सलाम आखरी !

Posted on
  • Thursday, February 10, 2011
  • by
  • दर्शन कौर धनोय
  • in
  • Labels:
  • 'कल पेपर में कही पढ़ा की बच्चो ने अपनी बूढी  माँ को धर से निकाल दिया ' --कहा तेरा ख्याल कोन रखेगा ? ऐसा तो अक्सर सुनने को मिलता  ही हे--क्या मन स्थिति होती होगी उस समय उस दयनीय माँ की ---वही चित्रण करने की एक कोशीश ---    





    एक बूढी माँ की दयनीय पुकार -----


    आखरी वक्त हे साँस भी हे आखरी ,
    जिन्दगी की हर बात हे आखरी ,
    तोबा ! करती हु अब ,किसी को नही जनूंगी *
    न अब किसी के सहारे अपनी जिन्दगी पूरी करुगी ,
    जीते- जी मेरी इज्जत किसी ने नही की ,
    मरकर करेगे ये एतबार नही करुँगी  ,
    मुझ को मेरे अपनो ने नहलाकर कफ़न दे दिया ,
    कुछ धड़ी भी मेरे साथ न बिताई की दफ्न कर दिया ,
    दुनियां वालो ! मुबारक यह एह्साने -जहां तुमको ,
    कर चले हम तो सलाम आखरी-आखरी !!! 


               
    *जन्म देना |

    13 comments:

    रश्मि प्रभा... said...

    कहते हैं जो सबसे करीबी होता है, वही घायल करता है ! एक माँ तो तब भी दुआएं देती है....यह दुखद नहीं, शर्मनाक बात है !

    संजय भास्कर said...

    शर्मनाक बात है !

    DR. ANWER JAMAL said...

    दुनियां वालो ! मुबारक यह एह्साने -जहां तुमको
    कर चले हम तो सलाम आखरी-आखरी !!!

    आपकी रचना एक आला दर्जे की प्रेरणा देने वाली भी।
    इस ब्लॉग के सभी रीडर्स के साथ मैं आपका शुक्रगुज़ार हूं।
    इस ब्लॉग के हरेक मेम्बर से विनती है कि वे सभी इस ब्लॉग का लिंक अपने ब्लॉग पर लगा लें ताकि इस ब्लॉग पर ज़्यादा लोगों की नज़र पड़ सके। इस ब्लॉग को सभी सदस्य फ़ॉलो भी करें ताकि उन्हें समय से ताज़ा पोस्ट की इत्तिला मिलती रहे। इस ब्लॉग के जिस मेम्बर का स्वयं का या उसकी पसंद की किसी महिला ब्लॉगर का ब्लॉग का लिंक यहां जुड़ने रह गया हो तो कृप्या उसका लिंक वे ताज़ा पोस्ट की टिप्पणी में दे दें। इंशा अल्लाह लगा दिया जाएगा।
    इसके अलावा अगर किसी के पास कोई बेहतर सलाह हो तो वह उसे भी ज़रूर दे ताकि इस ब्लाग की आवाज़ की तरफ़ ज़्यादा से ज़्यादा लोगों का ध्यान आकृष्ट किया जा सके।

    शालिनी कौशिक said...

    bahut sahi bat kahi hai aapne jo aaj ke hal hain usme shayad har maa ke man se yahi dukh pragat hota hai..

    सदा said...

    यह घटना दुखद होने के साथ - साथ शर्मनाक भी है ...।

    रेखा श्रीवास्तव said...

    आज ये बहुत आम बात हो चुकी है, घर से न निकाला तो घर में ही उसको परित्यक्ता की तरह से जीवन जीने को मजबूर कर दिया. अपनी दो रोटी खुद बना कर खा लेती है और अगर बीमार है तो ऐसी ही पडी रहती है.
    हम पर लानत है.

    Er. सत्यम शिवम said...

    आपकी उम्दा प्रस्तुति कल शनिवार (12.02.2011) को "चर्चा मंच" पर प्रस्तुत की गयी है।आप आये और आकर अपने विचारों से हमे अवगत कराये......"ॐ साई राम" at http://charchamanch.uchcharan.com/
    चर्चाकार:Er. सत्यम शिवम (शनिवासरीय चर्चा)

    POOJA... said...

    सारा हादसा दर्दनाक था
    वो भी सोचती होगी की "एक बार भी यदि प्रसव पीड़ा को सहने की जगह तुझे खो देने पीड़ा के बारे में सोचा भी होते तो तेरा इस दुनिया को देख पाना मुश्किल था"
    पर वो माँ है न, इस सब के बावजूद वो दुआ ही देगी...

    एस.एम.मासूम said...

    बहुत ही अच्छा चित्रण किया है दर्शन कौर जी आपने.
    मां के ऊपर एक लेख लिखा था कभी देख लें
    .
    इस्लाम में भी अल्लाह के बाद अगर किसी की इज्ज़त की बात की गयी है तो वोह हैं वालदैन (माँ बाप).

    Dr Varsha Singh said...

    दुखद.... बेहद दुखद ....
    अत्यंत मार्मिक .

    Dr (Miss) Sharad Singh said...

    तोबा ! करती हु अब ,किसी को नही जनूंगी *
    न अब किसी के सहारे अपनी जिन्दगी पूरी करुगी ,
    जीते- जी मेरी इज्जत किसी ने नही की ,
    मरकर करेगे ये एतबार नही करुँगी ,.....

    मार्मिक ....बहुत मार्मिक ....

    Kunwar Kusumesh said...

    दुखदाई,दर्दनाक.
    ये दुनिया कब सुधरेगी ?

    संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

    मार्मिक चित्रण

    There was an error in this gadget

    Followers

    प्यारी माँ

    Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
    • तुम गाँधी तो नहीं ! - ना ना पीछे मुड़ कर ना देखना क्या पाओगे वहाँ वीभत्स सचाई के सिवा जिसे झेलना तुम्हारे बस की बात नहीं तुम कोई गाँधी तो नहीं ! सामने देखो तुम्हें आगे बढ़ना ...
    • शापित मंजिलें - *... स्थितियाँ * *बदल देती हैं * *राह जिंदगी की ...* *... मंजिलें* *अक्सर अकेली रह * *शापित हो जाया करती हैं !!* *सु-मन *
    • बातें हैं बातों का क्या ....... - अम्बुआ की डाली पर चाहे न कुहुके कोयल किसी अलसाई शाम से चाहे न हो गुफ्तगू कोई बेनामी ख़त चाहे किसी चौराहे पर क्यों न पढ़ लिया जाए ज़िन्दगी का कोई नया शब्दक...
    • पहाड़ों के बीच बसा अलसीगढ़ - #हिन्दी_ब्लागिंग मनुष्य प्रकृति की गोद खोजता है, नन्हा शिशु भी माँ की गोद खोजता है। शिशु को माँ की गोद में जीवन मिलता है, उसे अमृत मिलता है और मिलती है सुरक...
    • केवल राष्ट्र के लिए था यह सृजन - देश की स्वतंत्रता के लिए 1857 से लेकर 1947 तक क्रान्तिकारियों व आंदोलनकारियों के साथ ही लेखकों, कवियों और पत्रकारों ने भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। उस समय...
    • कृष्ण लीला - ग्वाल बाल साथ ले कान्हा ने धूम मचाई गोकुल की गलियों में ! खिड़की खुली थी घर में छलांग लगाई खाया नवनीत खिलाया मित्रों को भी कुछ खाया कुछ फैलाया आहट ...
    • नींद बनाम ख्व़ाब - मैंने अपनी नींदें बेच, कुछ ख्वाब खरीदे थे। रख दिया था सहेज कर, उन्हें अपनी पलकों तले। वक़्त की बारिशों औ आंधी से, कुछ उड़ गए, कुछ बह गए। कुछ को बचाया जतन...
    • तुम राम बनके दिल यूँ ही दुखाते रहोगे . - [image: Image result for seeta agni pariksha image] अवसर दिया श्रीराम ने पुरुषों को हर कदम , अग्नि-परीक्षा नारी की तुम लेते रहोगे , करती रहेगी सीता सदा मर्य...
    • - गज़ल 1 मुहब्बत से रिश्ता बनाया गया उसे टूटते रोज पाया गया मुहब्बत पे उसकी उठी अँगुलियाँ सरे बज़्म रुसवा कराया गया यहाँ झूठ बिकता बड़े भाव पर मगर सच को ठेंगा द...
    • माँ तुझे प्रणाम - *माँ तुझे प्रणाम* *शत शत नमन कोटि प्रणाम * *माँ तुझे प्रणाम ।* *जब मैं तेरी कोख में आई * *तूने स्पर्श से बताया था * *ममता का कोई मोल नहीं * *तूने ही सि...
    • जाने कहाँ गया वो दिन??? - "आज कुछ special बना दो, Sunday है... " ... अभी तो परसों कढ़ाही पनीर बनी थी... "सुनो, मैं अपने दोस्तों से मिल कर आ रहा हूँ, वो आज Sunday है न..." ... हाँ, द...
    • अधूरे हम... - एक युवक बगीचे में खिन्न मुद्रा में बैठा था । एक बुजुर्ग ने उस परेशान युवक से पूछा - क्या हुआ बेटा क्यूं इतने परेशान हो ? युव...
    • नया साल ! - समर घर से निकला तो पत्नी और बच्चों के लिए गिफ्ट पहले ही खरीदता हुआ होटल पहुंचा था। रात में प्रोग्राम ख़त्म करके सीधे घर भागेगा क्यो...
    • वेदों में गायन कला - *- डॉ. शरद सिंह* *गायन मानव की संवेदनाओं को जागृत करता है.आज दुनिया भर में संगीत के महत्व पर वैज्ञानिक शोध हो रहे हैं . पाश्चात्य जगत के व...
    • भ्रष्ट आचार - स्वतंत्र भारत की नीव में उस समय के नेताओं ने अपनी महत्त्वाकांक्षाओं के रख दिये थे भ्रष्ट आचार फिर देश से कैसे खत्म हो भ्रष्टाचार ?
    • उदास आँखों में छुपी झुर्रियों की दास्तान (भाग -9) - *(रात में बेटी के फोन की आवाज़ से जग कर वे,अपना पुराना जीवन याद करने लगती > हैं.उनकी चार बेटियों और दो बेटों से घर गुलज़ार रहता. पति गाँव के स्कूल में > ...

    मन की दुनिया

    नारी का पूर्ण सशक्तिकरण

     
    Copyright (c) 2010 प्यारी माँ. All rights reserved.