छात्रा से किया 75 बार balatkar

Posted on
  • Tuesday, October 22, 2013
  • by
  • DR. ANWER JAMAL
  • in
  • Labels:
  • आम तौर पर आप जब भी किसी से समाज में गिरते मूल्यों को ऊपर उठाने के बारे विचार विमर्श करेंगे तो यह सुनने को मिलता है कि शिक्षा इन सब समस्याओं का हल है. ...लेकिन क्या सचमुच शिक्षा समाज से बुराईयों को हटा रही है ? ताज़ा खबर यह है कि एक अध्यापक ने चौथी क्लास की अपनी शिष्या से बलात्कार करना शुरू किया तो 75 बार कर डाला। इसलिए सब अपने बच्चे बच्चियों की हिफाज़त के लिये उनके टीचरों पर सतर्क दृष्टि ज़रूर रखे. पूरी ख़बर पढने के लिए अखबार की कटिंग देख लें. एक बार फिर सोचिये कि कौन सी चीज़ हमसे छूट रही है ? 


    ऐसे बहुत से केस हैं बल्कि ज़ुल्म के शिकार तमाम केस इस बात के गवाह हैं कि उन्हें बरसों भटकने के बाद भी दुनिया में न्याय नहीं मिल पाया. इसीलिये वैदिक धर्म और इसलाम में ही नहीं बल्कि अन्य धर्मों में भी मरने के बाद पीड़ितों को न्याय मिलने और पापियों को नर्क की आग में जलाये जाने का बयान मिलता है. नास्तिकों ने इस बात को मानने से ही इंकार कर दिया है. जीवन और मौत के बारे में सही जानकारी की कमी भी जरायम बहने का एक सबब है. हमें अपने बच्चों को बुरे लोगों की शिनाख्त कराने के साथ यह भी बताना चाहिये कि हमें किसने पैदा किया है और क्या करने के लिये पैदा किया है और
    नास्तिक बताते हैं कि दुनिया में तो किसी के साथ न्याय होता नहीं है. जिसका ज़ोर चलता है लोगों से अपने काम करवाता है, उनका शोषण करता है. मरने के बाद शोषण करने वाले और ज़ुल्म का शिकार होने वाले दोनों मरकर मिट्टी में मिल जाते हैं.
    सवाल यह है कि जब वे समाज में ऐसी बातें फैलाते हैं तो ताक़तवर लोग ज़ुल्म करने क्यों डरेंगे ?
    हम जानते ही हैं कि एक ही अधिकारी अमीर और गरीब के साथ क्या बर्ताव करते हैं ?
    नास्तिकता किसी समस्या का हल नहीं है बल्कि यह समस्याओं को बढ़ा रही है.
    नास्तिकों में वे लोग भी शामिल समझे जाने चाहियें जो धर्म का नाम लेते हैं लेकिन धर्म की बात नहीं मानते.
    Source: http://pyarimaan.blogspot.in/2013/10/75-balatkar.html

    0 comments:

    Followers

    प्यारी माँ

    Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
    • ‘सत्यमेव जयते’ - *‘सत्यमेव जयते’* *लिखने पढ़ने में यह नारा* *कितना अच्छा लगता है,* *‘सत्य का आभामण्डल* *बहुत विशाल होता है’* *कहने सुनने के लिये* *यह कथन भी* *कितना सच्चा...
    • हम किसका दाना चुग रहे हैं! - www.sahityakar.com आज जो हो रहा है, वही कल भी हो रहा था, हर युग में हो रहा था। हम पढ़ते आए हैं कि राक्षस बच्चों को खा जाते थे, आज भी बच्चों को खाया ही जा र...
    • भूमिका 'पलाश ' - भूमिका - मेरी दीदी आशा सक्सेना जी के नये काव्य संकलन ‘पलाश ’ को लेकर मैं आज आपके सम्मुख उपस्थित हुई हूँ ! दीदी की सृजनशीलता के सन्दर्भ में कुछ भी कहना सूर...
    • कश्मीर - *नज़्म भी जिसके आगोश में फ़ना हो गई * *कश्मीर ! जिसे दुनिया जन्नत पुकारती है ||* *सु-मन *
    • प्रायश्चित ! - गौरव आज गांव आया हुआ था पिताजी ने गांव में एक मंदिर का निर्माण कराया है उसी का रुद्राभिषेक का कार्यक्रम है।पूजा में उसने भी श्रध्दापूर्वक भाग लिया।...
    • हम शर्मिंदा हैं - मरे हुए लोग हाय हाय नहीं करते मरे हुए लोगों की कोई आवाज़ नहीं होती मरे हुए लोगों की कोई कम्युनिटी नहीं होती जो कोशिशों के परचम लहराए और हरी भरी हो जाए धरा मन...
    • सुबह की सैर और तम्बाकू पसंद लोग - गर्मियों में बच्चों की स्कूल की छुट्टियाँ लगते ही सुबह-सुबह की खटरगी कम होती है, तो स्वास्थ्य लाभ के लिए सुबह की सैर करना आनंददायक बन जाता है। यूँ तो गर्...
    • Happy Holi - Holi Wishes by Dr (Miss) Sharad Singh
    • पीछे से वार करते हैं वे जनाब आली.... - झुंझलाके क़त्ल करते हैं वे जनाब आली . नुमाइंदगी करते हैं वे जनाब आली , जजमान बने फिरते हैं वे जनाब आली . ....................................................
    • - * गज़ल * रहे बरकत बुज़ुर्गों से घरों की हिफाजत तो करो इन बरगदों की खड़ेगा सच भरे बाजार में अब नहीं परवाह उसको पत्थरों की रहे चुप हुस्न के बढ़ते गुमां पर रही ...
    • पुस्तक समीक्षा---“मौत के चंगुल में” - *(**हिन्दी के प्रतिष्ठित बाल साहित्यकार हमारे पिताजी आदरणीय श्री प्रेमस्वरूप श्रीवास्तव जी **की **आज **पुण्य तिथि **है।**आज 31 जुलाई 2016 को वो हम सभी को ...
    • हरियाली का महत्व स्वयं देखें... - इन तस्वीरों को देखकर आपको पेड़ों का महत्व समझ में आ पायेगा... पर्यावरण को बचाने में अपना अधिक से अधिक योगदान दें । पेडों को ...
    • नींद बनाम ख्व़ाब - मैंने अपनी नींदें बेच, कुछ ख्वाब खरीदे थे। रख दिया था सहेज कर, उन्हें अपनी पलकों तले। वक़्त की बारिशों औ आंधी से, कुछ उड़ गए, कुछ बह गए। कुछ को बचाया जतन...
    • जाने कहाँ गया वो दिन??? - "आज कुछ special बना दो, Sunday है... " ... अभी तो परसों कढ़ाही पनीर बनी थी... "सुनो, मैं अपने दोस्तों से मिल कर आ रहा हूँ, वो आज Sunday है न..." ... हाँ, द...
    • भ्रष्ट आचार - स्वतंत्र भारत की नीव में उस समय के नेताओं ने अपनी महत्त्वाकांक्षाओं के रख दिये थे भ्रष्ट आचार फिर देश से कैसे खत्म हो भ्रष्टाचार ?
    • और वो चला गया,बिना मुड़े... - दो दिनों की लगातार बारिश के बाद चैंधियाती धूप निखरी थी सफेद कमीज और लाल निक्कर में सजे छोटे-छोटे बच्चों की चहचहाहट से मैंदान गूंज रहा था। अपने केबिन में ब...

    मन की दुनिया

    नारी का पूर्ण सशक्तिकरण

    • केवल एक मांग - फांसी दो - वास्तव में ट्विंकल जैसी कलियों का दुष्टों द्वारा नोंचा जाना हमारे पूरे सामाजिक व प्रशासनिक संगठन पर एक चुभता प्रश्नचिन्ह है. विभत्सता की पराकाष्ठा है ये. ज...
      5 weeks ago
     
    Copyright (c) 2010 प्यारी माँ. All rights reserved.