सवा साल की बच्ची हवस का शिकार

Posted on
  • Wednesday, April 24, 2013
  • by
  • DR. ANWER JAMAL
  • in
  • Labels:

  • संगरूर (पीटीआई)। पंजाब के संगरूर ज़िले में सवा साल की बच्ची को 14 साल के उसके फूफेरे भाई ने हैवानियत का शिकार बनाया। बच्ची की माँ मीना बाई ने महिला चौकी में दर्ज शिकायत में बताया कि उसके पति के सगे भान्जे जशन शर्मा ने कल रात उसकी मासूम बच्ची को हवस का शिकार बनाया। वह भटिन्डा से आया था। मुल्ज़िम के खि़लाफ़ छाजली थाना में मामला दर्ज कर लिया गया है। मीना ने बताया कि पहले तो उसने घर की इज़्ज़त रखने के लिए मामले को दबाने की कोशिश की लेकिन बच्ची की हालत ख़राब होने से परेशान हो कर उसने इसकी सूचना पुलिस को दे दी। बच्ची संगरूर के सिविल अस्पताल में दाखि़ल है और उसकी मेडिकल जांच कर ली गई है। जिस में अस्मत-दरी की तस्दीक़ हो गई है। इस सिलसिले में मुक़ददमा दर्ज करके नाबालिग़ मुल्ज़िम को गिरफ़्तार कर लिया गया है।
    रोज़नामा राष्ट्रीय सहारा उर्दू दिनांक 24 अप्रैल 2013 पृ. 8
    ................................................................
    यह केस भी दिल्ली के गुड़िया रेप कांड जैसा ही संगीन है। बच्ची की उम्र को देखते हुए यह उससे भी ज़्यादा घिनौना है। इसके बावजूद इस केस पर दिल्ली में कोई आंदोलन नहीं होगा। दिल्ली वाले अक्सर दिल्ली के मामलों को लेकर ही उबाल खाते हैं। वे ख़ुद को सुरक्षित देखना चाहते हैं। संगरूर के इस मामले को इलाक़ाई मानकर नज़रअंदाज़ कर दिया जाएगा। अक्सर राष्ट्रीय हिन्दी दैनिकों में इस ख़बर को प्रमुखता नहीं दी गई है और कुछ ने तो इसे प्रकाशित भी नहीं किया। इस एक घटना से हमारे समाज और मीडिया प्रतिष्ठानों की चिंता के स्तर और संवेदनहीनता को साफ़ देखा जा सकता है। हम एक बीमार समाज में रह रहे हैं। जहां हरेक ख़ुद के लिए ही सब कुछ कर रहा है। 
    दूसरों के लिए कुछ करने का जज़्बा आज मन्द पड़ चुका है।
    हम सबको इस तरफ़ ध्यान देने की ज़रूरत है।

    2 comments:

    रेखा श्रीवास्तव said...

    सिर्फ यही ही नहीं बल्कि रोज उठा कर देख लीजिये कम से कम ४ -५ दुष्कर्म के मामले अख़बार में मिल जाते हैं . न प्रदर्शन से और न हंगामा करने से होने वाला है . दिसंबर में कितने कडकडाती सर्दी में प्रदर्शनकारी न्याय पाने के लिए उचित उठाने की मांग करते रहे . क्या मिला ? नाबालिग अपराधियों को तो कोई डर ही नहीं है क्योंकि सजा मिलने से रही . अब बालिग़ और नाबालिग तय करने के लिए अपराध की श्रेणी को भी देखना होगा . फिर दुष्कर्म और भी के साथ एक अक्षम्य अपराध की श्रेणी में रखा जाना चहिए.

    Sunitamohan said...

    vo bitiya jaldi thik ho aur ek bahadur aurat bane aisi meri kamna hai, magar in ghatnaon ko sunkar dil chitkaar kar uthta hai, par samajh nahi aata karen to kya, ab man me dar is kadar baith gaya hai ki apni bitiya ki har pal chaukasi karne lgi hun, aisa kar mai uski aazadi ka hanan karti hun, par koi rasta nahi soojhta! har din balaatkar k case badhte nazar aa rahe hain. samaaj kis gart me ja raha hai???????

    There was an error in this gadget

    Followers

    प्यारी माँ

    Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
    • बेघर बेचारी नारी - [image: Image result for poor position of woman image] निकल जाओ मेरे घर से एक पुरुष का ये कहना अपनी पत्नी से आसान बहुत आसान किन्तु क्या घर बनाना उसे बसाना सी...
    • एकाकी मोरनी - बाट निहारूँ कब तक अपना जीवन वारूँ आ जाओ प्रिय तुम पर अपना सर्वस हारूँ सूरज डूबा दूर क्षितिज तक हुआ अंधेरा घिरी घटाएं रिमझिम बरसें टूटे जियरा ...
    • क्या दीवाली लक्ष्मी जयन्ती है? - एक मान्यता के अनुसार दीपावली ‘लक्ष्मी जयन्ती’ अर्थात् लक्ष्मी के जन्मदिन के रूप में मनाई जाती है। निश्चित ही यह कल्पना अर्वाचीन है, क्योंकि प्राचीन देवताओं...
    • दीवाली इस वर्ष - [image: Happy Diwali and swachchhata abhiyan - pics के लिए चित्र परिणाम] जब ज्योति जली विष्णुप्रिया के मंदिर में तम घटा घर के हर कोने का जगमग मन मंदिर हु...
    • अपनी बचा लूं और दूसरे की रीत दूँ - पहली बार अमेरिका 2007 में जाना हुआ था। केलिफोर्निया में रेड-वुड नामक पेड़ का घना जंगल है। हम मीलों-मील चलते रहे लेकिन जंगल का ओर-छोर नहीं मिला। इस जंगल में...
    • हुनर - *समेट लेना खुद को , अपने दायरे में * *सिखा देता है ये हुनर , वक़्त आहिस्ता आहिस्ता !!* *सु-मन *
    • We never can change our history - Dr Sharad Singh - *Dr Sharad Singh, * *Author & Historian**Thought of the Day* *History give us a chance to change ourselves but we never can change our history.* *- Dr Shar...
    • झूठ की लंका ! - गाँव में समाधान बैठक होने वाली थी और उसमें मंत्रीजी का आना तय था। सरपंच गाँव में माहौल बनाने के लिए लोगों को पहले से स...
    • - * गज़ल * बेवफाई के नाम लिखती हूँ आशिकी पर कलाम लिखती हूँ खत में जब अपना नाम लिखती हूँ मैं हूँ उसकी जिमाम लिखती हूँ आँखों का रंग लाल देखूँ तो उस नज़र को मैं...
    • अँधा युग - गोली और गाली जो बन चुके हैं पर्यायवाची इस अंधे युग की बनकर सौगात लगाते हैं ठिकाने बडबोली जुबान को तुम , तुम्हारी जुबान और तुम्हारी कलम रहन है सत्ता की...
    • नींद बनाम ख्व़ाब - मैंने अपनी नींदें बेच, कुछ ख्वाब खरीदे थे। रख दिया था सहेज कर, उन्हें अपनी पलकों तले। वक़्त की बारिशों औ आंधी से, कुछ उड़ गए, कुछ बह गए। कुछ को बचाया जतन...
    • माँ तुझे प्रणाम - *माँ तुझे प्रणाम* *शत शत नमन कोटि प्रणाम * *माँ तुझे प्रणाम ।* *जब मैं तेरी कोख में आई * *तूने स्पर्श से बताया था * *ममता का कोई मोल नहीं * *तूने ही सि...
    • जाने कहाँ गया वो दिन??? - "आज कुछ special बना दो, Sunday है... " ... अभी तो परसों कढ़ाही पनीर बनी थी... "सुनो, मैं अपने दोस्तों से मिल कर आ रहा हूँ, वो आज Sunday है न..." ... हाँ, द...
    • अधूरे हम... - एक युवक बगीचे में खिन्न मुद्रा में बैठा था । एक बुजुर्ग ने उस परेशान युवक से पूछा - क्या हुआ बेटा क्यूं इतने परेशान हो ? युव...
    • भ्रष्ट आचार - स्वतंत्र भारत की नीव में उस समय के नेताओं ने अपनी महत्त्वाकांक्षाओं के रख दिये थे भ्रष्ट आचार फिर देश से कैसे खत्म हो भ्रष्टाचार ?
    • उदास आँखों में छुपी झुर्रियों की दास्तान (भाग -4) - *(रात में बेटी के फोन की आवाज़ से वे जग जाती हैं,और पुराना जीवन याद करने लगती हैं.उनकी चार बेटियों और दो बेटों से घर गुलज़ार रहता. पति गाँव के स्कूल में श...

    मन की दुनिया

    नारी का पूर्ण सशक्तिकरण

    • बेघर बेचारी नारी - [image: Image result for poor position of woman image] निकल जाओ मेरे घर से एक पुरुष का ये कहना अपनी पत्नी से आसान बहुत आसान किन्तु क्या घर बनाना उसे बसाना सी...
      1 day ago
     
    Copyright (c) 2010 प्यारी माँ. All rights reserved.