अपनी लड़कियों को हमेशा हिफ़ाज़त मुहैय्या कराएं

Posted on
  • Wednesday, July 4, 2012
  • by
  • DR. ANWER JAMAL
  • in
  • Labels: ,
  • पहले लड़कियों को उनकी हिफाज़त की गर्ज़ से घर में रखा जाता था और जब वे घर से बाहर जाती थीं तो उनकी हिफाज़त के लिए घर का कोई न कोई सदस्य भी उनके साथ जाता था . आज लड़कियों और औरतों के लिए खतरे पहले से ज़्यादा बढ़ गए हैं और उनकी हिफ़ाज़त  का परम्परागत कवच भी आज उन्हें मयस्सर  नहीं है. अपनी लड़कियों को हमेशा हिफ़ाज़त मुहैय्या कराएं. दरिन्दे जान पहचान के दायरे में भी होते हैं।. देखिये एक ताज़ा घटना और सबक़  हासिल कीजिये-

    ब्लू फिल्म देखते हुए दो नाबालिगों के साथ 5 लोग सारी रात करते रहे रेप

    नागपुर. हुडकेश्वर क्षेत्र में पांच लोगों पर दो नाबालिग लड़कियों के साथ पूरी रात गैंगरेप करने का आरोप लगा है। ये पांचों रात भर ब्लू फिल्म देखते रहे और बारी-बारी से लड़कियों को हवस का शिकार बनाते रहे। एक लड़की की उम्र 12 और दूसरी की 14 वर्ष बताई गई है। पांचों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है।
    आरोपियों ने रविवार की रात 9 बजे से सोमवार की सुबह 5 बजे तक स्वागत नगर में एक आरोपी के घर में वारदात को अंजाम दिया। उस घर में कोई नहीं था। पांच आरोपियों में से एक के कहने पर दोनों लड़कियां उसके साथ स्वागत नगर गई थीं। उस आरोपी की पीडि़त लड़कियों में से एक के साथ अच्‍छी पहचान थी। 
    जुल्म की रात
    पुलिस के अनुसार स्वागत नगर इलाके में रहने वाले प्रशांत जोगदंड (24), छगन श्रीवास (30), पंकज दूधकावडे (22), भूषण जावडे (21) और संजय सोनटक्के (23) ने बस्ती की ही दो लड़कियों के साथ गैंगरेप किया। गैंगरेप की शिकार 14 वर्षीय लड़की पंकज दूधकावडे की दोस्त थी। रविवार की रात पंकज उसे बस्ती में मिला। उसने उसकी सहेली (दूसरी पीडि़ता) के बारे में पूछा और कहा कि उसे बुला कर ला, कुछ दोस्तों से मिलवाता हूं। पंकज की बातों में आकर दीपिका (14 वर्षीय लड़की का बदला हुआ नाम) ने अपनी 12 वर्षीय सहेली नीलम (परिवर्तित नाम) को उसके घर से बुलाया।  
    दीपिका और नीलम को लेकर पंकज अपने दोस्त छगन श्रीवास के घर लेकर गया। वहां पर छगन के अलावा प्रशांत, भूषण और संजय मौजूद थे। वे सभी पहले से ही ब्लू फिल्म देख रहे थे। पंकज के पहुंचने के बाद सभी ने फिल्म बंद कर दिया। उसके बाद पंकज ने दीपिका और नीलम का एक दूसरे से परिचय कराया। पंकज और उसके दोस्तों ने उनसे कहा कि घर में कोई नहीं है। पार्टी मनाएंगे। दीपिका और नीलम ने इनकार किया कि वे घर वापस नहीं गईं तो घर वाले परेशान हो जाएंगे। 
    इस बीच फिर पंकज और उसके दोस्तों ने फिर से ब्लू फिल्म शुरू कर दी। उसके बाद सभी दोस्तों ने सारी रात दोनों लड़कियों के साथ जबरदस्‍ती की। 
    लड़कियों के घर वाले सारी रात उनकी तलाश में जुटे रहे। सोमवार की सुबह उनके परिजन हुडकेश्वर थाने में उनके गायब होने की शिकायत दर्ज कराने जा रहे थे, तब बदहवास हालत में नीलम उन्हें आती दिखाई दी। उसी से दीपिका के बारे में पता चला। दीपिका छगन के घर पर अकेली पड़ी थी। घर का दरवाजा खुला था। 
    दोनों लड़कियों को लेकर उनके घर वाले थाने पहुंचे। हुडकेश्वर पुलिस ने गैंगरेप का मामला दर्ज कर सभी आरोपियों को पकड़ लिया। तफ्तीश जारी है।
    Source : http://www.bhaskar.com/article/MH-girls-got-gangraped-while-watching-blue-film-3477001.html?RHS-badi_khabare=

    3 comments:

    राजन said...

    जमाल साहब,समाज ऐसी खबरों से पहले ही डरा हुआ हैं.बेटियों पर हिफाजत के नाम पर पाबंदियाँ पहले ही बहुत ज्यादा हैं.अब कहाँ तक उनकी हिफाजत की जाए क्योंकि सबसे ज्यादा यौन शोषण के मामलों में तो घर परिवार या जान पहचान का ही कोई व्यक्ति शामिल होता है.अच्छा हो कि सीधे जडों का इलाज किया जाए.बेटों को महिलाओं का सम्मान करना सिखाया जाए और ये नहीं हो सकता तो उन पर पाबंदियाँ लगाई जाए न कि कोई गलती करने पर उनका पक्ष लिया जाए.

    DR. ANWER JAMAL said...

    @ Rajan ji ! दरिन्दे माँ बाप का कहना नहीं सुनते और मौत की सज़ा यहाँ दी नहीं जाती. लिहाज़ा अपनी बेटियों को महफूज़ कैसे रखना है ?, यह सोचना आपकी और हमारी ज़िम्मेदारी है.

    VIPIN KUMAR said...

    ये बात तो ठीक है पर कोई ऐसा रास्ता निकाला जाए जिससे महिलाओं पर पाबंदी ना लगे हो सके तो आत्मरक्षा करनी सीखनी चाहिए

    Followers

    प्यारी माँ

    Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
    • ‘सत्यमेव जयते’ - *‘सत्यमेव जयते’* *लिखने पढ़ने में यह नारा* *कितना अच्छा लगता है,* *‘सत्य का आभामण्डल* *बहुत विशाल होता है’* *कहने सुनने के लिये* *यह कथन भी* *कितना सच्चा...
    • हम किसका दाना चुग रहे हैं! - www.sahityakar.com आज जो हो रहा है, वही कल भी हो रहा था, हर युग में हो रहा था। हम पढ़ते आए हैं कि राक्षस बच्चों को खा जाते थे, आज भी बच्चों को खाया ही जा र...
    • भूमिका 'पलाश ' - भूमिका - मेरी दीदी आशा सक्सेना जी के नये काव्य संकलन ‘पलाश ’ को लेकर मैं आज आपके सम्मुख उपस्थित हुई हूँ ! दीदी की सृजनशीलता के सन्दर्भ में कुछ भी कहना सूर...
    • कश्मीर - *नज़्म भी जिसके आगोश में फ़ना हो गई * *कश्मीर ! जिसे दुनिया जन्नत पुकारती है ||* *सु-मन *
    • प्रायश्चित ! - गौरव आज गांव आया हुआ था पिताजी ने गांव में एक मंदिर का निर्माण कराया है उसी का रुद्राभिषेक का कार्यक्रम है।पूजा में उसने भी श्रध्दापूर्वक भाग लिया।...
    • हम शर्मिंदा हैं - मरे हुए लोग हाय हाय नहीं करते मरे हुए लोगों की कोई आवाज़ नहीं होती मरे हुए लोगों की कोई कम्युनिटी नहीं होती जो कोशिशों के परचम लहराए और हरी भरी हो जाए धरा मन...
    • सुबह की सैर और तम्बाकू पसंद लोग - गर्मियों में बच्चों की स्कूल की छुट्टियाँ लगते ही सुबह-सुबह की खटरगी कम होती है, तो स्वास्थ्य लाभ के लिए सुबह की सैर करना आनंददायक बन जाता है। यूँ तो गर्...
    • Happy Holi - Holi Wishes by Dr (Miss) Sharad Singh
    • पीछे से वार करते हैं वे जनाब आली.... - झुंझलाके क़त्ल करते हैं वे जनाब आली . नुमाइंदगी करते हैं वे जनाब आली , जजमान बने फिरते हैं वे जनाब आली . ....................................................
    • - * गज़ल * रहे बरकत बुज़ुर्गों से घरों की हिफाजत तो करो इन बरगदों की खड़ेगा सच भरे बाजार में अब नहीं परवाह उसको पत्थरों की रहे चुप हुस्न के बढ़ते गुमां पर रही ...
    • पुस्तक समीक्षा---“मौत के चंगुल में” - *(**हिन्दी के प्रतिष्ठित बाल साहित्यकार हमारे पिताजी आदरणीय श्री प्रेमस्वरूप श्रीवास्तव जी **की **आज **पुण्य तिथि **है।**आज 31 जुलाई 2016 को वो हम सभी को ...
    • हरियाली का महत्व स्वयं देखें... - इन तस्वीरों को देखकर आपको पेड़ों का महत्व समझ में आ पायेगा... पर्यावरण को बचाने में अपना अधिक से अधिक योगदान दें । पेडों को ...
    • नींद बनाम ख्व़ाब - मैंने अपनी नींदें बेच, कुछ ख्वाब खरीदे थे। रख दिया था सहेज कर, उन्हें अपनी पलकों तले। वक़्त की बारिशों औ आंधी से, कुछ उड़ गए, कुछ बह गए। कुछ को बचाया जतन...
    • जाने कहाँ गया वो दिन??? - "आज कुछ special बना दो, Sunday है... " ... अभी तो परसों कढ़ाही पनीर बनी थी... "सुनो, मैं अपने दोस्तों से मिल कर आ रहा हूँ, वो आज Sunday है न..." ... हाँ, द...
    • भ्रष्ट आचार - स्वतंत्र भारत की नीव में उस समय के नेताओं ने अपनी महत्त्वाकांक्षाओं के रख दिये थे भ्रष्ट आचार फिर देश से कैसे खत्म हो भ्रष्टाचार ?
    • और वो चला गया,बिना मुड़े... - दो दिनों की लगातार बारिश के बाद चैंधियाती धूप निखरी थी सफेद कमीज और लाल निक्कर में सजे छोटे-छोटे बच्चों की चहचहाहट से मैंदान गूंज रहा था। अपने केबिन में ब...

    मन की दुनिया

    नारी का पूर्ण सशक्तिकरण

    • केवल एक मांग - फांसी दो - वास्तव में ट्विंकल जैसी कलियों का दुष्टों द्वारा नोंचा जाना हमारे पूरे सामाजिक व प्रशासनिक संगठन पर एक चुभता प्रश्नचिन्ह है. विभत्सता की पराकाष्ठा है ये. ज...
      5 weeks ago
     
    Copyright (c) 2010 प्यारी माँ. All rights reserved.