शिशु गर्भनाल से 130 लाइलाज बीमारियां होंगी छूमंतर Good news

Posted on
  • Friday, September 16, 2011
  • by
  • DR. ANWER JAMAL
  • in
  • Labels: ,
  • शिशु के जन्म के समय बेकार समझ कर फेंक दिए जाने वाले गर्भनाल के जरिए अब कैंसर, ज्यूकेमिया, थैलेसीमिया, शुगर और लीवर सिरोसिस जैसी 130 से अधिक लाइलाज बीमारियों का अचूक इलाज संभव हो गया है।
    गर्भनाल के अमूल्य गुण के कारण अब हजारों रुपए खर्च करके शिशु के गर्भनाल को वर्षों तक सहेज कर रखा जाने लगा है ताकि भविष्य में न केवल उस बच्चे को बल्कि उसके सहोदर भाई-बहन, माता-पिता, दादा-दादी, नाना-नानी या परिवार के अन्य सदस्यों को होने वाली लाइलाज बीमारियों के चंगुल से छुटकारा दिलाया जा सके।
    इसके कारण हमारे देश में दिल्ली, मुंबई और बेंगलुरु जैसे बडे़ शहरों में गर्भनाल को सुरक्षित रखने वाले अनेक बैंकों को अर्विभाव हुआ है। इस प्रणाली को गर्भनाल स्टेम कोशिका बैंकिंग कहा जाता है। इन बैंकों में गर्भनाल में मौजूद स्टेम कोशिकाओं को वर्षों तक संरक्षित रखा जाता है।
    भारत के प्रमुख गर्भनाल रक्त बैंक बेबीसेल में हर महीने देश भर से कम से कम सौ दम्पत्ति अपने बच्चों के गर्भनाल की स्टेम कोशिकाओं को संरक्षित करवाते हैं। इस बैंक के संचालक मुंबई स्थित रिजेनेरेटिव मेडिकल सर्विसेस 'आरएमएस' के प्रमुख वैज्ञानिक अधिकारी डा. सत्रुन सांघवी ने कहा कि हमारे देश में तेजी से गर्भनाल बैंकिंग के बढो़तरी होने का कारण स्टेम कोशिकाओं में गंभीर से गंभीर बीमारियों का कारगर इलाज करने की क्षमता है। इससे वैसी बीमारियों का भी इलाज किया जा सकता है जिनका पारंपरिक तरीके से इलाज नहीं किया जा सकता है। इस तकनीक ने लाखों लोगों में उम्मीद जगाई है कि वे अपनी संतान को रोगमुक्त जीवन दे सकते हैं।
    भारत में ऐसे बैंकों की शुरुआत हुए अभी छह साल भी नहीं हुए हैं लेकिन लोगों में स्टेम कोशिका थैरेपी के प्रति जागरुकता बढ़ने के कारण हमारे यहां तेजी से ऐसे बैंक खुलने लगे हैं। यहां स्थित स्टेम सेल ग्लोबल फाउंडेशन 'एससीजीएफ' के अनुसार भारत में स्टेम कौशिका बैंकिंग का व्यवसाय करीब डेढ सौ करोड़ का हो चुका है और इसमें हर साल 35 प्रतिशत की दर से वृद्धि हो रही है।
    डा. सांघवी के अनुसार बच्चों के जन्म के बाद गर्भनाल को काटे जाने के बाद प्लासेंटा गर्भनाल के संरक्षण के लिए बैंकों के द्वारा अत्यधिक उन्नत तकनीकों का इस्तेमाल किया जाता है। गर्भनाल से रक्त को निकालने के बाद इस रक्त को बैंक में भेजा जाता है जहां इसे संसाधित किया जाता है और शून्य से 196 डिग्री सेल्सियस नीचे के तापमान पर तरल नाइट्रोजन में इसे फ्रीज करके संरक्षित रखा जाता है। इस प्रक्रिया से रक्त को 600 सालों तक सुरक्षित रूप से भंडारित किया जा सकता है।
    गर्भनाल की स्टेम कोशिकाओं को नव प्रसव स्टेम कोशिकाओं के नाम से भी जाना जाता है। स्टेम कोशिकाएं मानव शरीर की मास्टर कोशिकाएं होती हैं जिनमें शरीर के 200 से अधिक प्रकार की कोशिकाओं में से हर कोशिका में विकसित होने की क्षमता होती है। स्टेम कोशिकाओं में जीवन भर विभाजन करने की विशिष्ट क्षमता होती है और मृत हो चुकी कोशिकाओं या क्षतिग्रस्त हो चुकी कोशिकाओं की जगह लेने की क्षमता होती है। इसलिए अब चिकित्सक अस्थि मज्जा जैसे परंपरागत स्रोत की तुलना में गर्भनाल रक्त से स्टेम कोशिकाओं को प्राप्त करने की तरजीह दे रहे हैं।
    विश्व भर में स्टेम कोशिकाओं का इस्तेमाल 130 से अधिक बीमारियों के इलाज के लिए किया जाता है और अनुमान है कि स्टेम कोशिकाओं के इस्तेमाल से विभिन्न बीमारियों के इलाज के लिए 500 से अधिक क्लिनिकल परीक्षण किए जा रहे हैं। इस क्षेत्र में काम करने वाले वैज्ञानिकों का कहना है कि अंधविश्वास और जागरुकता के अभाव के कारण अभी इस तरह की बैंकिंग का वांछित गति से विस्तार नहीं हो रहा है।
    Source : http://www.livehindustan.com/news/lifestyle/jeevenjizyasa/article1-story-50-51-190538.html

    10 comments:

    G.N.SHAW said...

    good post and useful .

    संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

    अच्छी जानकारी दी है ... अपने पोते के जन्म पर हमने गर्भनाल संरक्षित करवाया है ..

    Sadhana Vaid said...

    बहुत ज्ञानवर्धक आलेख ! इस प्रक्रिया से असाध्य बीमारियों का इलाज भी संभव हो सकेगा यह तो सचमुच बड़ी अच्छी बात है ! इस ज्ञान को सही तरीके से विज्ञापित करने की और हर शहर में ऐसे बैंकों के स्थापित किये जाने की बहुत ज़रूरत है जहाँ माता पिता अपने बच्चे के गर्भनाल को संरक्षित करवा सकें ! इस अनमोल ज्ञानवर्धक आलेख के लिये धन्यवाद एवं आभार !

    वाणी गीत said...

    असाध्य रोगों के उपचार की अच्छी तकनीक है ...
    उपयोगी जानकारी !

    रजनी मल्होत्रा नैय्यर said...

    sach me is post ne kafi achhi jankari di.......aabhar

    DR. ANWER JAMAL said...

    हमारी कोशिश रहती है कि मां से संबंधित सभी पहलुओं को सामने लाया जाए और ख़ास तौर पर मां की और उसकी औलाद की सुरक्षा से संबंधित जानकारियों को सामने लाना बहुत ज़रूरी है।
    आपकी नॉलिज में भी अगर कोई जानकारी है तो आप उसे इस मंच पर शेयर करने के लिए मुझे या इस मंच के किसी अन्य सदस्य को ईमेल से सामग्री भेज सकते हैं।

    धन्यवाद !

    veerubhai said...

    बहु गुनी ,अनेक रूपा कलम कोशिकाओं के गुणों रोग निदान के बाद पुख्ता इलाज़ की जानकारी देने वाली एक महत्वपूर्ण पोस्ट के लिए आपको डॉ .अनवर ज़माल साहब बधाई .क्या आप हवा खोरी के लिए बाहर नहीं निकलते ?किसी और ब्लॉग पर अकसर आपको नहीं देखा .

    Rachana said...

    bahut achchhi jankari .ab ma apne bachche ko rog mukt jeevan de sakti hai
    abhar
    saader
    rachana

    Rajesh Kumari said...

    bahut shikshaprad jaankari deti hui post.aabhar.

    संजय भास्कर said...

    अच्छी जानकारी दी है

    There was an error in this gadget

    Followers

    प्यारी माँ

    Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
    • नई फ्रॉक - ‘अम्मी चल ना बाहर ! देख कितनी सुन्दर, चमकीली, सोने चाँदी के तारों से कढ़ी फराकें ले के आया है फेरी वाला ! मुझे भी दिला दे न एक ! मामू की शादी में मैं भी...
    • मीरा कुमार जी को हटाया क्यों नहीं सुषमा जी ? - [image: Image result for sushma swaraj with meira kumar in laughing mood image] विपक्षी दलों ने जब से भाजपा के राष्ट्रपति पद के दलित उम्मीदवार श्री रामनाथ ...
    • हेमलासत्ता (भाग-2) - नाई की बात सुनकर खेतासर के लोग बोले- हेमला से हम हार गए, वह तो एक के बाद एक को मारे जा रहा है, बड़े गांव में भी हम लोगों को चैन से नहीं रहने दे रहा है। हम क...
    • संताप से भरे पुत्र का पत्र - कल एक पुत्र का संताप से भरा पत्र पढ़ने को मिला। उसके साथ ऐसी भयंकर दुर्घटना हुई थी जिसका संताप उसे आजीवन भुगतना ही होगा। पिता आपने शहर में अकेले रहते थे, ...
    • ब्रह्म वाक्य - दुःख दर्द आंसू आहें पुकार सब गए बेकार न खुदी बुलंद हुई न खुदा ही मिला ज़िन्दगी को न कोई सिला मिला यहाँ रब एक सम्मोहन है और ज़िन्दगी एक पिंजर और तू म...
    • बस यूँ ही ~ 2 - *मैं जिंदा तो हूँ , जिंदगी नहीं है मुझमें * *फक़त साँस चल रही है ज़िस्म फ़ना होने तक !!* *सु-मन *
    • नंबर रेस का औचित्य? - 10वीं 12वीं का रिजल्ट आया. किसी भी बच्चे के 90% से कम अंक सुनने में नहीं आये. पर इतने पर भी न बच्चा संतुष्ट है न उनके माता पिता। इसके साथ ही सुनने में आया...
    • आइना - है वह आइना तेरा हर अक्स का हिसाब रखता है तू चाहे याद रखे न रखे उसमें जीवंत बना रहता है बिना उसकी अनुमति लिए जब बाहर झाँकता है चाहे कोई भी मुखौटा लगा ल...
    • माँ तुझे प्रणाम - *माँ तुझे प्रणाम* *शत शत नमन कोटि प्रणाम * *माँ तुझे प्रणाम ।* *जब मैं तेरी कोख में आई * *तूने स्पर्श से बताया था * *ममता का कोई मोल नहीं * *तूने ही सि...
    • जाने कहाँ गया वो दिन??? - "आज कुछ special बना दो, Sunday है... " ... अभी तो परसों कढ़ाही पनीर बनी थी... "सुनो, मैं अपने दोस्तों से मिल कर आ रहा हूँ, वो आज Sunday है न..." ... हाँ, द...
    • अधूरे हम... - एक युवक बगीचे में खिन्न मुद्रा में बैठा था । एक बुजुर्ग ने उस परेशान युवक से पूछा - क्या हुआ बेटा क्यूं इतने परेशान हो ? युव...
    • नया साल ! - समर घर से निकला तो पत्नी और बच्चों के लिए गिफ्ट पहले ही खरीदता हुआ होटल पहुंचा था। रात में प्रोग्राम ख़त्म करके सीधे घर भागेगा क्यो...
    • - * गज़ल * तमन्ना सर फरोशी की लिये आगे खड़ा होता मैं क़िसमत का धनी होता बतन पर गर फना होता अगर माकूल से माहौल में मैं भी पला होता मेरा जीने का मक़सद आसमां से भी ...
    • वेदों में गायन कला - *- डॉ. शरद सिंह* *गायन मानव की संवेदनाओं को जागृत करता है.आज दुनिया भर में संगीत के महत्व पर वैज्ञानिक शोध हो रहे हैं . पाश्चात्य जगत के व...
    • भ्रष्ट आचार - स्वतंत्र भारत की नीव में उस समय के नेताओं ने अपनी महत्त्वाकांक्षाओं के रख दिये थे भ्रष्ट आचार फिर देश से कैसे खत्म हो भ्रष्टाचार ?
    • उदास आँखों में छुपी झुर्रियों की दास्तान (भाग -9) - *(रात में बेटी के फोन की आवाज़ से जग कर वे,अपना पुराना जीवन याद करने लगती > हैं.उनकी चार बेटियों और दो बेटों से घर गुलज़ार रहता. पति गाँव के स्कूल में > ...

    मन की दुनिया

    नारी का पूर्ण सशक्तिकरण

    • मेरे मन की.... - मेरी पहली पुस्तक "मेरे मन की" की प्रिंटींग का काम पूरा हो चुका है | और यह पुस्तक बुक स्टोर पर आ चुकी है| आप सब ऑनलाइन गाथा के द्वारा बुक कर सकते है| मेरी...
      5 days ago
     
    Copyright (c) 2010 प्यारी माँ. All rights reserved.