बाबा-अम्मी

Posted on
  • Saturday, July 2, 2011
  • by
  • रज़िया "राज़"
  • in
  • Labels:
  • धक..धक..धक..धकमौत का काउनडाउन शुरु हो चुका था।

    मेरे बाबा(पिताजी) हम सब को छोडकर दुनिया को अलविदा कहने चले थे।

    अभी सुबह ही तो मैं आईथी आपको छोडकरबाबा

    मैं वापस आने ही वाली थी। और जीजाजी का फोन सुनकर आपके पास भी गई। आपके सीनेपर मशीनें लगी हुईं थीं।

    आप को ओकसीजन की ज़रुरत थी शायद ईसीलिये। फ़िर भी आप इतने होश में थे कि हम तीनों बहनों और भाइ को पहचान रहे थे। आई.सी.यु में किसी को जाने कि ईजाज़त नहिं थी

    ….पर बाबाहमारा दिल रो रहा था कि अभी एक ही साल पहले तो मेरीअम्मी हमें छोडकर जहाँ से चली गई थीं आप हम सब होने के बावज़ुद तन्हा ही थे।

    हम सब मिलकर आपको सारी खुशियों में शरीक करते …..

    परबाबाआप !!हर तरफ मेरी अम्मीको ही ढूंढते रहते थे। आपको ये जहाँ से कोई लेना देना ही नहिं था मेरी अम्मीके जाने के बाद।

    क्याबाबा ये रिश्ता इतना ग़हरा हो जाता है?

    मुझे याद है आप दोनों ने हम तीनों बहनों को समाज और दुनिया कि परवा किये बिना ईतना पढाया लिखाया

    लोग हम बेटीयों को पढाने पर ताने देते रहते थे आप दोनों को।

    पर आप और अम्मी डटे रहे अपने मज़बूत ईरादों पर। यहाँ तक की आप ने हमारी जहाँ जहाँ नौकरी लगी साथ दिया। आपको तो था कि हमारी बेटीयाँ अपना मकाम बनायें।

    औरबाबा आप दोनों कि महेनत रंग लाई। हम तीनों बहनों और भाई सरकारी नौकरी मे अव्वल दर्जे के मकाम पर गये। शादीयाँ भी अच्छे ख़ानदान में हो गईं।आप ने हमारे लिये ना धूप की परवा की ना बारिश की।

    अपने आपको पीसते रहे जीवन की चक्की में।

    आप दोनों ने हमारे लिये बहोत सी तकलीफ़ उठाई शायद हम भी इतनी अपने बच्चों के लिये नहिं उठा सकते।

    समाज को आपका ये ज़ोरदार जवाब था। आप दोनों महेंदी कि तरहाँ अपने आपको घीसते रहे और हम पर अपना रंग बिखरते रहे अरे आप दोनों दिये कि तरहाँ जलते रहे |

    औरहमारी ज़िन्दगीयों में उजाला भरते रहे। आप की ज़बान पर एक नाम बार बार आता रहामुन्ना ! हम तीनों बहनों का सब से छोटा भाई!बाबा हमारे छोटे भाईमुन्नाने भी आप को बचाने के लिये बहोत कोशिश की है।

    बाबा हमें थोडी सी ठोकर लगती आप हमें संभाल लेते। आप पर लगी ये मशीनरी मेरी साँसों को जकड रही थी। और आप हमारा हाथ मज़बूती से पकडे हुए थे कि

    हम एकदूसरे से बिछ्ड जायें। मौत आपको अपनी आग़ोश में लेना चाहती थी। हम आपको ख़ोना नहिं चाहते थे।बाबा आपकी उंगलीयों को पकड्कर अपना बचपन याद कर रही थी मैं। वही उंगलीयों को थामे हम आज इस राह पर ख़डे हैं। आप दोनों ने हमारे लिये बडी तकलीफ़ें झेली हैं। आप हमें अपनी छोटी सी तंन्ख़्वाह में भी महंगी से महंगी किताबें लाया करते थे।

    आपकी भीगी आँखों में आज आंसु झलक रहे थे। बारबार हम आपकी आँखों को पोंछ्ते रहे। नर्स हमें बार बार कहती रही कि बाहर रहो डोकटर साहब आनेवाले हैं।

    मुझे गुस्सा रहा था कि आपको डीस्चार्ज लेकर घर ले जाउं कम से कम आपको तन्हाई तो नहिं महसूस होगी। हम दो राहे पर थे या तो आपकी जान बचायें या फ़िर आपके पास रहें।

    धक..धक..धक.. में आप खामोश हो गये थोडी देर आँखें खोलकर बंद कर लीं आपने। हमें लगा आप सो रहे हैं

    पर…. डोकटर ने आकर कहा ” He is expired”

    आप हमें छोडकर आख़िरअम्मी के पास पहोंच ही गये।बाबाआपकी तस्वीर जो पीछ्ले साल ली गई थी मेरे पास है आपअम्मीकी क़ब्र पर तन्हा बैठे हैं|

    baabaa

    आज आपको भी बिल्कुल अम्मी के पास ही दफन कर आये हैं हम।

    आपकी यादें हैं हमारे लिये बाबा यह लिखते हुए मेरी आँख़ों के आगे आँसुओं कि चिलमन जा रही है।

    छीप छीपकर पोंछ रही हुं ताकि कोई मुझे रोता हुआ देख ले।

    ये कैसी विडंबना हैबाबा”!!!!

    बाबा”मैं अब बहोत कम आपके घर जाती हुं ..

    क्योकि आप और अम्मी की वो हर जगह याद आती है ….

    और मैं जब भी जाती हुं आपदोनों को ढुंढती रहती हुं।

    आप का बिस्तर,कुर्सी जिस पर बैठकर आप किताबों के पन्ने पलटाया करते थे।

    क्या लिखुं बाबा !!! बहोत लिखना है पर लिख नहिं पाती। ये आँसु कुछ लिखने नहिं दे रहे।

    बार बार पोंछ्ने पडते हैं इन्हें।

    बाबा आपने तो हमारी ज़िन्दगी लिख दी है।

    अल्लाह! आपदोनों को जन्नत नसीब करे। आमिन ।

    10 comments:

    Sachin Malhotra said...

    maa baap is duniya mein sabhi ko bahut ajeej hote hain.. ek wohi to hote hain jinse saari duniya humaari simti hoti hai.. unke jaane ka dukh shabdon mein bayan ho hi nahi sakta.. lekin mrityu ek atal sachchai hai..
    मेरी नयी पोस्ट पर आपका स्वागत है : Blind Devotion - सम्पूर्ण प्रेम...(Complete Love)

    Roshi said...

    maa pita ki kami ko bahut hi marmik dhag se aapne likha hai iswar dono ko jannat bakshe

    Pallavi said...

    मोहतरमा आप ने लिखा तो बहुत ही मार्मिक है मगर यदि आप बुरा ना माने तो ज़रा अपनी speallings पर ध्यान दें जैसे नहिं जबकि सही शब्द है (नहीं)भाइ का सही शब्द होगा (भाई)इत्यादि hope you don't mind keep writting..best wishes....

    शालिनी कौशिक said...

    marmik abhiyakti.

    DR. ANWER JAMAL said...

    ‘इन्ना लिल्लाहि व इन्ना इलैहि राजिऊन‘
    यानि कि हम सब अल्लाह के हैं और उसी की और हमें लौटना है।
    (अलक़ुरआन)
    अल्लाह आपको सब्र ए जमील अता करे और जन्नत में आपको आपके वालिदैन के पास इकठ्ठा करे जब कि सब इकठ्ठा किए जाएं।
    अल्लाह आपके वालिदैन की मग़फ़िरत करे और उनके दर्जात बुलंद करे, उनकी ख़ताएं बख्श दे और उनसे राज़ी हो।
    आमीन !!!
    चल खुसरो घर आपने रैन भई चहुं देस

    रविकर said...

    जन्नत नसीब करे।

    एस.एम.मासूम said...

    पढ़ कर आँखें भर आई. अल्लाह आप के वालिदैन को अह्लेबय्त के चाहने वालों के साथ जगह दे.

    शेरघाटी said...

    ‘इन्ना लिल्लाहि व इन्ना इलैहि राजिऊन‘
    shahroz

    सतीश सक्सेना said...

    आपकी इस तकलीफ में हम आपके साथ हैं ! बेहद अफ़सोस हुआ ...

    शिखा कौशिक said...

    ankhe nam ho gayi ....dil bhar aaya .bahut bhavuk ho gayi hain aap likhte hue shayad apne mata-pita se itna hi pyar hota hai sabko .aabhar

    There was an error in this gadget

    Followers

    प्यारी माँ

    Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
    • विश्वास - ‘विश्वास’ कितना आभासी है ना यह शब्द ! कितना क्षणिक, कितना छलनामय, कितना भ्रामक ! विश्वास के जिस धागे से बाँध कर कल्पना की पतंग को आसमान की ऊँच...
    • राजीव गांधी :अब केवल यादों में - शत शत नमन - एक नमन राजीव जी को आज उनकी जयंती के अवसर पर.राजीव जी बचपन से हमारे प्रिय नेता रहे आज भी याद है कि इंदिरा जी के निधन के समय हम सभी कैसे चाह रहे थे कि ...
    • हमें अपनी झील के आकर्षण में बंधे रहना है - #हिन्दी_ब्लागिंग मैं कहीं अटक गयी हूँ, मुझे जीवन का छोर दिखायी नहीं दे रहा है। मैं उस पेड़ को निहार रही हूँ जहाँ पक्षी आ रहे हैं, बसेरा बना रहे हैं। कहाँ ...
    • शापित मंजिलें - *... स्थितियाँ * *बदल देती हैं * *राह जिंदगी की ...* *... मंजिलें* *अक्सर अकेली रह * *शापित हो जाया करती हैं !!* *सु-मन *
    • बातें हैं बातों का क्या ....... - अम्बुआ की डाली पर चाहे न कुहुके कोयल किसी अलसाई शाम से चाहे न हो गुफ्तगू कोई बेनामी ख़त चाहे किसी चौराहे पर क्यों न पढ़ लिया जाए ज़िन्दगी का कोई नया शब्दक...
    • केवल राष्ट्र के लिए था यह सृजन - देश की स्वतंत्रता के लिए 1857 से लेकर 1947 तक क्रान्तिकारियों व आंदोलनकारियों के साथ ही लेखकों, कवियों और पत्रकारों ने भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। उस समय...
    • कृष्ण लीला - ग्वाल बाल साथ ले कान्हा ने धूम मचाई गोकुल की गलियों में ! खिड़की खुली थी घर में छलांग लगाई खाया नवनीत खिलाया मित्रों को भी कुछ खाया कुछ फैलाया आहट ...
    • नींद बनाम ख्व़ाब - मैंने अपनी नींदें बेच, कुछ ख्वाब खरीदे थे। रख दिया था सहेज कर, उन्हें अपनी पलकों तले। वक़्त की बारिशों औ आंधी से, कुछ उड़ गए, कुछ बह गए। कुछ को बचाया जतन...
    • - गज़ल 1 मुहब्बत से रिश्ता बनाया गया उसे टूटते रोज पाया गया मुहब्बत पे उसकी उठी अँगुलियाँ सरे बज़्म रुसवा कराया गया यहाँ झूठ बिकता बड़े भाव पर मगर सच को ठेंगा द...
    • माँ तुझे प्रणाम - *माँ तुझे प्रणाम* *शत शत नमन कोटि प्रणाम * *माँ तुझे प्रणाम ।* *जब मैं तेरी कोख में आई * *तूने स्पर्श से बताया था * *ममता का कोई मोल नहीं * *तूने ही सि...
    • जाने कहाँ गया वो दिन??? - "आज कुछ special बना दो, Sunday है... " ... अभी तो परसों कढ़ाही पनीर बनी थी... "सुनो, मैं अपने दोस्तों से मिल कर आ रहा हूँ, वो आज Sunday है न..." ... हाँ, द...
    • अधूरे हम... - एक युवक बगीचे में खिन्न मुद्रा में बैठा था । एक बुजुर्ग ने उस परेशान युवक से पूछा - क्या हुआ बेटा क्यूं इतने परेशान हो ? युव...
    • नया साल ! - समर घर से निकला तो पत्नी और बच्चों के लिए गिफ्ट पहले ही खरीदता हुआ होटल पहुंचा था। रात में प्रोग्राम ख़त्म करके सीधे घर भागेगा क्यो...
    • वेदों में गायन कला - *- डॉ. शरद सिंह* *गायन मानव की संवेदनाओं को जागृत करता है.आज दुनिया भर में संगीत के महत्व पर वैज्ञानिक शोध हो रहे हैं . पाश्चात्य जगत के व...
    • भ्रष्ट आचार - स्वतंत्र भारत की नीव में उस समय के नेताओं ने अपनी महत्त्वाकांक्षाओं के रख दिये थे भ्रष्ट आचार फिर देश से कैसे खत्म हो भ्रष्टाचार ?
    • उदास आँखों में छुपी झुर्रियों की दास्तान (भाग -9) - *(रात में बेटी के फोन की आवाज़ से जग कर वे,अपना पुराना जीवन याद करने लगती > हैं.उनकी चार बेटियों और दो बेटों से घर गुलज़ार रहता. पति गाँव के स्कूल में > ...

    मन की दुनिया

    नारी का पूर्ण सशक्तिकरण

     
    Copyright (c) 2010 प्यारी माँ. All rights reserved.