औरत महज़ एक शरीर नहीं होती -Rashmi prabha

Posted on
  • Saturday, February 5, 2011
  • by
  • DR. ANWER JAMAL
  • in
  • 'औरत महज़ एक शरीर ही नहीं होती । आदमी शरीर के साथ सो तो सकता है लेकिन जाग नहीं सकता । अगर कलाकारों ने औरत को सचमुच जाना होता तो आज उनकी कला कुछ और ही होती ।'

    मैंने आज रश्मि प्रभा जी की एक रचना में यह अद्भुत विचार पढ़ा और मेरे दिल पर फ़ौरन इसका असर हुआ क्योंकि मैं खुद भी यही विचार रखता हूँ और मैंने अपने लेख 'मर्द के लिए ईनामे ख़ुदा है औरत' में भी यही कहा है । मैंने अपनी टिप्पणी में कहा कि
    'एक फ़नकार जाग रहा है इधर !'
    एक अच्छी पोस्ट !

    और फिर मैंने उन्हें आमंत्रित करते हुए कहा -
    आदरणीया रश्मि जी ! यदि आप 'प्यारी मां' ब्लॉग के लेखिका मंडल की सम्मानित सदस्य बनना चाहती हैं तो
    कृपया अपनी ईमेल आई डी भेज दीजिये और फिर आपको निमंत्रण भेजा जाएगा । जिसे स्वीकार करने के बाद आप इस ब्लाग के लिए लिखना शुरू
    कर सकती हैं.
    यह एक अभियान है मां के गौरव की रक्षा का .
    मां बचाओ , मानवता बचाओ .

    http://pyarimaan.blogspot.com/2011/02/blog-post_03.html


    उनकी इस शानदार पोस्ट को पढ़ने के लिए देखें -
    नज़्मों की सौगात...: पेंटिंग

    औरत एक शरीर से ज़्यादा क्या है ?
    उसकी फ़ितरत , उसकी सोच और उसकी हक़ीक़त क्या है ?
    उसका रिश्ता और उसका रूतबा समाज में क्या है ?
    उसकी मंज़िल क्या है और उसे वह कैसे पा सकती है ?
    अपने रास्ते में वह कौन सी रूकावटें देखती है ?
    एक औरत के रूप में वह अपने अतीत और वर्तमान को कैसे देखती है ?
    बेटी , बहन , बीवी और माँ , इन रिश्तों के बारे में , ख़ास तौर पर माँ के रूप के बारे में एक औरत की सोच और उसका जज़्बा क्या होता है ?
    अगर इन सब बातों को आज तक कलाकार नहीं जान पाए तो यह उनकी कमी तो है ही लेकिन औरत की भी कमी है कि आख़िर वह आज तक दुनिया को बता क्यों नहीं पाई कि वह महज़ एक शरीर नहीं है । अगर उसने बताया होता तो आज औरत का रूतबा हमारे समाज में कुछ और होता ।
    औरत वास्तव में क्या है ?
    इसे अगर सचमुच ठीक तौर पर कोई बता सकता है तो वह है ख़ुद औरत ।
    औरत बताए और मर्द सुने और समझे ।
    यह मंच इसीलिए बनाया गया है ।
    माँ के रूतबे तक पहुंचने से पहले एक औरत जिन मुश्किल इम्तेहानों से गुज़रती है और जो कुछ भी वह महसूस करती है , वह सब अब हमारे सामने आ जाना चाहिए ताकि अगर पहले औरत को न जाना जा सका हो तो न सही लेकिन उस गलती को अब तो सुधार लिया जाए । अगर ऐसा हो गया तो यक़ीनन तब हमारा भविष्य वैसा भयानक और अंधेर न होगा जैसा कि अतीत में रह चुका है और वर्तमान चल ही रहा है ।
    इस अभियान को मजबूती और गति देने के लिए अपने परिचय की महिला ब्लागर्स को इस ब्लाग में ज़्यादा से ज़्यादा जोड़ने की कोशिश करें ताकि इस मंच से एक समवेत स्वर दुनिया भर में गूंजे कि
    औरत केवल एक शरीर नहीं होती ।
    दुनिया को अगर बदलना है तो उसकी सोच को बदलना ही होगा और यह काम भी औरत को खुद ही करना होगा । नेक मर्द उसका साथ जरूर देंगे क्योंकि वे भी तो जानना चाहते हैं कि औरत आखिर है क्या ?

    7 comments:

    POOJA... said...

    हमेशा उनसे कुछ न कुछ सीखने ही मिलता है...
    बहुत बहुत धन्यवाद उनकी इस रचना से मिलवाने के लिए...

    रश्मि प्रभा... said...

    आदरणीय,
    आपने जिस रचना का उल्लेख किया है , वह मेरी नहीं इमरोज़ जी की है... संभवतः आपने ब्लॉग को सही ढंग से
    नहीं देखा है....

    रश्मि प्रभा... said...

    isme likhna chahun to kis tarah sambhaw hai?

    शालिनी कौशिक said...

    सराहनीय प्रस्तुति.

    Minakshi Pant said...

    औरत क्या है ? शायद ये बात अच्छी तरह से वो ही समझा सकती है पर उसके कर्तव्य उसके संस्कार उसे साबित करने मै खुबसूरत भूमिका निभा सकते है क्युकी अलग - अलग तरह की सोच उसे अलग - अलग पहलुओं मै आंकते हैं बस उस पर किया गया विश्वास उसे और खुबसूरत बना देता है ! क्युकी उसमें समर्पण की भावना बहुत होती है बस प्यार और विश्वास !

    वन्दना said...

    आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
    कल (7/2/2011) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
    देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
    अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।
    http://charchamanch.uchcharan.com

    Shivam Bankey said...

    bahut sunder.. MAa to MAa hoti h

    There was an error in this gadget

    Followers

    प्यारी माँ

    Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
    • बस ! अब और नहीं --- - वक्त और हालात ने इतने ज़ख्म दे दिए हैं कि अब हवा का हल्का सा झोंका भी उनकी पर्तों को बेदर्दी से उधेड़ जाता है मैं चाहूँ कि न चाहूँ मेरे मन पर अंकित त...
    • अनुरागी मन - है सौभाग्य चिन्ह मस्तक पर बिंदिया दमकती भाल पर हैं नयन तुम्हारे मृगनयनी सरोवर में तैरतीं कश्तियों से तीखे नयन नक्श वाली तुम लगतीं गुलाब के फूल सी है मधुर ...
    • हम मजबूरों की एक और मजबूरी - बाल मजदूरी - ”बचपन आज देखो किस कदर है खो रहा खुद को , उठे न बोझ खुद का भी उठाये रोड़ी ,सीमेंट को .” ........................................................................
    • ब्राह्मण की पोथी लुटी और बणिये का धन लुटा - हम बनिये-ब्राह्मण उस सुन्दर लड़की की तरह हैं जिसे हर घर अपनी दुल्हन बनाना चाहता है। पहले का जमाना याद कीजिए, सुन्दर राजकुमारियों के दरवाजे दो-दो बारातें ख...
    • अँधा युग - गोली और गाली जो बन चुके हैं पर्यायवाची इस अंधे युग की बनकर सौगात लगाते हैं ठिकाने बडबोली जुबान को तुम , तुम्हारी जुबान और तुम्हारी कलम रहन है सत्ता की...
    • एक उम्मीद जरूरी है जीने के लिए - एक उम्मीद जिसकी नाउम्मीदी पर उठती है मन में खीज, झुंझलाहट निराश मन कोसता बार-बार उम्मीद उनसे जो खुद उम्मीद में जीते-पलते हैं उम्मीद उनसे लगा बैठते हैं परिण...
    • - * GAZAL * पिघल कर आँख से उसकी दिल ए पत्थर नहीं आता" वो हर गिज़ दोस्तो मेरे जनाज़े पर नहीं आता दिखाया होता तूने आइना उसको सदाक़त का जो आया करता था झुक कर, क...
    • रूबरू - *तुझसे रूबरू न हो पाऊँ , न सही * *तेरी धड़कन अब मुझसे होकर गुजरती है !!* *सु-मन *
    • नींद बनाम ख्व़ाब - मैंने अपनी नींदें बेच, कुछ ख्वाब खरीदे थे। रख दिया था सहेज कर, उन्हें अपनी पलकों तले। वक़्त की बारिशों औ आंधी से, कुछ उड़ गए, कुछ बह गए। कुछ को बचाया जतन...
    • माँ तुझे प्रणाम - *माँ तुझे प्रणाम* *शत शत नमन कोटि प्रणाम * *माँ तुझे प्रणाम ।* *जब मैं तेरी कोख में आई * *तूने स्पर्श से बताया था * *ममता का कोई मोल नहीं * *तूने ही सि...
    • जाने कहाँ गया वो दिन??? - "आज कुछ special बना दो, Sunday है... " ... अभी तो परसों कढ़ाही पनीर बनी थी... "सुनो, मैं अपने दोस्तों से मिल कर आ रहा हूँ, वो आज Sunday है न..." ... हाँ, द...
    • अधूरे हम... - एक युवक बगीचे में खिन्न मुद्रा में बैठा था । एक बुजुर्ग ने उस परेशान युवक से पूछा - क्या हुआ बेटा क्यूं इतने परेशान हो ? युव...
    • नया साल ! - समर घर से निकला तो पत्नी और बच्चों के लिए गिफ्ट पहले ही खरीदता हुआ होटल पहुंचा था। रात में प्रोग्राम ख़त्म करके सीधे घर भागेगा क्यो...
    • वेदों में गायन कला - *- डॉ. शरद सिंह* *गायन मानव की संवेदनाओं को जागृत करता है.आज दुनिया भर में संगीत के महत्व पर वैज्ञानिक शोध हो रहे हैं . पाश्चात्य जगत के व...
    • भ्रष्ट आचार - स्वतंत्र भारत की नीव में उस समय के नेताओं ने अपनी महत्त्वाकांक्षाओं के रख दिये थे भ्रष्ट आचार फिर देश से कैसे खत्म हो भ्रष्टाचार ?
    • उदास आँखों में छुपी झुर्रियों की दास्तान (भाग -7) - *(रात में बेटी के फोन की आवाज़ से जग कर वे,अपना पुराना जीवन याद करने लगती हैं.उनकी चार बेटियों और दो बेटों से घर गुलज़ार रहता. पति गाँव के स्कूल में शिक्षक...

    मन की दुनिया

    नारी का पूर्ण सशक्तिकरण

    • ये है नारी शक्ति - नारी की सशक्तता यहाँ देखो /इनमे देखो . मैंने बहुत पहले एक आलेख लिखा था- नारी शक्ति का स्वरुप:कमजोरी केवल भावुकता/सहनशीलता [image: Maa Durga][image: Maa Durg...
      4 days ago
     
    Copyright (c) 2010 प्यारी माँ. All rights reserved.