अहमियत पिता की

Posted on
  • Saturday, July 2, 2011
  • by
  • Pallavi saxena
  • in
  • आपको याद होगा कि अभी कुछ दिन पहले मैंने माँ के ऊपर एक लेख लिखा था और आज मैं ना सिर्फ माँ की बात कर रही हूँ, बल्कि पिता की अहमियत की। अकसर जब भी हम माँ विषय पर कोई लेख पढ़ते हैं तो हमारा मन  माँ के प्रति गद-गद हो जाता है और हम नतमस्तक सा महसूस करने लगते है। मगर उस वक्त हमको पिता का ख़्याल भी नहीं आता कि जिस तरह हम माँ के बिना अधूरे हैं, ठीक उसी तरह पिता के बिना भी हमारा जीवन उतना ही अधूरा है। माँ की ममता तो सब को दिखती है। मगर पापा का प्यार किसी को नहीं दिखता, हालांकि यह सच है और इस में कोई दो राय नहीं है कि माँ  का दर्जा और उसकी अहमियत हमारे जीवन में जो मायने रखती है वह दूसरा और कोई रिश्ता नहीं जो इस रिश्ते की जगह ले सके यहाँ तक कि खुद माँ के बदले आने वाली सौतेली माँ तक खुद कभी माँ की जगह नहीं ले पाती, हालांकि सौतेली माँ का नाम तो ऐसा बदनाम है, कि लोग उस विषय में सोचने से भी घबराते हैं। फिर भले ही सौतेली माँ बुरी हो या ना हो, मगर इस मामले ठीक ऐसा है कि एक बार यह रिश्ता बदनाम हुआ तो हमेशा लोग इस रिश्ते को उसी नजर से देखते हैं, भले ही वो रिश्ता इतना बुरा हो या न हो। 
     खैर मैं बात कर रही थी माता और पिता की अहमियत कि तो एक बच्चे के लिए जितना जरूरी उसकी माँ का होना है। उतना ही जरूरी पिता का रिश्ता भी है। एक बच्चे का जीवन पिता के प्यार के बिना भी उतना ही अधूरा है जितना की माँ के प्यार के बिना आज कई सारी ऐसी माएं हैं। जो बिना पिता के भी अपने बच्चों को बहुत ही अच्छे ढंग से पाल पोस रही हैं। मगर तब भी कहीं न कहीं बच्चे के कोमल मन में पिता के ना होने की कमी खलती ही है ,जिस रह एक माँ के न होने से बच्चे को माँ की लोरीयाँ खलती है। ठीक उस ही तरह पिता के न होने पर भी उनके साथ घूमना फिरना मौज मस्ती उठा पटक वाले खेल यह सब भी बच्चों को बहुत खलता है।
     आप ने भी देखा होगा और मेरे अपने भी बहुत से अनुभव है इस विषय पर, मैं मेरे पापा के बहुत करीब हूँ. अपनी मम्मी से भी ज्यादा और मुझे आज भी याद है जब भी कोई बात मनवाना होती थी और मम्मी माना कर दिया करती थी तो पापा झट से इजाजत दे दिया करते थे। कई बार तो रिपोर्ट कार्ड पर कम नंबर आने पर भी पापा ही हस्ताक्षर कर दिया करते थे। ताकी मम्मी की डांट न पड़े मुझे पर मम्मी तक तो बहुत सी बातें पहुँचती ही नहीं थी ,और ठीक यही गुण मेरे बेटे में भी आया है वो भी मुझ से भी ज्यादा अपने पापा के बहुत करीब है।  उसके और उसके दोस्तों में तो अकसर बातें भी ऐसी ही होती है की किस के पापा बेस्ट हैं। सभी बच्चे अपने-अपने पापा को बेस्ट बताने के लिए मासूमियत भरे तर्क दिया करते है। J उस बात से एहसास होता है कि छोटे बच्चे के जीवन में पिता का भी कितना महत्व होता है। जिस तरह माँ के हाथ का खाना हमेशा याद आता है, ठीक उसी तरह पापा के साथ की गई मस्ती भी बहुत याद आती है। अगर एक माँ बच्चे की पहली पाठशाला होती है तो एक पिता उसकी बाहरी दुनिया की पाठशाला होते हैं। बाहर की दुनिया में सर उठा के ज़ीने के लिए सही मार्ग पापा ही तो सीखते है। गिर कर सँभालना भी तो पापा ही सिखाते हैं, और बेटी के मामलों में प्यार भी तो सब से ज्यादा पापा ही करते है। J है ना!!! J
    जिस तरह एक लड़की के लिए उस की माँ ही उसकी सबसे अच्छी और खास दोस्त होती है। तो एक बेटे के लिए उसके सब से अच्छे दोस्त उसके पापा ही होते है। अगर एक पिता के लिए उसका बेटा उसके बुढ़ापे की लाठी  होता है, उनका सहारा होता है और यदि उनका गौरव होता है, तो एक बेटी भी अपने पापा की इज्ज़त होती है, उसका मान सम्मान होती है। अपने पापा को लेकर मेरे पास अपने  बचपन की बहुत सारी यादें हैं, जिनको मैं आप सब के साथ बांटना चाहती हूँ। जैसे जब मैं रोटी बनाना सीख रही थी न, तब अकसर मुझ से रोटी जल जाया करती थी या कभी उसका आकार सही नहीं आ पाता था। तब मेरे पापा चुपके से वही रोटी खाने के लिए ले लिया करते थे। ताकि मुझे मम्मी से डांट ना पड़े और हमेशा ही कच्चा पक्का कभी नमक कम, तो कभी ज्यादा, कैसा भी बना हुआ मेरे हाथ का खाना खुशी–खुशी खाया लिया करते  थे। उन्होने कभी शिकायत नहीं कि  बल्कि हमेशा यह ही कहा कि कोई बात नहीं अभी तो तुम छोटी हो और सीख रही हो मुझे पूरा यकीन है एक दिन तुम्हें मम्मी से भी अच्छा खाना बनाना जाएगा। अगर कभी घर आने में देर हो जाया करती थी और मम्मी नाराज हो जाया करती थी तो घर में पैर रखते ही पापा इशारे से बता दिया करते थे कि घर का माहौल गरम है चुप रहने में ही भलाई है। J
    My son with his father

    इसलिए मैं तो आज भी कहती हूँ कि MY PAPA IS THE BEST PAPA OF THE WORLDस्कूल  में या कभी कालेज़ में जब भी कभी कोई मदद की जरूरत पड़ती थी जब भी कभी कोई बात ऐसी होती थी। जिसमें यह लगता कि मम्मी मना कर देंगी तो मैं अकसर वो बात आपने पापा से बांटा करती थी। फिर चाहे वो भी मना कर दें मुझे तो चलता था, मगर मैं अपनी हर बात कहा उनसे ही करती थी और कभी राखी पर जब मेरे हाथ मेहँदी से भरे होते थे ना तो उस रात भी पापा ही अपने हाथ से खाना खिलाया करते थे और जब भी कभी भईया से झगड़ा हुआ करता था तभी पापा मेरा ही पक्ष लिया करते थे। अगर मैं रूठ जाती थी तो घंटों मुझे मनाया भी करते थे।
    यह मेरे अनुभव हैं, आप की भी बहुत सी  खट्टी मीठी यादें और अनुभव जुड़े होंगे न अपने पापा से। J
    यदि एक छोटे बच्चेनुमा पौधे को माँ अपने खून से सींचती है, तो एक खुले आसमान की तरह उसकी हिफाजत करते हैं। पिता यदि माँ जीवन का आधार है तो उस जीवन को देने वाले पिता उसकी नींव हुआ करते हैं। 

    5 comments:

    रविकर said...

    बहुत अच्छी प्रस्तुति |

    माँ तो भगवान् है पर

    पिता एक मूक-मदद है

    बच्चों के विकास में ||

    आज पीढ़ियों में सोच का

    अन्तर निश्चय ही कम हो रहा है |

    पिता बच्चों के अच्छे दोस्त साबित हो रहे हैं||


    इसी बात पर मेरे बेटे K ब्लॉग पर टहल कर आयें ||


    http://kushkikritiyan.blogspot.com/

    DR. ANWER JAMAL said...

    जन-जागरण हेतु काम की जानकारी !
    मुबारकबाद !!!
    त्वचा में दर्द के अभिग्राहकः Receptors

    Vivek Jain said...

    बहुत सुंदर आलेख, बच्चे के लिये माँ और पिता दोनों की बराबर अहमियत है,
    विवेक जैन vivj2000.blogspot.com

    Vivek Jain said...

    बहुत सुंदर आलेख, बच्चे के लिये माँ और पिता दोनों की बराबर अहमियत है,
    विवेक जैन vivj2000.blogspot.com

    Bhushan said...

    बढ़िया विवरण. हमारे माता-पिता हमारे असली हीरो-हीरोइन होते हैं.

    There was an error in this gadget

    Followers

    प्यारी माँ

    Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
    • जीवन की जंग - जीतनी तो थी जीवन की जंग तैयारियाँ भी बहुत की थीं इसके लिए कितनी तलवारें भांजीं कितने हथियारों पर सान चढ़ाई कितने तीर पैने किये कितने चाकुओं पर धार लगाई ...
    • संताप से भरे पुत्र का पत्र - कल एक पुत्र का संताप से भरा पत्र पढ़ने को मिला। उसके साथ ऐसी भयंकर दुर्घटना हुई थी जिसका संताप उसे आजीवन भुगतना ही होगा। पिता आपने शहर में अकेले रहते थे, ...
    • कानून पर कामुकता हावी - [image: Navodayatimes] १६ दिसंबर २०१२ ,दामिनी गैंगरेप कांड ने हिला दिया था सियासत और समाज को ,चारो तरफ चीत्कार मची थी एक युवती के साथ हुई दरिंदगी को लेकर ,आ...
    • ब्रह्म वाक्य - दुःख दर्द आंसू आहें पुकार सब गए बेकार न खुदी बुलंद हुई न खुदा ही मिला ज़िन्दगी को न कोई सिला मिला यहाँ रब एक सम्मोहन है और ज़िन्दगी एक पिंजर और तू म...
    • बस यूँ ही ~ 2 - *मैं जिंदा तो हूँ , जिंदगी नहीं है मुझमें * *फक़त साँस चल रही है ज़िस्म फ़ना होने तक !!* *सु-मन *
    • हेमलासत्ता [भाग- एक] - एक छोटे से गांव खेतासर में हेमला जाट रहता था। उसके घर में दूध, पूत, धन, धान्य सभी था। सभी तरह से उसकी जिन्दगी सुखपूर्वक कट रही थी। उसकी अपनी प्रिय पत्नी से...
    • नंबर रेस का औचित्य? - 10वीं 12वीं का रिजल्ट आया. किसी भी बच्चे के 90% से कम अंक सुनने में नहीं आये. पर इतने पर भी न बच्चा संतुष्ट है न उनके माता पिता। इसके साथ ही सुनने में आया...
    • आइना - है वह आइना तेरा हर अक्स का हिसाब रखता है तू चाहे याद रखे न रखे उसमें जीवंत बना रहता है बिना उसकी अनुमति लिए जब बाहर झाँकता है चाहे कोई भी मुखौटा लगा ल...
    • माँ तुझे प्रणाम - *माँ तुझे प्रणाम* *शत शत नमन कोटि प्रणाम * *माँ तुझे प्रणाम ।* *जब मैं तेरी कोख में आई * *तूने स्पर्श से बताया था * *ममता का कोई मोल नहीं * *तूने ही सि...
    • जाने कहाँ गया वो दिन??? - "आज कुछ special बना दो, Sunday है... " ... अभी तो परसों कढ़ाही पनीर बनी थी... "सुनो, मैं अपने दोस्तों से मिल कर आ रहा हूँ, वो आज Sunday है न..." ... हाँ, द...
    • अधूरे हम... - एक युवक बगीचे में खिन्न मुद्रा में बैठा था । एक बुजुर्ग ने उस परेशान युवक से पूछा - क्या हुआ बेटा क्यूं इतने परेशान हो ? युव...
    • नया साल ! - समर घर से निकला तो पत्नी और बच्चों के लिए गिफ्ट पहले ही खरीदता हुआ होटल पहुंचा था। रात में प्रोग्राम ख़त्म करके सीधे घर भागेगा क्यो...
    • - * गज़ल * तमन्ना सर फरोशी की लिये आगे खड़ा होता मैं क़िसमत का धनी होता बतन पर गर फना होता अगर माकूल से माहौल में मैं भी पला होता मेरा जीने का मक़सद आसमां से भी ...
    • वेदों में गायन कला - *- डॉ. शरद सिंह* *गायन मानव की संवेदनाओं को जागृत करता है.आज दुनिया भर में संगीत के महत्व पर वैज्ञानिक शोध हो रहे हैं . पाश्चात्य जगत के व...
    • भ्रष्ट आचार - स्वतंत्र भारत की नीव में उस समय के नेताओं ने अपनी महत्त्वाकांक्षाओं के रख दिये थे भ्रष्ट आचार फिर देश से कैसे खत्म हो भ्रष्टाचार ?
    • उदास आँखों में छुपी झुर्रियों की दास्तान (भाग -9) - *(रात में बेटी के फोन की आवाज़ से जग कर वे,अपना पुराना जीवन याद करने लगती > हैं.उनकी चार बेटियों और दो बेटों से घर गुलज़ार रहता. पति गाँव के स्कूल में > ...

    मन की दुनिया

    नारी का पूर्ण सशक्तिकरण

    • मेरे मन की.... - मेरी पहली पुस्तक "मेरे मन की" की प्रिंटींग का काम पूरा हो चुका है | और यह पुस्तक बुक स्टोर पर आ चुकी है| आप सब ऑनलाइन गाथा के द्वारा बुक कर सकते है| मेरी...
      8 hours ago
     
    Copyright (c) 2010 प्यारी माँ. All rights reserved.