माँ

Posted on
  • Thursday, June 30, 2011
  • by
  • शिखा कौशिक
  • in
  • Labels:
  • vidya ji has posted this post on her blog ''LOVE EVERYBODY ''.her blog's URL is -''http://sarapyar.blogspot.com''

    माँ

    माँ शब्द दिल से कहते ही मानों हमारा सारे दुःख दूर हो जाते है |
    मानों हमें दुनिया का सुख मिल जाता है !"माँ " हमें सबसे जयादा
    प्यार करती है ||
    माँ घर मे सबसे पहले उठती है /सबके लिय खाना आदि बनाती है /
    सबके जरुरत का ध्यान रखती है/समय समय पर सब का काम करती है
    माँ प्यार , दया और ममता की मूर्ति है ! माँ कभी अपने कर्तब्यो
    से मुह नाहे मोड़ती |वह घर मे सबको मिलकर रहना है |बच्चो के सुख
    को ही अपना सुख मानतीहै |वह कभी किसी से गुस्सा नही करती |
    कोई गलत बात बोले तो भी चुप हीरहती है |फिर भी उसका भला हीचाहती है|
    हमने भगवान को नही देखा |पर हम अपनी माँ में ही भगवान को देखसकते ह''
    shikha kaushik

    7 comments:

    शालिनी कौशिक said...

    vidhya ji ki ye post yahin ke liye mahtavapoorn hai aur shikha ji aapne ise yahan lakar bahut sundar karya kiya hai.vidhya ji bahut achchha likha hai aapne maa par .aapko bahut bahut badhai.

    रेखा said...

    माँ को समर्पित ऐसी अनोखी रचना को पढवाने के लिए धन्यवाद

    रविकर said...

    ma sab jagah par bhali

    yaha bhi ma

    meri ma

    DR. ANWER JAMAL said...

    @ शिखा जी ! आपने मां का जो चित्रण किया है। पहले अक्सर घरों में ऐसी ही मांएं हुआ करती थीं। आप और हम ख़ुशनसीब हैं कि हमें ऐसी ही मांएं मिलीं लेकिन आजकल बहुत मांएं अपनी कोख भी किराए पर दे रही हैं और अपने करिअर की ख़ातिर ‘डायन‘ तक बन चुकी हैं।
    देखिए मेरा एक लेख
    डायना बनने की चाह में औरतें बन गईं डायन Vampire

    शिखा कौशिक said...

    Anwar ji -this is not my post .this is actually VIDHYA ji 's post .i have posted this here .on the other hand your view is 50% right not 100%.

    upendra shukla said...

    bahut bahut dhanyawaad
    jo aapne hame itni acchi lekhni padne ko di
    "samrt bundelkhand"

    V.P. Singh Rajput said...

    बहुत सुन्दर भावपूर्ण प्रस्तुति.

    Followers

    प्यारी माँ

    Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
    • ‘सत्यमेव जयते’ - *‘सत्यमेव जयते’* *लिखने पढ़ने में यह नारा* *कितना अच्छा लगता है,* *‘सत्य का आभामण्डल* *बहुत विशाल होता है’* *कहने सुनने के लिये* *यह कथन भी* *कितना सच्चा...
    • हम किसका दाना चुग रहे हैं! - www.sahityakar.com आज जो हो रहा है, वही कल भी हो रहा था, हर युग में हो रहा था। हम पढ़ते आए हैं कि राक्षस बच्चों को खा जाते थे, आज भी बच्चों को खाया ही जा र...
    • भूमिका 'पलाश ' - भूमिका - मेरी दीदी आशा सक्सेना जी के नये काव्य संकलन ‘पलाश ’ को लेकर मैं आज आपके सम्मुख उपस्थित हुई हूँ ! दीदी की सृजनशीलता के सन्दर्भ में कुछ भी कहना सूर...
    • कश्मीर - *नज़्म भी जिसके आगोश में फ़ना हो गई * *कश्मीर ! जिसे दुनिया जन्नत पुकारती है ||* *सु-मन *
    • प्रायश्चित ! - गौरव आज गांव आया हुआ था पिताजी ने गांव में एक मंदिर का निर्माण कराया है उसी का रुद्राभिषेक का कार्यक्रम है।पूजा में उसने भी श्रध्दापूर्वक भाग लिया।...
    • हम शर्मिंदा हैं - मरे हुए लोग हाय हाय नहीं करते मरे हुए लोगों की कोई आवाज़ नहीं होती मरे हुए लोगों की कोई कम्युनिटी नहीं होती जो कोशिशों के परचम लहराए और हरी भरी हो जाए धरा मन...
    • सुबह की सैर और तम्बाकू पसंद लोग - गर्मियों में बच्चों की स्कूल की छुट्टियाँ लगते ही सुबह-सुबह की खटरगी कम होती है, तो स्वास्थ्य लाभ के लिए सुबह की सैर करना आनंददायक बन जाता है। यूँ तो गर्...
    • Happy Holi - Holi Wishes by Dr (Miss) Sharad Singh
    • पीछे से वार करते हैं वे जनाब आली.... - झुंझलाके क़त्ल करते हैं वे जनाब आली . नुमाइंदगी करते हैं वे जनाब आली , जजमान बने फिरते हैं वे जनाब आली . ....................................................
    • - * गज़ल * रहे बरकत बुज़ुर्गों से घरों की हिफाजत तो करो इन बरगदों की खड़ेगा सच भरे बाजार में अब नहीं परवाह उसको पत्थरों की रहे चुप हुस्न के बढ़ते गुमां पर रही ...
    • पुस्तक समीक्षा---“मौत के चंगुल में” - *(**हिन्दी के प्रतिष्ठित बाल साहित्यकार हमारे पिताजी आदरणीय श्री प्रेमस्वरूप श्रीवास्तव जी **की **आज **पुण्य तिथि **है।**आज 31 जुलाई 2016 को वो हम सभी को ...
    • हरियाली का महत्व स्वयं देखें... - इन तस्वीरों को देखकर आपको पेड़ों का महत्व समझ में आ पायेगा... पर्यावरण को बचाने में अपना अधिक से अधिक योगदान दें । पेडों को ...
    • नींद बनाम ख्व़ाब - मैंने अपनी नींदें बेच, कुछ ख्वाब खरीदे थे। रख दिया था सहेज कर, उन्हें अपनी पलकों तले। वक़्त की बारिशों औ आंधी से, कुछ उड़ गए, कुछ बह गए। कुछ को बचाया जतन...
    • जाने कहाँ गया वो दिन??? - "आज कुछ special बना दो, Sunday है... " ... अभी तो परसों कढ़ाही पनीर बनी थी... "सुनो, मैं अपने दोस्तों से मिल कर आ रहा हूँ, वो आज Sunday है न..." ... हाँ, द...
    • भ्रष्ट आचार - स्वतंत्र भारत की नीव में उस समय के नेताओं ने अपनी महत्त्वाकांक्षाओं के रख दिये थे भ्रष्ट आचार फिर देश से कैसे खत्म हो भ्रष्टाचार ?
    • और वो चला गया,बिना मुड़े... - दो दिनों की लगातार बारिश के बाद चैंधियाती धूप निखरी थी सफेद कमीज और लाल निक्कर में सजे छोटे-छोटे बच्चों की चहचहाहट से मैंदान गूंज रहा था। अपने केबिन में ब...

    मन की दुनिया

    नारी का पूर्ण सशक्तिकरण

    • केवल एक मांग - फांसी दो - वास्तव में ट्विंकल जैसी कलियों का दुष्टों द्वारा नोंचा जाना हमारे पूरे सामाजिक व प्रशासनिक संगठन पर एक चुभता प्रश्नचिन्ह है. विभत्सता की पराकाष्ठा है ये. ज...
      5 weeks ago
     
    Copyright (c) 2010 प्यारी माँ. All rights reserved.