यादें :चर्चित लेखिका-कमल कुमार

Posted on
  • Saturday, June 2, 2012
  • by
  • DR. ANWER JAMAL
  • in
  • मैं मां की पसंद नहीं थी। एक तो मेरे रूप-रंग को लेकर मां की चिंता फिर मैं दूसरों जैसी उठ जाओ उठ गई। बैठ जाओ बैठ गई। घूम जाओ, घूम गई वाली लड़कियों में से नहीं थी। मां चाहती थी कि मैं अच्छी लड़कियों की तरह बनूं। खाना बनान सीखूं , सिलाई-बुनाई करूं, घर के कामों में हाथ बंटाऊं और जो कोई जैसा कहे वैसा करूं। मुझे इन कामों का कतई शौक नहीं था। घर में बहुत सारे नौकर-चाकर तो थे पर तो भी मां मुझे कामों में लगाना चाहती थी। मां को मेरा भागना-दौडऩा, कूदना-फांदना, हंसना-खेलना या किसी कोने में किनारे बैठ कर दिन भर कहानियों की किताबें पढऩा अखरता था। मां किसी ने किसी बात को लेकर डांटती-फटकारती इसलिए मैं अपने पिता के अधिक नजदीक थी। शाम को उनके साथ क्लब जाना बैडमिंटन खेलना। सबके साथ बोलना-हंसना और मौज-मस्ती करना। मां इससे चिढ़ती थी। पिताजी से कहती आप इस लडक़ी को बिगाड़ रहे हो। आगे जाके इसका क्या होगा। पिता हंस कर कहते- पढ़-लिख जाएगी सब ठीक हो जाएगा। पिताजी का ट्रांसफर अलवर में हो गया था। मेरा दाखिला स्कूल में नहीं हो सका। मुझे पांच-छह महीने घर में ही रहना पड़ा था। नीचे बैंक का दफ्तर था और ऊपर में मैनेजर का आवास था। वह बहुत बड़ा पुराना और रहस्यात्मक सा घर था। मुझे अच्छा नहीं लगता था। सुबह भाई-बहन स्कूल-कालेज चले जाते थे और मैं घर में भटकती रहती। फिर कभी वहां से निकल कर दो फर्लांग पर राजा का पुराना महल था वहां पहुंच जाती। वहां बहुत से टूरिस्ट आते थे। गाइड उनको बताता- दीवारों पर लगी पेंटिग्स को दिखाकर या मूर्तियों के पास जाकर तो कभी खंभों पर टिके बड़े-बड़े हाल की ओर इशारा करके उन्हें बताता वहां पहले क्या होता था। मुझे गाइड का कहा सुनना बंद हो जाता मैं राजा के महल में बहुत सारी रानियों के साथ तो कभी राजा की सेना के बीच हाथी-घोड़ों को खड़ी देखती। अचानक कोई मुझे रोक कर पूछता- तुम किसके साथ हो बच्ची? मैं? अपने साथ। और आगे बढ़ जाती। एक लंबा हाल और बरामदे के बाद खुले में आ जाती, जहां से औरतों को सिर पर लकडिय़ों और और घास के ..., चरवाहों को गायें और बकरियों के झुंड के पीछे जंगल से लौटते हुए देखती। शाम ढलती तो वहां का चौकीदार हडक़ा देता, घर जाओ बच्ची यहां रात को भेडिय़ा आता है। तुम्हें कुछ नहीं कहता? वह तुम्हारा दोस्त है क्या? चौकीदार मेरी तरफ देखता, मैं वहां से भाग कर घर आ जाती, मां से डांट खाती। मैंने उस बहुत सारे कमरों वाले घर में कोने का एक कमरा ले लिया था, तब टीवी नहीं था। दस साढ़े दस बजे तक घर में सब सो जाते। मैं अपने कमरें में देर रात तक किताबें पढ़ती, कविताएं लिखती या रेडियो सुनती। हमारे घर में कोई परिचित गेस्ट रूम में ठहरा था। वह सुबह जाकर शाम को लौटता, हम सबके साथ खाना खाता और हम अपने-अपने कमरों में चले जाते। उस दिन मैं सोने लगी तो अचानक देखा, वह मेरे कमरे में खड़ा है। मैंने सहज भाव से पूछा, कुछ चाहिए अंकल जी। वह आगे बढ़ा था,उसने एक में मेरे कंधों को और दूसरे में घुटने पर डाल कर मुझे पलंग पर लिटा दिया था। मैंने तेजी से हाथ-पैर चलाए थे और खुले दरवाजे से बाहर भागी थी। मम्मा और मम्मा, मुझे... मां को झकझोरा था। चैन नहीं लेनी देती। सारे भाई-बहन सोए हुए हैं, इसको डर लग रहा है। जा सो जा जाके। तभी मेरी अम्मा की आवाज आई-आ जा बेटी इधर आ जा, खिसक कर अम्मा ने मेरे लिए जगह बनाई। मैं उसके पास सोई थी। अम्मा ने पूछा था- क्या हुआ बेटी? मैंने बताया- अम्मा यह अंकल मुझे अच्छे नहीं लगते। अम्मा की पैनी नजर भांप गई थी। सुबह ही नाश्ते के बाद अम्मा ने उससे कहा था, बेटा अपना इंतजाम दूसरी जगह कर ले। हमारे यहां मेहमान आने वाले हैं। वह शाम को अपना सामान उठा कर चला गया था। मां और पिताजी ने बुरा माना था, पर अम्मा ने कुछ नहीं कहा था। बड़ी होती लडक़ी के साथ मां का जो रिश्ता बनना चाहिए था, बना ही नहीं था। मैं ब़ड़़ी हो गई थी। एम.ए कर चुकी थी। कालेज में पढ़ा रही थी। पिताजी का ट्रांसफर तब कानपुर में हो चुका था। सभी भाई-बहन बाहर थे, मेरी दो बहनें हास्टल में थीं। बड़ी की शादी हो चुकी थी। दोनों बड़े भाई नौकरी पर बाहर थे। मैं ही मम्मा और पिताजी के पास थी। मेरी कोई सहेली नहीं थी। हम तब नए-नए ही आए थे। मैं मम्मा को कहती चल मम्मा आज फिल्म देखने चलते हैं। पर तेरे पिताजी का खाना....। टिफिन लगा देती, चपरासी आएगा, बहादुर दे देगा। हम दोपहर का शो देखने जाएंगे। मम्मा थोड़ा हिचकिचाई। डैडी अंग्रेजी फिल्म देखते थे। मम्मा या तो जाती ही नहीं थी या जाती थी भी तो कोरी ही लौट आती। उन्हें हिंदी फिल्में पसंद थी। हमने रिक्शा लिया गाड़ी नहीं मंगवाई थी। गर्मी का महीना था। धूल भरी आंधी। रिक्शावाला आगे जोर लगाए और आंधी पीछे धकेले। मम्मा फिर परेशान, तुम कहना नहीं मानती। देख यह कोई मौसम है घर से बाहर आने का। इस गर्मी लू में। हम पहुंच गए मम्मा। फिल्म थी हम दो। थोड़ी देर से पहुंचे थे। फिल्म शुरू हो चुकी थी। हम परांठा-सब्जी पर्स में डाल कर ले गए थे। इंटरवल में हमने खाई थी। मैं कोकाकोला लाई थी। हम फिल्म के बाहर आए थे। मम्मा खुश थी। उसने कहा था- फिल्म तो बहुत अच्छी थी। बस फिर हमारा दूसरे-तीसरे दिन ही फिल्म का प्रोग्राम बनता। खाना पैक करके ले जाते। कभी-कभी मम्मा को जबरदस्ती बाहर से लेकर खिलाती। फिल्म के बाद हम मार्केट जाते। शाम को घूमते। मम्मा को मैंने अपने पैसों से साड़ी खरीद कर दी। घर की छोटी-छोटी चीजें खरीदती। मां कहती तू अपने पैसे मत खर्च कर। पर मैं कहां मानने वाली थी। मैं मां को चाट-पकौड़ी खिलाती। उसके लिए फूलों का गजरा खरीद कर जुड़े में लगाती। उसे आइसक्रीम खिलाती। यह सब पिताजी नहीं करने देते थे। या तो वे किसी बड़े होटल में ले जाते या फिर हम घर में ही खाना खाते। इस तरह मार्केट में छोटी-छोटी जगहों पर हमने वो सब किया जो पिताजी करने नहीं देते थे। देर शाम को पिताजी घर लौटते। एक दिन हमारे घर पहुंचने से पहले पिताजी आ गए थे। बड़े नाराज हुए। गाड़ी क्यों नहीं मंगवाई। रिक्शे में क्यों गए मैंने कहा था पहले हमने हिन्दी फिल्म देखी फिर मार्केट चले गए थे। पिताजी ने अफसरी अंदाज में डांटा था। वे चले गए तो मम्मा ने कहा था, तू तो जैसी थी वैसी थी ही पर तूने तो मुझे भी बिगाड़ दिया। पिताजी ने भी सुन लिया था और हम कितनी देर तक हंसते रहे थे।
    Source : http://www.aparajita.org/read_more.php?id=23&position=4

    0 comments:

    There was an error in this gadget

    Followers

    प्यारी माँ

    Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
    • बेघर बेचारी नारी - [image: Image result for poor position of woman image] निकल जाओ मेरे घर से एक पुरुष का ये कहना अपनी पत्नी से आसान बहुत आसान किन्तु क्या घर बनाना उसे बसाना सी...
    • एकाकी मोरनी - बाट निहारूँ कब तक अपना जीवन वारूँ आ जाओ प्रिय तुम पर अपना सर्वस हारूँ सूरज डूबा दूर क्षितिज तक हुआ अंधेरा घिरी घटाएं रिमझिम बरसें टूटे जियरा ...
    • क्या दीवाली लक्ष्मी जयन्ती है? - एक मान्यता के अनुसार दीपावली ‘लक्ष्मी जयन्ती’ अर्थात् लक्ष्मी के जन्मदिन के रूप में मनाई जाती है। निश्चित ही यह कल्पना अर्वाचीन है, क्योंकि प्राचीन देवताओं...
    • दीवाली इस वर्ष - [image: Happy Diwali and swachchhata abhiyan - pics के लिए चित्र परिणाम] जब ज्योति जली विष्णुप्रिया के मंदिर में तम घटा घर के हर कोने का जगमग मन मंदिर हु...
    • अपनी बचा लूं और दूसरे की रीत दूँ - पहली बार अमेरिका 2007 में जाना हुआ था। केलिफोर्निया में रेड-वुड नामक पेड़ का घना जंगल है। हम मीलों-मील चलते रहे लेकिन जंगल का ओर-छोर नहीं मिला। इस जंगल में...
    • हुनर - *समेट लेना खुद को , अपने दायरे में * *सिखा देता है ये हुनर , वक़्त आहिस्ता आहिस्ता !!* *सु-मन *
    • We never can change our history - Dr Sharad Singh - *Dr Sharad Singh, * *Author & Historian**Thought of the Day* *History give us a chance to change ourselves but we never can change our history.* *- Dr Shar...
    • झूठ की लंका ! - गाँव में समाधान बैठक होने वाली थी और उसमें मंत्रीजी का आना तय था। सरपंच गाँव में माहौल बनाने के लिए लोगों को पहले से स...
    • - * गज़ल * बेवफाई के नाम लिखती हूँ आशिकी पर कलाम लिखती हूँ खत में जब अपना नाम लिखती हूँ मैं हूँ उसकी जिमाम लिखती हूँ आँखों का रंग लाल देखूँ तो उस नज़र को मैं...
    • अँधा युग - गोली और गाली जो बन चुके हैं पर्यायवाची इस अंधे युग की बनकर सौगात लगाते हैं ठिकाने बडबोली जुबान को तुम , तुम्हारी जुबान और तुम्हारी कलम रहन है सत्ता की...
    • नींद बनाम ख्व़ाब - मैंने अपनी नींदें बेच, कुछ ख्वाब खरीदे थे। रख दिया था सहेज कर, उन्हें अपनी पलकों तले। वक़्त की बारिशों औ आंधी से, कुछ उड़ गए, कुछ बह गए। कुछ को बचाया जतन...
    • माँ तुझे प्रणाम - *माँ तुझे प्रणाम* *शत शत नमन कोटि प्रणाम * *माँ तुझे प्रणाम ।* *जब मैं तेरी कोख में आई * *तूने स्पर्श से बताया था * *ममता का कोई मोल नहीं * *तूने ही सि...
    • जाने कहाँ गया वो दिन??? - "आज कुछ special बना दो, Sunday है... " ... अभी तो परसों कढ़ाही पनीर बनी थी... "सुनो, मैं अपने दोस्तों से मिल कर आ रहा हूँ, वो आज Sunday है न..." ... हाँ, द...
    • अधूरे हम... - एक युवक बगीचे में खिन्न मुद्रा में बैठा था । एक बुजुर्ग ने उस परेशान युवक से पूछा - क्या हुआ बेटा क्यूं इतने परेशान हो ? युव...
    • भ्रष्ट आचार - स्वतंत्र भारत की नीव में उस समय के नेताओं ने अपनी महत्त्वाकांक्षाओं के रख दिये थे भ्रष्ट आचार फिर देश से कैसे खत्म हो भ्रष्टाचार ?
    • उदास आँखों में छुपी झुर्रियों की दास्तान (भाग -4) - *(रात में बेटी के फोन की आवाज़ से वे जग जाती हैं,और पुराना जीवन याद करने लगती हैं.उनकी चार बेटियों और दो बेटों से घर गुलज़ार रहता. पति गाँव के स्कूल में श...

    मन की दुनिया

    नारी का पूर्ण सशक्तिकरण

    • बेघर बेचारी नारी - [image: Image result for poor position of woman image] निकल जाओ मेरे घर से एक पुरुष का ये कहना अपनी पत्नी से आसान बहुत आसान किन्तु क्या घर बनाना उसे बसाना सी...
      1 day ago
     
    Copyright (c) 2010 प्यारी माँ. All rights reserved.