माँ एक एक श्वास है

Posted on
  • Tuesday, April 26, 2011
  • by
  • shikha kaushik
  • in
  • Labels:

  • कोई मुझसे पूछता -फरिश्ते से मिली हो कभी ?
    मैं उसे ये बोलती ''मै माँ से मिलकर आई  हूँ !

    कोई मुझसे पूछता -तू कैसे खुशमिजाज है ?
    मै उसे ये बोलती -''ये माँ का आशीर्वाद है .

    कोई मुझसे पूछता -''क्या नहीं जन्नत की आरजू ?
    मैं उसे ये बोलती -''मेरे पास माँ की गोद है .

    कोई मुझसे पूछता -''देखा है खूबसूरत कोई ?
    मैं उसे ये बोलती ''मेरी माँ से सुन्दर कौन है !

    कोई मुझसे पूछता -''क्या है तू दौलतमंद भी ?
    मैं उसे ये बोलती -''माँ की दुआएं साथ हैं .

    कोई मुझ से  पूछता -''माँ से अलग क्या कुछ नहीं ?
    मैं उसे ये बोलती -'' दिल की धड़कन है वही ,माँ एक एक श्वास है !
                शिखा कौशिक 

    11 comments:

    शालिनी कौशिक said...

    कोई मुझ से पूछता -''माँ से अलग क्या कुछ नहीं ?
    मैं उसे ये बोलती -'' दिल की धड़कन है वही ,माँ एक एक श्वास है !
    har pantki sangrahniy hai aur in panktiyon me sari kavita ka sar samahit hai.vastav me ek ek shwas maa hi hai.

    Surendrashukla" Bhramar" said...

    कोई मुझ से पूछता -''माँ से अलग क्या कुछ नहीं ?
    मैं उसे ये बोलती -'' दिल की धड़कन है वही ,माँ एक एक श्वास है !

    शिखा जी मन को छू लेने वाली रचना

    माँ ही हमारी सर्वश्व है जितना भी लिखो माँ पर कम है

    माँ एक महाकाव्य है

    माँ एक मूर्ति के अन्दर की जान है

    हम एक मूर्ति हैं

    वो हमारी प्राण है

    बहुत खूब

    सुरेन्द्र कुमार शुक्ल भ्रमर ५

    Kunal Verma said...

    बहुत खूब

    DR. ANWER JAMAL said...

    कविता के भाव सुंदर हैं।
    http://tobeabigblogger.blogspot.com/2011/04/charity-begins-

    रश्मि प्रभा... said...

    -फरिश्ते से मिली हो कभी ?
    ''मै माँ से मिलकर आई हूँ !
    sach hai sach hai... ishwar ka ek naam maa hai

    सदा said...

    कोई मुझसे पूछता -फरिश्ते से मिली हो कभी ?
    मैं उसे ये बोलती ''मै माँ से मिलकर आई हूँ !

    वाह ... आपने तो नि:शब्‍द कर दिया ...इस सोच को नमन हर पंक्ति बेमिसाल ।

    दर्शन कौर धनोए said...

    बहुत सुंदर भाव है ?तुझमे रब दीखता है ,माँ में क्या करू !

    JHAROKHA said...

    shikha ji
    kya likhun maa ke baare me .aapne to itni sundarta ke saath maa shad ke har roop ka vivechan kar diya hai ki uske aage kuchh bhi likhna nirarthak hi hoga .
    aapne bilkul sahi likha hai
    maa se badh kar kya aur bhi koi anmol khajana ho sakta hai .
    har ek pankti lazwab
    sada ji ko bhi dhanyvad aapki itni sindar rachna padhwane ke liye .
    aap dono ko hi bahut bahut badhai
    poonam

    ज़ाकिर अली ‘रजनीश’ said...

    सुंदर....

    ---------
    देखिए ब्‍लॉग समीक्षा की बारहवीं कड़ी।
    अंधविश्‍वासी आज भी रत्‍नों की अंगूठी पहनते हैं।

    STRANGER said...

    A Great Salute to all Mothers.


    Just Laugh :-

    Ronie, the 7 yrs. old naughty son is on board a flight with his Dad (Minister of Aviation)…running here n there, making noise. Airhostesses are trying to catch and make him sit as the flight is about to take off but he’d not listen. He sees something unusual and comes to his Dad who is surrounded by airline officials, press etc.

    Ronie (shouting) : Dad.

    Dad : Just wait I’m busy son…….enjoy yourself.

    Ronie : I wanna give you some breaking news.

    Dad : Keep quite......I’ll come to you.

    Ronie : No Dad……it's serious I need to talk to you right now.

    (Airhostess comes and drags Ronie away; there is a big roar and flight takes off. After a while, Ronie comes to his Dad).

    Dad (smiles) : You wanted to say something………..very serious ?

    Ronie : Come on Dad, it’s no more serious now, God is with us.

    Dad : Tell me exactly what happened ?

    Ronie : Didi is flying plane alone.

    Dad : Which Didi ?

    Ronie : Don’t you remember…..…Rashmi Didi, daughter of Sharan Uncle, Jt. Director DGCA who was trained by Raipur based Touchwood Aviation who didn’t even have a single aircraft at their airport base, neither did they have a classroom or a hangar.

    Dad : OMG……..(shouting)……….Idiot you are telling me now when our flight is some thousand feets above ground……anyway where is co-pilot ?

    Ronie : She stuck up at traffic jam, could not board.......Didi is the only pilot available on plane.

    DAD FAINTS

    HAKEEM YUNUS KHAN said...

    Nice post.

    There was an error in this gadget

    Followers

    प्यारी माँ

    Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
    • तुम गाँधी तो नहीं ! - ना ना पीछे मुड़ कर ना देखना क्या पाओगे वहाँ वीभत्स सचाई के सिवा जिसे झेलना तुम्हारे बस की बात नहीं तुम कोई गाँधी तो नहीं ! सामने देखो तुम्हें आगे बढ़ना ...
    • शापित मंजिलें - *... स्थितियाँ * *बदल देती हैं * *राह जिंदगी की ...* *... मंजिलें* *अक्सर अकेली रह * *शापित हो जाया करती हैं !!* *सु-मन *
    • बातें हैं बातों का क्या ....... - अम्बुआ की डाली पर चाहे न कुहुके कोयल किसी अलसाई शाम से चाहे न हो गुफ्तगू कोई बेनामी ख़त चाहे किसी चौराहे पर क्यों न पढ़ लिया जाए ज़िन्दगी का कोई नया शब्दक...
    • पहाड़ों के बीच बसा अलसीगढ़ - #हिन्दी_ब्लागिंग मनुष्य प्रकृति की गोद खोजता है, नन्हा शिशु भी माँ की गोद खोजता है। शिशु को माँ की गोद में जीवन मिलता है, उसे अमृत मिलता है और मिलती है सुरक...
    • केवल राष्ट्र के लिए था यह सृजन - देश की स्वतंत्रता के लिए 1857 से लेकर 1947 तक क्रान्तिकारियों व आंदोलनकारियों के साथ ही लेखकों, कवियों और पत्रकारों ने भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। उस समय...
    • कृष्ण लीला - ग्वाल बाल साथ ले कान्हा ने धूम मचाई गोकुल की गलियों में ! खिड़की खुली थी घर में छलांग लगाई खाया नवनीत खिलाया मित्रों को भी कुछ खाया कुछ फैलाया आहट ...
    • नींद बनाम ख्व़ाब - मैंने अपनी नींदें बेच, कुछ ख्वाब खरीदे थे। रख दिया था सहेज कर, उन्हें अपनी पलकों तले। वक़्त की बारिशों औ आंधी से, कुछ उड़ गए, कुछ बह गए। कुछ को बचाया जतन...
    • तुम राम बनके दिल यूँ ही दुखाते रहोगे . - [image: Image result for seeta agni pariksha image] अवसर दिया श्रीराम ने पुरुषों को हर कदम , अग्नि-परीक्षा नारी की तुम लेते रहोगे , करती रहेगी सीता सदा मर्य...
    • - गज़ल 1 मुहब्बत से रिश्ता बनाया गया उसे टूटते रोज पाया गया मुहब्बत पे उसकी उठी अँगुलियाँ सरे बज़्म रुसवा कराया गया यहाँ झूठ बिकता बड़े भाव पर मगर सच को ठेंगा द...
    • माँ तुझे प्रणाम - *माँ तुझे प्रणाम* *शत शत नमन कोटि प्रणाम * *माँ तुझे प्रणाम ।* *जब मैं तेरी कोख में आई * *तूने स्पर्श से बताया था * *ममता का कोई मोल नहीं * *तूने ही सि...
    • जाने कहाँ गया वो दिन??? - "आज कुछ special बना दो, Sunday है... " ... अभी तो परसों कढ़ाही पनीर बनी थी... "सुनो, मैं अपने दोस्तों से मिल कर आ रहा हूँ, वो आज Sunday है न..." ... हाँ, द...
    • अधूरे हम... - एक युवक बगीचे में खिन्न मुद्रा में बैठा था । एक बुजुर्ग ने उस परेशान युवक से पूछा - क्या हुआ बेटा क्यूं इतने परेशान हो ? युव...
    • नया साल ! - समर घर से निकला तो पत्नी और बच्चों के लिए गिफ्ट पहले ही खरीदता हुआ होटल पहुंचा था। रात में प्रोग्राम ख़त्म करके सीधे घर भागेगा क्यो...
    • वेदों में गायन कला - *- डॉ. शरद सिंह* *गायन मानव की संवेदनाओं को जागृत करता है.आज दुनिया भर में संगीत के महत्व पर वैज्ञानिक शोध हो रहे हैं . पाश्चात्य जगत के व...
    • भ्रष्ट आचार - स्वतंत्र भारत की नीव में उस समय के नेताओं ने अपनी महत्त्वाकांक्षाओं के रख दिये थे भ्रष्ट आचार फिर देश से कैसे खत्म हो भ्रष्टाचार ?
    • उदास आँखों में छुपी झुर्रियों की दास्तान (भाग -9) - *(रात में बेटी के फोन की आवाज़ से जग कर वे,अपना पुराना जीवन याद करने लगती > हैं.उनकी चार बेटियों और दो बेटों से घर गुलज़ार रहता. पति गाँव के स्कूल में > ...

    मन की दुनिया

    नारी का पूर्ण सशक्तिकरण

     
    Copyright (c) 2010 प्यारी माँ. All rights reserved.