बाप अपनी ही बेटियों से बरसों करता रहा बलात्कार ; मां की अहमियत समझाती हुई एक ख़बर

Posted on
  • Friday, August 26, 2011
  • by
  • DR. ANWER JAMAL
  • in
  • Labels: ,
  • 40 साल पिता की कैद में रहीं बेटियां
     

    वियना। आस्ट्रिया के उत्तरी शहर ब्रानो में रहने वाली दो बहनों को 40 वर्ष से भी अधिक समय से बंधक बनाकर रखने, मारपीट करने और उनका यौनशोषण करने का उनके ही पिता पर गंभीर आरोप लगा है। ऊपरी आस्ट्रिया प्रांत के पुलिस विभाग ने गुरूवार को जारी एक बयान में इस सनसनीखेज मामले की जानकारी दी।

    पुलिस के मुताबिक ब्रानो शहर के नजदीक रहने वाले एक व्यक्ति ने वर्ष 1970 से ही लगातार अपनी दोनों बेटियों को घर में बंधक बनाकर रखा और उन्हें किसी से भी मिलने-जुलने की इजाजत नहीं दी। इतने वर्षो तक वह दोनो बेटियों को मारने-पीटने के अलावा उनका यौनशोषण भी करता रहा।

    आस्ट्रियाई पुलिस ने बताया कि आरोपी पिता ने अपनी दोनों बेटियों को घर के रसोईघर में वर्षो तक कैद करके रखा। दोनों बहनों को सोने के लिए लकड़ी की एक पतली बेंच भर दी गई थी। लेकिन वर्षो की जलालत झेलने के बाद गत मई में दोनों बहनों का गुस्सा फूट पड़ा जब इस बुजुर्ग ने बड़ी बेटी के साथ बलात्कार करने की कोशिश की। अब 53 साल की हो चुकी बड़ी बेटी ने अपने कुकर्मी पिता को धक्का देकर गिरा दिया और इपनी 45 वर्षीय छोटी बहन के साथ उस कैदखाने से भाग निकली। 
    Source : http://www.patrika.com/news.aspx?id=663838
    ---------------
    यह एक समाचार है जो बताता है कि घर में अगर मां न हो तो बाप भी हैवान बन जाता है। रिश्तों की पवित्रता को घर में क़ायम रखने में मां का बहुत अहम रोल होता है। इस समाचार को इस एंगल से भी देखने की ज़रूरत है।
    बाप द्वारा बेटी के यौन शोषण के क़िस्से आजकल समाचार पत्रों द्वारा अक्सर ही सामने आते रहते हैं।
    इन तमाम क़िस्सों में अक्सर यही देखने में आता है कि मां की मृत्यु या उसके कहीं चले जाने के बाद ही ऐसी घटनाएं घटित होती हैं।
    ऐसे में मां अगर अपना ज़्यादा समय घर को देती है तो वह अपने घर को हादसों से बचाती है। रिश्तों की पवित्रता को क़ायम रखती है लेकिन फिर भी उसके कामकाज को आज कामकाज नहीं माना जाता, यह दुःखद है।
    औरत के कामकाज और उसकी अहमियत को सही संदर्भों में समझे जाने की ज़रूरत है।

    1 comments:

    Babli said...

    सच्चाई को आपने बहुत सुन्दरता से प्रस्तुत किया है! बहुत ही शर्मनाक और दुखद घटना!
    मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://seawave-babli.blogspot.com/
    http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/

    There was an error in this gadget

    Followers

    प्यारी माँ

    Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
    • बनोगी उसकी ही कठपुतली - [image: Image result for kathputli image] माथे ऊपर हाथ वो धरकर बैठी पत्थर सी होकर जीवन अब ये कैसे चलेगा चले गए जब पिया छोड़कर ..................................
    • गुटर गूं के अतिरिक्त नहीं है जीवन - #हिन्दी_ब्लागिंग मसूरी में देखे थे देवदार के वृक्ष, लम्बे इतने की मानो आकाश को छूने की होड़ लगी हो और गहरे इतने की जमीन तलाशनी पड़े। पेड़ जहाँ उगते हैं, वे ...
    • 'वो सफ़र था कि मुकाम था' - मेरी नज़र से - Maitreyi Pushpa जी की लिखी संस्मरणात्मक पुस्तक पर मेरे द्वारा लिखी समीक्षा "शिवना साहित्यिकी" के जुलाई-सितम्बर 2017 अंक में प्रकाशित हुई है ......जो चित्र...
    • कुण्डली हाइकू - गाड़ी न छूटे वक्त पर पहुँचो पकड़ो गाड़ी दबंग बनो किसीसे मत डरो रहो दबंग राज़ की बात किया जो परिहास दुःख का राज़ दिया जलाया घर भी जला दिया क्यों दर...
    • एक पिता की फ़रियाद - हमने भी जिया है जीवन ! मर्यादाओं के साथ ! मूल्यों के साथ ! सीमाओं में रह कर ! अनुशासन के साथ ! जीवन तुम भी जी रहे हो ! लेकिन अपनी शर्तों के साथ ! नितांत...
    • सावन का वह सोमवार... - लड़कियों का स्कूल हो तो सावन के पहले सोमवार पर पूरा नहीं तो आधा स्कूल तो व्रत में दिखता ही था. अपने स्कूल का भी यही हाल था. सावन के सोमवारों में गीले बाल ...
    • संत कबीर के गुरु विषयक बोल - गु अँधियारी जानिये, रु कहिये परकाश । मिटि अज्ञाने ज्ञान दे, गुरु नाम है तास ॥ जो गुरु को तो गम नहीं, पाहन दिया बताय । शिष शोधे बिन सेइया, पार न पहुँचा जाए ...
    • - गज़ल 1 मुहब्बत से रिश्ता बनाया गया उसे टूटते रोज पाया गया मुहब्बत पे उसकी उठी अँगुलियाँ सरे बज़्म रुसवा कराया गया यहाँ झूठ बिकता बड़े भाव पर मगर सच को ठेंगा द...
    • बस यूँ ही ~ 2 - *मैं जिंदा तो हूँ , जिंदगी नहीं है मुझमें * *फक़त साँस चल रही है ज़िस्म फ़ना होने तक !!* *सु-मन *
    • माँ तुझे प्रणाम - *माँ तुझे प्रणाम* *शत शत नमन कोटि प्रणाम * *माँ तुझे प्रणाम ।* *जब मैं तेरी कोख में आई * *तूने स्पर्श से बताया था * *ममता का कोई मोल नहीं * *तूने ही सि...
    • जाने कहाँ गया वो दिन??? - "आज कुछ special बना दो, Sunday है... " ... अभी तो परसों कढ़ाही पनीर बनी थी... "सुनो, मैं अपने दोस्तों से मिल कर आ रहा हूँ, वो आज Sunday है न..." ... हाँ, द...
    • अधूरे हम... - एक युवक बगीचे में खिन्न मुद्रा में बैठा था । एक बुजुर्ग ने उस परेशान युवक से पूछा - क्या हुआ बेटा क्यूं इतने परेशान हो ? युव...
    • नया साल ! - समर घर से निकला तो पत्नी और बच्चों के लिए गिफ्ट पहले ही खरीदता हुआ होटल पहुंचा था। रात में प्रोग्राम ख़त्म करके सीधे घर भागेगा क्यो...
    • वेदों में गायन कला - *- डॉ. शरद सिंह* *गायन मानव की संवेदनाओं को जागृत करता है.आज दुनिया भर में संगीत के महत्व पर वैज्ञानिक शोध हो रहे हैं . पाश्चात्य जगत के व...
    • भ्रष्ट आचार - स्वतंत्र भारत की नीव में उस समय के नेताओं ने अपनी महत्त्वाकांक्षाओं के रख दिये थे भ्रष्ट आचार फिर देश से कैसे खत्म हो भ्रष्टाचार ?
    • उदास आँखों में छुपी झुर्रियों की दास्तान (भाग -9) - *(रात में बेटी के फोन की आवाज़ से जग कर वे,अपना पुराना जीवन याद करने लगती > हैं.उनकी चार बेटियों और दो बेटों से घर गुलज़ार रहता. पति गाँव के स्कूल में > ...

    मन की दुनिया

    नारी का पूर्ण सशक्तिकरण

    • कठपुतली - [image: Image result for kathputli image] माथे ऊपर हाथ वो धरकर बैठी पत्थर सी होकर जीवन अब ये कैसे चलेगा चले गए जब पिया छोड़कर ..................................
      7 hours ago
     
    Copyright (c) 2010 प्यारी माँ. All rights reserved.