवाई है कि पुलिस उस गैंग के खिलाफ कार्रवाई करे, जिसने उन्हें महाराष्ट्र से लाकर इस महिला को बेचा था।

    इंस्पेक्टर जगत सिंह ने बताया कि गोरधन लाल प्रताप नगर में जूतों की एक दुकान चलाते हैं। उन्होंने पिछले हफ्ते हमसे संपर्क किया कि उनकी पत्नी मिसिंग है। उन्होंने शिकायत में बताया गया था कि वह अपनी पत्नी के साथ अजमेर जूते लेने गए थे। वहीं से वह भाग गई थीं।

    अपनी शिकायत में गोरधन ने बताया है कि महाराष्ट्र के अकोला की रहने वाली नूरजहां से उन्होंने इस महिला को खरीदा था, जो उनकी तीसरी पत्नी बनी। नूरजहां से उसे जोधपुर की शाजिया ने मिलवाया था। गोरधन के मुताबिक जनवरी और फरवरी में मानव तस्करी करने वालों से उन्होंने 2 बार 2 औरतों को शादी के लिए खरीदा था। इसकी जांच भी पुलिस कर रही है। महिलाओं की खरीद-फरोख्त यूपी, बिहार, वेस्ट बंगाल, असाम और उड़ीसा के पिछडे़ इलाकों से बड़ पैमाने पर की जाती है। 
    Source : http://navbharattimes.indiatimes.com/articleshow/12502340.cms

    5 comments:

    dheerendra said...

    बहुत बढ़िया विचारणीय प्रस्तुति,....

    MY RECENT POST काव्यान्जलि ...: कवि,...

    sangita said...

    sharm aati hae aese logon ke karan jo rishton ki chhichhaledar karte haen.

    शिखा कौशिक said...

    SHARMNAK ..

    neha joy chauhan said...

    mujhe to ye jan ke hairani hai ki police ko aurato ki kharid ke bare mein pata tha.. fir bhi unhone us mahila ko pakad kar wapad gordhan ko de diya...

    Ramakant Singh said...

    विचारणीय प्रस्तुति,....

    There was an error in this gadget

    Followers

    प्यारी माँ

    Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
    • क्या दीवाली लक्ष्मी जयन्ती है? - एक मान्यता के अनुसार दीपावली ‘लक्ष्मी जयन्ती’ अर्थात् लक्ष्मी के जन्मदिन के रूप में मनाई जाती है। निश्चित ही यह कल्पना अर्वाचीन है, क्योंकि प्राचीन देवताओं...
    • जीएसटी ने मारा धक्का ,मुंह खोले महंगाई खड़ी ..... - वसुंधरा के हर कोने को जगमग आज बनायेंगे , जाति-धर्म का भेद-भूलकर मिलकर दीप जलाएंगे . ..........................................................................
    • दीवाली इस वर्ष - [image: Happy Diwali and swachchhata abhiyan - pics के लिए चित्र परिणाम] जब ज्योति जली विष्णुप्रिया के मंदिर में तम घटा घर के हर कोने का जगमग मन मंदिर हु...
    • अपनी बचा लूं और दूसरे की रीत दूँ - पहली बार अमेरिका 2007 में जाना हुआ था। केलिफोर्निया में रेड-वुड नामक पेड़ का घना जंगल है। हम मीलों-मील चलते रहे लेकिन जंगल का ओर-छोर नहीं मिला। इस जंगल में...
    • खूँटा - तुमने ही तो कहा था कि मुझे खुद को तलाशना होगा अपने अन्दर छिपी तमाम अनछुई अनगढ़ संभावनाओं को सँवार कर स्वयं ही तराशना होगा अपना लक्ष्य निर्धारित करना ह...
    • हुनर - *समेट लेना खुद को , अपने दायरे में * *सिखा देता है ये हुनर , वक़्त आहिस्ता आहिस्ता !!* *सु-मन *
    • We never can change our history - Dr Sharad Singh - *Dr Sharad Singh, * *Author & Historian**Thought of the Day* *History give us a chance to change ourselves but we never can change our history.* *- Dr Shar...
    • झूठ की लंका ! - गाँव में समाधान बैठक होने वाली थी और उसमें मंत्रीजी का आना तय था। सरपंच गाँव में माहौल बनाने के लिए लोगों को पहले से स...
    • - * गज़ल * बेवफाई के नाम लिखती हूँ आशिकी पर कलाम लिखती हूँ खत में जब अपना नाम लिखती हूँ मैं हूँ उसकी जिमाम लिखती हूँ आँखों का रंग लाल देखूँ तो उस नज़र को मैं...
    • अँधा युग - गोली और गाली जो बन चुके हैं पर्यायवाची इस अंधे युग की बनकर सौगात लगाते हैं ठिकाने बडबोली जुबान को तुम , तुम्हारी जुबान और तुम्हारी कलम रहन है सत्ता की...
    • नींद बनाम ख्व़ाब - मैंने अपनी नींदें बेच, कुछ ख्वाब खरीदे थे। रख दिया था सहेज कर, उन्हें अपनी पलकों तले। वक़्त की बारिशों औ आंधी से, कुछ उड़ गए, कुछ बह गए। कुछ को बचाया जतन...
    • माँ तुझे प्रणाम - *माँ तुझे प्रणाम* *शत शत नमन कोटि प्रणाम * *माँ तुझे प्रणाम ।* *जब मैं तेरी कोख में आई * *तूने स्पर्श से बताया था * *ममता का कोई मोल नहीं * *तूने ही सि...
    • जाने कहाँ गया वो दिन??? - "आज कुछ special बना दो, Sunday है... " ... अभी तो परसों कढ़ाही पनीर बनी थी... "सुनो, मैं अपने दोस्तों से मिल कर आ रहा हूँ, वो आज Sunday है न..." ... हाँ, द...
    • अधूरे हम... - एक युवक बगीचे में खिन्न मुद्रा में बैठा था । एक बुजुर्ग ने उस परेशान युवक से पूछा - क्या हुआ बेटा क्यूं इतने परेशान हो ? युव...
    • भ्रष्ट आचार - स्वतंत्र भारत की नीव में उस समय के नेताओं ने अपनी महत्त्वाकांक्षाओं के रख दिये थे भ्रष्ट आचार फिर देश से कैसे खत्म हो भ्रष्टाचार ?
    • उदास आँखों में छुपी झुर्रियों की दास्तान (भाग -4) - *(रात में बेटी के फोन की आवाज़ से वे जग जाती हैं,और पुराना जीवन याद करने लगती हैं.उनकी चार बेटियों और दो बेटों से घर गुलज़ार रहता. पति गाँव के स्कूल में श...

    मन की दुनिया

    नारी का पूर्ण सशक्तिकरण

     
    Copyright (c) 2010 प्यारी माँ. All rights reserved.