मिटा दी अपनी काया....

Posted on
  • Monday, February 14, 2011
  • by
  • Shalini Kaushik
  • in
  • Labels:
  • हमने जब जब माँ को देखा
       ख्याल ये मन में आया.
    हमें बनाने को ही माँ ने
       मिटा दी अपनी काया.
    बचपन में माँ हाथ पकड़कर
       सही बात समझाती
    गलत जो करते आँख दिखाकर
       अच्छी डांट पिलाती.
    माँ की बातों पर चलकर ही
       जीवन में सब पाया
    हमें बनाने को ही माँ ने
      मिटा दी अपनी काया.
    समय परीक्षा का जब आता
       नींद माँ की उड़ जाती
    हमें जगाने को रात में
       चाय बना कर लाती
    माँ का संबल पग-पग पर
       मेरे काम है आया.
    हमें बनाने को ही माँ ने
      मिटा दी अपनी काया.
    जीवन में सुख दुःख सहने की
      माँ ने बात सिखाई,
    सबको अपनाने की शिक्षा
      माँ ने हमें बताई.
    कठिनाई से कैसे लड़ना
      माँ ने हमें सिखाया.
    हमें बनाने को ही माँ ने
      मिटा दी अपनी काया.
                      [http ://shalinikaushik2 .blogspot .com ]

    6 comments:

    DR. ANWER JAMAL said...

    मेरी माँ ने भी ऐसे ही खुद को मिटाया और मुझे बनाया ।
    आपने सच कहा ।

    दर्शन कौर धनोए said...

    शिखाजी,आपकी कविता बहुत ही प्यारी और सीधी -साधी होती हे मुझे ऐसे ही सीधे- साधे शब्द पसंद हे --बधाई |

    शिखा कौशिक said...

    bahut sundar abhivyakti .shalini ji bahut bahut aabhar maa ! ke prati in bhavon ko jagane ke liye .

    सदा said...

    बहुत ही सुन्‍दर भावमय करते शब्‍द इस अभिव्‍यक्ति के ।

    रश्मि प्रभा... said...

    maa shiksha ki pahli sidhi hoti hai ...

    वन्दना said...

    एक एक शब्द सच को बयाँ कर रहा है।

    There was an error in this gadget

    Followers

    प्यारी माँ

    Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
    • विश्वास - ‘विश्वास’ कितना आभासी है ना यह शब्द ! कितना क्षणिक, कितना छलनामय, कितना भ्रामक ! विश्वास के जिस धागे से बाँध कर कल्पना की पतंग को आसमान की ऊँच...
    • राजीव गांधी :अब केवल यादों में - शत शत नमन - एक नमन राजीव जी को आज उनकी जयंती के अवसर पर.राजीव जी बचपन से हमारे प्रिय नेता रहे आज भी याद है कि इंदिरा जी के निधन के समय हम सभी कैसे चाह रहे थे कि ...
    • हमें अपनी झील के आकर्षण में बंधे रहना है - #हिन्दी_ब्लागिंग मैं कहीं अटक गयी हूँ, मुझे जीवन का छोर दिखायी नहीं दे रहा है। मैं उस पेड़ को निहार रही हूँ जहाँ पक्षी आ रहे हैं, बसेरा बना रहे हैं। कहाँ ...
    • शापित मंजिलें - *... स्थितियाँ * *बदल देती हैं * *राह जिंदगी की ...* *... मंजिलें* *अक्सर अकेली रह * *शापित हो जाया करती हैं !!* *सु-मन *
    • बातें हैं बातों का क्या ....... - अम्बुआ की डाली पर चाहे न कुहुके कोयल किसी अलसाई शाम से चाहे न हो गुफ्तगू कोई बेनामी ख़त चाहे किसी चौराहे पर क्यों न पढ़ लिया जाए ज़िन्दगी का कोई नया शब्दक...
    • केवल राष्ट्र के लिए था यह सृजन - देश की स्वतंत्रता के लिए 1857 से लेकर 1947 तक क्रान्तिकारियों व आंदोलनकारियों के साथ ही लेखकों, कवियों और पत्रकारों ने भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। उस समय...
    • कृष्ण लीला - ग्वाल बाल साथ ले कान्हा ने धूम मचाई गोकुल की गलियों में ! खिड़की खुली थी घर में छलांग लगाई खाया नवनीत खिलाया मित्रों को भी कुछ खाया कुछ फैलाया आहट ...
    • नींद बनाम ख्व़ाब - मैंने अपनी नींदें बेच, कुछ ख्वाब खरीदे थे। रख दिया था सहेज कर, उन्हें अपनी पलकों तले। वक़्त की बारिशों औ आंधी से, कुछ उड़ गए, कुछ बह गए। कुछ को बचाया जतन...
    • - गज़ल 1 मुहब्बत से रिश्ता बनाया गया उसे टूटते रोज पाया गया मुहब्बत पे उसकी उठी अँगुलियाँ सरे बज़्म रुसवा कराया गया यहाँ झूठ बिकता बड़े भाव पर मगर सच को ठेंगा द...
    • माँ तुझे प्रणाम - *माँ तुझे प्रणाम* *शत शत नमन कोटि प्रणाम * *माँ तुझे प्रणाम ।* *जब मैं तेरी कोख में आई * *तूने स्पर्श से बताया था * *ममता का कोई मोल नहीं * *तूने ही सि...
    • जाने कहाँ गया वो दिन??? - "आज कुछ special बना दो, Sunday है... " ... अभी तो परसों कढ़ाही पनीर बनी थी... "सुनो, मैं अपने दोस्तों से मिल कर आ रहा हूँ, वो आज Sunday है न..." ... हाँ, द...
    • अधूरे हम... - एक युवक बगीचे में खिन्न मुद्रा में बैठा था । एक बुजुर्ग ने उस परेशान युवक से पूछा - क्या हुआ बेटा क्यूं इतने परेशान हो ? युव...
    • नया साल ! - समर घर से निकला तो पत्नी और बच्चों के लिए गिफ्ट पहले ही खरीदता हुआ होटल पहुंचा था। रात में प्रोग्राम ख़त्म करके सीधे घर भागेगा क्यो...
    • वेदों में गायन कला - *- डॉ. शरद सिंह* *गायन मानव की संवेदनाओं को जागृत करता है.आज दुनिया भर में संगीत के महत्व पर वैज्ञानिक शोध हो रहे हैं . पाश्चात्य जगत के व...
    • भ्रष्ट आचार - स्वतंत्र भारत की नीव में उस समय के नेताओं ने अपनी महत्त्वाकांक्षाओं के रख दिये थे भ्रष्ट आचार फिर देश से कैसे खत्म हो भ्रष्टाचार ?
    • उदास आँखों में छुपी झुर्रियों की दास्तान (भाग -9) - *(रात में बेटी के फोन की आवाज़ से जग कर वे,अपना पुराना जीवन याद करने लगती > हैं.उनकी चार बेटियों और दो बेटों से घर गुलज़ार रहता. पति गाँव के स्कूल में > ...

    मन की दुनिया

    नारी का पूर्ण सशक्तिकरण

     
    Copyright (c) 2010 प्यारी माँ. All rights reserved.