तुम्हारी याद में माँ

Posted on
  • Sunday, September 4, 2011
  • by
  • sadhana vaid
  • in









  • यह सावन भी बीत गया माँ ,

    ना आम, ना अमलतास,

    ना गुलमोहर, ना नीम,

    ना बरगद, ना पीपल

    किसी पेड़ की डालियों पे

    झूले नहीं पड़े !

    ना चौमासा और बिरहा

    की तान सुनाई दी

    ना कजरी, मल्हार के सुरीले बोलों ने

    कानों में रस घोला !

    ना मोहल्ले पड़ोस की

    लड़कियों के शोर ने

    झूला झूलते हुए

    आसमान गुँजाया ,

    ना राखी बाँधने के बाद

    नेग शगुन को लेकर

    झूठ-मूठ की रूठा रूठी और

    मान मनौव्वल ही हुई !

    जबसे तुम गयी हो माँ

    ना किसीने जीवन के विविध रंगों

    से मेरी लहरिये वाली चुनरी रंगी ,

    ना उसमें हर्ष और उल्लास का

    सुनहरी, रुपहली गोटा लगाया !

    ना मेरी हथेलियों पर मेंहदी से

    संस्कार और सीख के सुन्दर बूटे काढ़े ,

    ना किसीने मेंहदी रची मेरी

    लाल लाल हथेलियों को

    अपने होंठों से लगा

    बार-बार प्यार से चूमा !

    ना किसी मनिहारिन ने

    कोमलता से मेरी हथेलियों को दबा

    मेरी कलाइयों पर

    रंगबिरंगी चूड़ियाँ चढ़ाईं ,

    ना किसीने ढेरों दुआएं देकर

    आशीष की चमकीली लाल हरी

    चार चार चूड़ियाँ यूँ ही

    बिन मोल मेरे हाथों में पहनाईं !

    अब तो ना अंदरसे और पूए

    मन को भाते हैं ,

    ना सिंवई और घेवर में

    कोई स्वाद आता है

    अब तो बस जैसे

    त्यौहार मनाने की रीत को ही

    जैसे तैसे निभाया जाता है !

    सब कुछ कितना बदल गया है ना माँ

    कितना नकली, कितना सतही ,

    कितना बनावटी, कितना दिखावटी ,

    जैसे सब कुछ यंत्रवत

    खुद ब खुद होता चला जाता है ,

    पर जहाँ मन इस सबसे बहुत दूर

    असम्पृक्त, अलग, छिटका हुआ पड़ा हो

    वहाँ भला किसका मन रम पाता है !



    साधना वैद

    17 comments:

    शिखा कौशिक said...

    sadhna ji -dil ko chhoo lene vali prastuti hai ye .aabhar

    रविकर said...

    बहुत ही प्रभावी प्रस्तुति ||
    सादर अभिनन्दन ||

    पत्रकार-अख्तर खान "अकेला" said...

    aapne to rula diya yaar ....akhtar khan akela kota rajsthan

    Roshi said...

    bahut hi marmik humko bhi apni maa bahut yad aa rahi hai........

    वाणी गीत said...

    माँ तो माँ ही होती है ...
    सार्थक अभिव्यक्ति !

    रज़िया "राज़" said...

    सुन्दर प्रस्तुति बधाई | रुला दिया आपने तो|

    amrendra "amar" said...

    bahut marmsparshi prastuti.... .badhai

    sushma 'आहुति' said...

    मर्मस्पर्शी रचना....

    दर्शन कौर said...

    bahut sunder kavita or bhav bhi ...

    NISHA MAHARANA said...

    बहुत अच्छा विश्लेषण किया प्रेम का
    अच्छा लगा मेरे ब्लाग पर अवश्य आइये मैने भी
    एक छोटी सी कोशिश की है इसे समझने की।

    NISHA MAHARANA said...

    माँ तो बस माँ होती है। बहुत अच्छा।

    Pallavi said...

    शिखा जी कि बात से सहमत हूँ दिल को छु लेने वाली प्रस्तुति है ये,कभी समय मिले तो आयेगा मेरे पोस्ट पर आपका स्वागत है
    http://mhare-anubhav.blogspot.com/

    किसी का दर्द हमें तकलीफ देता है said...

    itni sundar rachna ke liye aaoko naman.

    Kabhi apne shabdon se hame bhi apni kripa se anugrahit karen.

    किसी का दर्द हमें तकलीफ देता है said...

    सादर आमंत्रण आपकी लेखनी को... ताकि लोग आपके माध्यम से लाभान्वित हो सकें.

    हमसे प्रत्यक्ष व परोक्ष रूप से जुड़े लेखकों का संकलन छापने के लिए एक प्रकाशन गृह सहर्ष सहमत है.

    स्वागत... खुशी होगी इसमें आपका सार्थक साथ पाकर.
    आइये मिलकर अपने शब्दों को आकार दें

    vidhya said...

    माँ तो माँ ही होती है ...
    सार्थक अभिव्यक्ति !

    सदा said...

    मां के लिये लिखा गया हर शब्‍द भावुक कर जाता है ...बहुत ही अच्‍छा लिखा है आपने ।

    मलकीत सिंह जीत said...

    maa to sirf maaa hi hoti hai

    There was an error in this gadget

    Followers

    प्यारी माँ

    Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
    • विश्वास - ‘विश्वास’ कितना आभासी है ना यह शब्द ! कितना क्षणिक, कितना छलनामय, कितना भ्रामक ! विश्वास के जिस धागे से बाँध कर कल्पना की पतंग को आसमान की ऊँच...
    • राजीव गांधी :अब केवल यादों में - शत शत नमन - एक नमन राजीव जी को आज उनकी जयंती के अवसर पर.राजीव जी बचपन से हमारे प्रिय नेता रहे आज भी याद है कि इंदिरा जी के निधन के समय हम सभी कैसे चाह रहे थे कि ...
    • हमें अपनी झील के आकर्षण में बंधे रहना है - #हिन्दी_ब्लागिंग मैं कहीं अटक गयी हूँ, मुझे जीवन का छोर दिखायी नहीं दे रहा है। मैं उस पेड़ को निहार रही हूँ जहाँ पक्षी आ रहे हैं, बसेरा बना रहे हैं। कहाँ ...
    • शापित मंजिलें - *... स्थितियाँ * *बदल देती हैं * *राह जिंदगी की ...* *... मंजिलें* *अक्सर अकेली रह * *शापित हो जाया करती हैं !!* *सु-मन *
    • बातें हैं बातों का क्या ....... - अम्बुआ की डाली पर चाहे न कुहुके कोयल किसी अलसाई शाम से चाहे न हो गुफ्तगू कोई बेनामी ख़त चाहे किसी चौराहे पर क्यों न पढ़ लिया जाए ज़िन्दगी का कोई नया शब्दक...
    • केवल राष्ट्र के लिए था यह सृजन - देश की स्वतंत्रता के लिए 1857 से लेकर 1947 तक क्रान्तिकारियों व आंदोलनकारियों के साथ ही लेखकों, कवियों और पत्रकारों ने भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। उस समय...
    • कृष्ण लीला - ग्वाल बाल साथ ले कान्हा ने धूम मचाई गोकुल की गलियों में ! खिड़की खुली थी घर में छलांग लगाई खाया नवनीत खिलाया मित्रों को भी कुछ खाया कुछ फैलाया आहट ...
    • नींद बनाम ख्व़ाब - मैंने अपनी नींदें बेच, कुछ ख्वाब खरीदे थे। रख दिया था सहेज कर, उन्हें अपनी पलकों तले। वक़्त की बारिशों औ आंधी से, कुछ उड़ गए, कुछ बह गए। कुछ को बचाया जतन...
    • - गज़ल 1 मुहब्बत से रिश्ता बनाया गया उसे टूटते रोज पाया गया मुहब्बत पे उसकी उठी अँगुलियाँ सरे बज़्म रुसवा कराया गया यहाँ झूठ बिकता बड़े भाव पर मगर सच को ठेंगा द...
    • माँ तुझे प्रणाम - *माँ तुझे प्रणाम* *शत शत नमन कोटि प्रणाम * *माँ तुझे प्रणाम ।* *जब मैं तेरी कोख में आई * *तूने स्पर्श से बताया था * *ममता का कोई मोल नहीं * *तूने ही सि...
    • जाने कहाँ गया वो दिन??? - "आज कुछ special बना दो, Sunday है... " ... अभी तो परसों कढ़ाही पनीर बनी थी... "सुनो, मैं अपने दोस्तों से मिल कर आ रहा हूँ, वो आज Sunday है न..." ... हाँ, द...
    • अधूरे हम... - एक युवक बगीचे में खिन्न मुद्रा में बैठा था । एक बुजुर्ग ने उस परेशान युवक से पूछा - क्या हुआ बेटा क्यूं इतने परेशान हो ? युव...
    • नया साल ! - समर घर से निकला तो पत्नी और बच्चों के लिए गिफ्ट पहले ही खरीदता हुआ होटल पहुंचा था। रात में प्रोग्राम ख़त्म करके सीधे घर भागेगा क्यो...
    • वेदों में गायन कला - *- डॉ. शरद सिंह* *गायन मानव की संवेदनाओं को जागृत करता है.आज दुनिया भर में संगीत के महत्व पर वैज्ञानिक शोध हो रहे हैं . पाश्चात्य जगत के व...
    • भ्रष्ट आचार - स्वतंत्र भारत की नीव में उस समय के नेताओं ने अपनी महत्त्वाकांक्षाओं के रख दिये थे भ्रष्ट आचार फिर देश से कैसे खत्म हो भ्रष्टाचार ?
    • उदास आँखों में छुपी झुर्रियों की दास्तान (भाग -9) - *(रात में बेटी के फोन की आवाज़ से जग कर वे,अपना पुराना जीवन याद करने लगती > हैं.उनकी चार बेटियों और दो बेटों से घर गुलज़ार रहता. पति गाँव के स्कूल में > ...

    मन की दुनिया

    नारी का पूर्ण सशक्तिकरण

     
    Copyright (c) 2010 प्यारी माँ. All rights reserved.