माँ एक सेतु

Posted on
  • Friday, February 4, 2011
  • by
  • रेखा श्रीवास्तव
  • in
  • Labels:
  •  माँ ,
     वह सेतु है,
    जिस पर चढ़ कर
    बच्चे  विपत्तियों के सागर
    पार कर जाते हैं औ'
    माँ उनकी सलामती के लिए
    ईश्वर से दुआ और सिर्फ दुआ माँगा करती है.
    माँ वह सीढ़ी है,
    जिस पर चढ़ कर
    उसके बच्चे 
    जमीन से आसमां तक 
    चलते चले जाते हैं.
    ऊपर पहुँच कर 
    उस सीढ़ी को 
    पैर से धकेल कर 
    आगे और आगे बढ़ जाते हैं.
    नीचे आने की सोचते भी नहीं है.
    वो तो नीचे ही रहती है
    क्योंकि अब उसकी जरूरत 
    किसी बच्चे को नहीं है.
    अपने पैरों पर खड़े हो कर
    वे औरों के लिए सीढ़ी बनने को तैयार हैं.
    उन्हें नहीं मालूम 
    या फिर याद नहीं 
    कि वे भी कभी किसी को सीढ़ी बनाकर 
    आसमां छूने निकले थे 
    औ' आसमां छूते ही
     वे चाँद पर पहुँच गए 
    जमीन से नाता तोड़ कर
    फिर जमीन पर नहीं आ सकते 
    क्योंकि वो जमीन 
    अब उनको स्वीकार नहीं करेगी.
    माँ के तिरस्कार की कीमत 
    आज नहीं तो कल
    हर औलाद भुगतती है.
    और माँ वो दरिया है
    जिसके प्यार में ऐसी बातें 
    टिकती ही नहीं है.
    बेटे की सूरत जब भी देखी
    आंसुओं से भरी आँखें 
    गले लगाने को आतुर रहती हैं.
    कहती है --
    सुबह का भूला 
    शाम को घर लौटा है,
    ऐसे ही माँ का दिल होता है. 

    18 comments:

    वन्दना said...

    यहाँ शब्द निशब्द हो गये ।

    दर्शन कौर धनोए said...

    माँ वह दरिया हे जिसेसे पार होकर ही हर बच्चा समुद्र(जीवन ) की अंनत गहरइयो में विलीन होता हे

    Minakshi Pant said...

    बहुत खुबसूरत माँ सच मै बहुत बड़ा दिल रखती है उसकी तुलना किसी से भी करना नामुमकिन है !

    DR. ANWER JAMAL said...

    मुझे कढ़े हुए तकिए की क्या ज़रूरत है
    किसी का हाथ अभी मेरे सर के नीचे है

    आपने हक़ीक़त बयान की है।

    POOJA... said...

    मेरे पास शब्द नहीं हैं इस रचना के लिए...
    बहुत ही सुन्दर...

    Atul Shrivastava said...

    कहते हैं न कि एक मां अपने दर्जन भर बच्‍चों को पाल सकती है, बडा कर सकती है, उनका पेट भर सकती है,... लेकिन दर्जन भर बच्‍चे मिलकर भी एक मां को अच्‍छे से रख नहीं सकते।
    अच्‍छी और भावभरी रचना।

    mridula pradhan said...

    maa ke upar itna achcha likhi hain ki tareef ke shabd ekdam chote par rahe hain.

    रेखा श्रीवास्तव said...

    माँ के रूप को उकेरा है, आप सबको पसंद आया इसके लिए बहुत बहुत धन्यवाद.

    शालिनी कौशिक said...

    maa ke bare me sabhi yahi vichar rakhte hain kintu itne sundar shabdon me abhivyakt koi koi hi karte hain bahut bhav poorn kavita badhai..

    Anjana (Gudia) said...

    bahut sunder! maa esi hi hoti hai

    D.P.Mishra said...

    very nice............

    क्रिएटिव मंच-Creative Manch said...

    आपकी इस रचना न अवाक कर दिया
    क्या दें प्रतिक्रिया


    बहुत सुन्दर व सार्थक रचना
    आभार
    शुभ कामनाएं

    निर्मला कपिला said...

    माँ की महिमा न्यारी है। अच्छी रचना बधाई।

    अभिषेक मिश्र said...

    दिल को छु लेने वाली पंक्तियाँ.

    Surendra Singh Bhamboo said...

    ब्लाग जगत की दुनिया में आपका स्वागत है। आप बहुत ही अच्छा लिख रहे है। इसी तरह लिखते रहिए और अपने ब्लॉग को आसमान की उचाईयों तक पहुंचाईये मेरी यही शुभकामनाएं है आपके साथ
    ‘‘ आदत यही बनानी है ज्यादा से ज्यादा(ब्लागों) लोगों तक ट्प्पिणीया अपनी पहुचानी है।’’
    हमारे ब्लॉग पर आपका स्वागत है।

    मालीगांव
    साया
    लक्ष्य

    हमारे नये एगरीकेटर में आप अपने ब्लाग् को नीचे के लिंको द्वारा जोड़ सकते है।
    अपने ब्लाग् पर लोगों लगाये यहां से
    अपने ब्लाग् को जोड़े यहां से

    डॉ. पुरुषोत्तम मीणा 'निरंकुश'/ Dr. Purushottam Meena 'Nirankush' said...

    आदरणीय,

    आज हम जिन हालातों में जी रहे हैं, उनमें किसी भी जनहित या राष्ट्रहित या मानव उत्थान से जुड़े मुद्दे पर या मानवीय संवेदना तथा सरोकारों के बारे में सार्वजनिक मंच पर लिखना, बात करना या सामग्री प्रस्तुत या प्रकाशित करना ही अपने आप में बड़ा और उल्लेखनीय कार्य है|

    ऐसे में हर संवेदनशील व्यक्ति का अनिवार्य दायित्व बनता है कि नेक कार्यों और नेक लोगों को सहमर्थन एवं प्रोत्साहन दिया जाये|

    आशा है कि आप उत्तरोत्तर अपने सकारात्मक प्रयास जारी रहेंगे|

    शुभकामनाओं सहित!

    डॉ. पुरुषोत्तम मीणा ‘निरंकुश’
    सम्पादक (जयपुर से प्रकाशित हिन्दी पाक्षिक समाचार-पत्र ‘प्रेसपालिका’) एवं राष्ट्रीय अध्यक्ष-भ्रष्टाचार एवं अत्याचार अन्वेषण संस्थान (बास)
    (देश के सत्रह राज्यों में सेवारत और 1994 से दिल्ली से पंजीबद्ध राष्ट्रीय संगठन, जिसमें 4650 से अधिक आजीवन कार्यकर्ता सेवारत हैं)
    फोन : 0141-2222225 (सायं सात से आठ बजे के बीच)
    मोबाइल : 098285-02666

    Udan Tashtari said...

    अद्भुत!!

    सुशील बाकलीवाल said...

    मां तो मां है ।

    There was an error in this gadget

    Followers

    प्यारी माँ

    Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
    • मैं नदी हूँ - बहती रही अथक निरंतर मैं सदियों से करती रही धरा अभिसिन्चित मैं सदियों से साधना वैद
    • क्या आदमी सच में आदमी है ? - [image: Image result for buffalo with man free images] ''आदमी '' प्रकृति की सर्वोत्कृष्ट कृति है .आदमी को इंसान भी कहते हैं , मानव भी कहते हैं ,इसी कारण आ...
    • तू इसमें रहेगा और यह तुझ में रहेगा - प्रेम में डूबे जोड़े हम सब की नजरों से गुजरे हैं, एक दूजे में खोये, किसी भी आहट से अनजान और किसी की दखल से बेहद दुखी। मुझे लगने लगा है कि मैं भी ऐसी ही प्र...
    • वह जीने लगी है... - अब नहीं होती उसकी आँखे नम जब मिलते हैं अपने अब नहीं भीगतीं उसकी पलके देखकर टूटते सपने। अब नहीं छूटती उसकी रुलाई किसी के उल्हानो से अब नहीं मरती उसकी भूख कि...
    • प्राकृतिक अभियंता - तिनके चुन चुन घरोंदा बनाया आने जाने के लिए एक द्वार लगाया मनोयोग से घर को सजाया दरवाजे पर खड़े खड़े अपना घर निहार रही देख दस्तकारी अपनी फूली नहीं सम...
    • ये है सरकारी होली :) - सरकार आपको होली तक फ्री राइड करवाएगी फिर वो बस हो ऑटो टैक्सी या फिर मेट्रो क्योंकि यदि नोट लेकर निकले और किसी ने रंग भरा गुब्बारा मार दिया तो आपकी तो बल्ले...
    • तुम और मैं -८ - *.....तुम !* *स्याह लफ्ज़ों में लिपटे ख़यालात हो* *और मैं...* *उन ख़यालों की ताबीर |* *एक एहसास की नज़्म* *आज भी ...* *जिन्दा है तुम्हारे मेरे बीच !!* *सु-म...
    • जाने कहाँ गया वो दिन??? - "आज कुछ special बना दो, Sunday है... " ... अभी तो परसों कढ़ाही पनीर बनी थी... "सुनो, मैं अपने दोस्तों से मिल कर आ रहा हूँ, वो आज Sunday है न..." ... हाँ, द...
    • अधूरे हम... - एक युवक बगीचे में खिन्न मुद्रा में बैठा था । एक बुजुर्ग ने उस परेशान युवक से पूछा - क्या हुआ बेटा क्यूं इतने परेशान हो ? युव...
    • टी-पाट - *टी-पाट* *कहानी-पूनम श्रीवास्तव * *छनाक की तेज आवाज हुयी और उज्ज्वला कुछ लिखते लिखते चौंक पड़ी।फिर बोली क्या हुआ?क्या टूटा ?अ...
    • नया साल ! - समर घर से निकला तो पत्नी और बच्चों के लिए गिफ्ट पहले ही खरीदता हुआ होटल पहुंचा था। रात में प्रोग्राम ख़त्म करके सीधे घर भागेगा क्यो...
    • - * गज़ल * तमन्ना सर फरोशी की लिये आगे खड़ा होता मैं क़िसमत का धनी होता बतन पर गर फना होता अगर माकूल से माहौल में मैं भी पला होता मेरा जीने का मक़सद आसमां से भी ...
    • वेदों में गायन कला - *- डॉ. शरद सिंह* *गायन मानव की संवेदनाओं को जागृत करता है.आज दुनिया भर में संगीत के महत्व पर वैज्ञानिक शोध हो रहे हैं . पाश्चात्य जगत के व...
    • भ्रष्ट आचार - स्वतंत्र भारत की नीव में उस समय के नेताओं ने अपनी महत्त्वाकांक्षाओं के रख दिये थे भ्रष्ट आचार फिर देश से कैसे खत्म हो भ्रष्टाचार ?
    • उदास आँखों में छुपी झुर्रियों की दास्तान (भाग -9) - *(रात में बेटी के फोन की आवाज़ से जग कर वे,अपना पुराना जीवन याद करने लगती > हैं.उनकी चार बेटियों और दो बेटों से घर गुलज़ार रहता. पति गाँव के स्कूल में > ...

    मन की दुनिया

    नारी का पूर्ण सशक्तिकरण

     
    Copyright (c) 2010 प्यारी माँ. All rights reserved.