खुदा का नूर ''माँ''

Posted on
  • Saturday, February 26, 2011
  • by
  • shikha kaushik
  • in
  • Labels:

  • बड़े तूफ़ान में फंसकर भी मैं बच जाती हूँ ;
    दुआएं माँ की मेरे साथ साथ चलती हैं .
    *******************************
    तमाम जिन्दगी उसकी ही तो अमानत है  ;
    सुबह होती है उसके साथ ;शाम ढलती है .
    *******************************
    खुदा का नूर है वो रौशनी है आँखों की ;
    शमां बनकर वो दिल के दिए में जलती है 
    ************************************
    नहीं वजूद किसी का कभी उससे अलग ;
    उसकी ही कोख में ये कायनात पलती है .
    ***********************************
    उसके साये में गम के ओले नहीं आ सकते ;
    दूर उससे हो तो ये बात बहुत खलती है .
    **********************************
    मेरे लबो पे सदा माँ ही माँ  रहता है ;
    इसी के  डर से  बला अपने आप टलती है .
    **********************************
      http://shikhakaushik666.blogspot.com/

    5 comments:

    शालिनी कौशिक said...

    maa ki mahima aapne apne shabdon me bahut khoobsoorti se vyakt ki hai.

    DR. ANWER JAMAL said...

    दिल है , ख़ुशबू है रौशनी है माँ
    अपने बच्चों की ज़िंदगी है माँ

    रश्मि प्रभा... said...

    नहीं वजूद किसी का कभी उससे अलग ;
    उसकी ही कोख में ये कायनात पलती है .
    sach hai...

    सदा said...

    वाह ...बहुत ही सुन्‍दर भावमय करते शब्‍द ।

    वन्दना said...

    वाह …………बेहद भावप्रवण रचना।

    There was an error in this gadget

    Followers

    प्यारी माँ

    Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

    मन की दुनिया

    नारी का पूर्ण सशक्तिकरण

     
    Copyright (c) 2010 प्यारी माँ. All rights reserved.