कम आयु में विवाह करना ही है बेहतर विकल्प !!

Posted on
  • Wednesday, April 11, 2012
  • by
  • DR. ANWER JAMAL
  • in
  • Labels:
  • एक समय था जब बच्चों के विवाह संबंधी लगभग सभी फैसले परिवार के बड़े और उनके माता-पिता अपनी सूझबूझ से ले लिया करते थे. बच्चों का विवाह किस उम्र में किया जाना चाहिए और उनके लिए कैसा जीवनसाथी उपयुक्त रहेगा आदि जैसे महत्वपूर्ण निर्णय परिवार वालों पर ही निर्भर होते थे. पढ़ाई और व्यक्तिगत इच्छाओं को ज्यादा अहमियत नहीं दी जाती थी और ना ही वर-वधु के आयु को महत्व दिया जाता था. जिसके परिणामस्वरूप कम आयु में ही उन्हें विवाह और बच्चों की जिम्मेदारी निभानी पड़ती थी.


    लेकिन अब समय पूरी तरह बदल चुका है, क्योंकि अब ना सिर्फ पुरुष बल्कि महिलाएं भी कॅरियर के प्रति संजीदगी बरतने लगी हैं. उनके लिए पढ़ाई और कॅरियर दोनों समान महत्व रखते हैं. हालांकि आधुनिक होती मानसिकता के अंतर्गत व्यक्तिगत अपेक्षाओं और आकांक्षाओं को पूरी अहमियत दी जाने लगी है, जिसके परिणामस्वरूप अभिभावक भी अपने बच्चों को जल्दी विवाह करने के लिए बाध्य नहीं करते. लेकिन अगर एक नए अध्ययन की मानें तो वे लोग जो सही उम्र में विवाह नहीं करते उन्हें अपने आगामी वैवाहिक जीवन में विभिन्न परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है.

    विशेषज्ञों का कहना है कि माता या पिता में से किसी एक की भी आयु यदि 35 वर्ष से अधिक  होती है, तो उन्हें ऑटिज्म पीड़ित बच्चे को जन्म देने का खतरा बढ़ जाता है. डेली मेल में प्रकाशित इस रिपोर्ट के अनुसार ब्रिटेन और डेनमार्क में अध्ययन करने वाले शोधकर्ताओं ने पाया कि वे लोग जो ज्यादा उम्र में विवाह बंधन में बंधते हैं उनकी संतान का ऑटिज्म पीड़ित होने की संभावना कई गुणा अधिक बढ़ जाती है.

    उल्लेखनीय है कि कुछ समय पहले तक यह माना जाता था कि वे महिलाएं जो ज्यादा उम्र में बच्चों को जन्म देती हैं केवल उन्हीं के बच्चों के ऑटिज्म पीड़ित होने की संभावना रहती है लेकिन इस शोध के बाद यह प्रमाणित हो गया है कि युवा माता-पिता की तुलना में अधिक आयु वाले माता-पिता को ऑटिज्म पीड़ित संतान होने की आशंका 27 फीसदी तक बढ़ जाती है.

    भले ही यह अध्ययन विदेशी दंपत्तियों को केंद्र में रखकर किया गया है लेकिन अगर इसे भारतीय परिदृश्य के अनुसार भी देखा जाए तो भी हम इसके नतीजों को नकार नहीं सकते. प्राय: यहां भी कॅरियर के आगे विवाह की महत्ता कम पड़ने लगी है. इसीलिए अधिक उम्र में विवाह होना एक सामान्य घटनाक्रम बन चुका है. एक ओर जहां यह बदलाव व्यक्तिगत स्वतंत्रता को चित्रित करता है वहीं स्वास्थ्य और पारिवारिक संरचना के विषय में दिनोंदिन घटती गंभीरता को भी प्रदर्शित कर रहा है.

    Source : http://lifestyle.jagranjunction.com/2012/03/28/right-age-to-get-married-its-better-to-get-married-in-early-age/

    9 comments:

    dheerendra said...

    प्राय: यहां भी कॅरियर के आगे विवाह की महत्ता कम पड़ने लगी है. इसीलिए अधिक उम्र में विवाह होना एक सामान्य घटनाक्रम बन चुका है.
    बेहतरीन आलेख ,बहुत लाजबाब प्रेरक प्रस्तुति,.

    RECENT POST...काव्यान्जलि ...: यदि मै तुमसे कहूँ.....
    RECENT POST...फुहार....: रूप तुम्हारा...

    मनोज कुमार said...

    अधिक उम्र की अनेक समस्याएं हैं।
    दूसरे शब्दों में कहें तो सबकुछ समय से ही अच्छा होता है।

    Sushil Kumar Joshi said...

    हिन्दू धर्म में भी गृह्स्ताश्रम की बात की गयी है उचित समयरेखा के भीतर ।

    रविकर फैजाबादी said...

    आज शुक्रवार
    चर्चा मंच पर
    आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति ||

    charchamanch.blogspot.com

    Dr. shyam gupta said...

    हिन्दू धर्मानुसार चार आश्रम व्यवस्था....ही सत्य है..

    G.N.SHAW said...

    आधुनिकता के परिणाम तो भुगतने ही होंगे !

    kase kahun?by kavita verma said...

    badhati mahtvakanksha ke dushparinam hai ye...

    veerubhai said...

    अच्छी पोस्ट .देर से विवाह के मामलों में सामान्य प्रसव के मौके भी और कम हो जातें हैं.आप सेवा निवृत्त हो जातें हैं बच्चे तब तक . सेटिल नहीं हो पाते .लेकिन अब हम चले आयें हैं उस दौर में जहां नारा है =डबल इनकम नो किड्स यानी "डिंक'''DINK '"का .ज़रा संभल के .

    कुमार राधारमण said...

    ऐसे सर्वेक्षणों के प्रकाशन को तब तक हतोत्साहित किया जाना चाहिए जब तक उनकी सार्वजनिक स्वीकृति नहीं हो जाती। खासकर अधिक उम्र में स्त्रियों के विवाह का निर्णय उनके करिअर से जुड़ा होता है। महिलाओं की आत्मनिर्भरता अब हमारी ज़रूरत है।

    There was an error in this gadget

    Followers

    प्यारी माँ

    Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
    • जीवन की जंग - जीतनी तो थी जीवन की जंग तैयारियाँ भी बहुत की थीं इसके लिए कितनी तलवारें भांजीं कितने हथियारों पर सान चढ़ाई कितने तीर पैने किये कितने चाकुओं पर धार लगाई ...
    • संताप से भरे पुत्र का पत्र - कल एक पुत्र का संताप से भरा पत्र पढ़ने को मिला। उसके साथ ऐसी भयंकर दुर्घटना हुई थी जिसका संताप उसे आजीवन भुगतना ही होगा। पिता आपने शहर में अकेले रहते थे, ...
    • कानून पर कामुकता हावी - [image: Navodayatimes] १६ दिसंबर २०१२ ,दामिनी गैंगरेप कांड ने हिला दिया था सियासत और समाज को ,चारो तरफ चीत्कार मची थी एक युवती के साथ हुई दरिंदगी को लेकर ,आ...
    • ब्रह्म वाक्य - दुःख दर्द आंसू आहें पुकार सब गए बेकार न खुदी बुलंद हुई न खुदा ही मिला ज़िन्दगी को न कोई सिला मिला यहाँ रब एक सम्मोहन है और ज़िन्दगी एक पिंजर और तू म...
    • बस यूँ ही ~ 2 - *मैं जिंदा तो हूँ , जिंदगी नहीं है मुझमें * *फक़त साँस चल रही है ज़िस्म फ़ना होने तक !!* *सु-मन *
    • हेमलासत्ता [भाग- एक] - एक छोटे से गांव खेतासर में हेमला जाट रहता था। उसके घर में दूध, पूत, धन, धान्य सभी था। सभी तरह से उसकी जिन्दगी सुखपूर्वक कट रही थी। उसकी अपनी प्रिय पत्नी से...
    • नंबर रेस का औचित्य? - 10वीं 12वीं का रिजल्ट आया. किसी भी बच्चे के 90% से कम अंक सुनने में नहीं आये. पर इतने पर भी न बच्चा संतुष्ट है न उनके माता पिता। इसके साथ ही सुनने में आया...
    • आइना - है वह आइना तेरा हर अक्स का हिसाब रखता है तू चाहे याद रखे न रखे उसमें जीवंत बना रहता है बिना उसकी अनुमति लिए जब बाहर झाँकता है चाहे कोई भी मुखौटा लगा ल...
    • माँ तुझे प्रणाम - *माँ तुझे प्रणाम* *शत शत नमन कोटि प्रणाम * *माँ तुझे प्रणाम ।* *जब मैं तेरी कोख में आई * *तूने स्पर्श से बताया था * *ममता का कोई मोल नहीं * *तूने ही सि...
    • जाने कहाँ गया वो दिन??? - "आज कुछ special बना दो, Sunday है... " ... अभी तो परसों कढ़ाही पनीर बनी थी... "सुनो, मैं अपने दोस्तों से मिल कर आ रहा हूँ, वो आज Sunday है न..." ... हाँ, द...
    • अधूरे हम... - एक युवक बगीचे में खिन्न मुद्रा में बैठा था । एक बुजुर्ग ने उस परेशान युवक से पूछा - क्या हुआ बेटा क्यूं इतने परेशान हो ? युव...
    • नया साल ! - समर घर से निकला तो पत्नी और बच्चों के लिए गिफ्ट पहले ही खरीदता हुआ होटल पहुंचा था। रात में प्रोग्राम ख़त्म करके सीधे घर भागेगा क्यो...
    • - * गज़ल * तमन्ना सर फरोशी की लिये आगे खड़ा होता मैं क़िसमत का धनी होता बतन पर गर फना होता अगर माकूल से माहौल में मैं भी पला होता मेरा जीने का मक़सद आसमां से भी ...
    • वेदों में गायन कला - *- डॉ. शरद सिंह* *गायन मानव की संवेदनाओं को जागृत करता है.आज दुनिया भर में संगीत के महत्व पर वैज्ञानिक शोध हो रहे हैं . पाश्चात्य जगत के व...
    • भ्रष्ट आचार - स्वतंत्र भारत की नीव में उस समय के नेताओं ने अपनी महत्त्वाकांक्षाओं के रख दिये थे भ्रष्ट आचार फिर देश से कैसे खत्म हो भ्रष्टाचार ?
    • उदास आँखों में छुपी झुर्रियों की दास्तान (भाग -9) - *(रात में बेटी के फोन की आवाज़ से जग कर वे,अपना पुराना जीवन याद करने लगती > हैं.उनकी चार बेटियों और दो बेटों से घर गुलज़ार रहता. पति गाँव के स्कूल में > ...

    मन की दुनिया

    नारी का पूर्ण सशक्तिकरण

    • मेरे मन की.... - मेरी पहली पुस्तक "मेरे मन की" की प्रिंटींग का काम पूरा हो चुका है | और यह पुस्तक बुक स्टोर पर आ चुकी है| आप सब ऑनलाइन गाथा के द्वारा बुक कर सकते है| मेरी...
      8 hours ago
     
    Copyright (c) 2010 प्यारी माँ. All rights reserved.