मांओं को बचाने की अद्भुत मिसाल, भारत डोगरा, स्वतंत्र पत्रकार एवं सामाजिक कार्यकर्ता


तमाम प्रयासों के बावजूद भारत में जच्चा-बच्चा की मृत्यु दर में खास सुधार नहीं आ पा रहा है। इस दिशा में वाकई बहुत काम किए जाने की जरूरत है। कानपुर के आसपास की बस्तियों में श्रमिक भारती नाम की एक संस्था इस मामले में बहुत अच्छा काम कर रही है। संजीवनी नाम की इस परियोजना में इस बात पर जोर दिया गया कि गर्भवती महिलाओं के इलाज में गांव के ही संसाधनों का अधिक से अधिक इस्तेमाल हो। अस्पताल ले जाने के लिए यातायात से लेकर धन की व्यवस्था तक।
गांव में जिन व्यक्तियों के पास वाहन उपलब्ध था, उन्हें विशेष तौर पर मातृत्व सुरक्षा अभियान से जोड़ा गया। उन्हें बताया गया कि मातृ रक्षा जनहित का सबसे बड़ा कार्य है। गांव में चंदा एकत्र कर एक कोष बनाया गया, जिससे जरूरतमंद जच्चा के इलाज की व्यवस्था की गई। गांवों में ‘संजीवनी सहेलियों’ का चयन किया गया, जिन्हें मातृत्व सुरक्षा की ट्रेनिंग दी गई।
गर्भवती महिलाओं वाले परिवारों में संजीवनी सहेलियों ने ज्यादा बातचीत की। निर्धन परिवारों को बताया गया कि किन सस्ते पर पौष्टिक खाद्यान्नों से महिलाओं की जरूरतें पूरी हो सकती हैं, जो गांव में आसानी से उपलब्ध हों। गांव में उपलब्ध मौसमी फलों में अमरूद और बेर पर विशेष ध्यान दिया गया, जो सस्ते व सहज उपलब्ध थे। इसी तरह भुने हुए चने और गुड़ को उच्च प्राथमिकता दी गई। हरे पान के पत्ते पर कुछ चूना लगाकर देने से कैल्शियम की पूर्ति कुछ हद तक हो सकती है, यह बताया गया। प्रयास यह रहा कि महंगे व अव्यावहारिक पोषण के बारे में बताने के स्थान पर सहज ग्रामीण पोषण पर ध्यान दिया जाए।
महिलाओं को आयरन टैबलेट व टीकाकरण के महत्व के बारे में बताया ही नहीं गया, बल्कि संजीवनी के कार्यकर्ता बार-बार आकर पूछते थे कि आयरन की गोली खाई कि नहीं? क्षेत्र की दाइयों व रजिस्टर्ड डॉक्टरों (आरएमपी) को प्रशिक्षण दिया गया कि अमूमन किन समस्याओं के कारण जच्चा की मृत्यु होती है व इसे कैसे रोका जा सकता है। एएनएम़, स्वास्थ्यकर्मी, कार्यकर्ताओं, आंगनबाड़ी, पंचायत प्रतिनिधियों को इस अभियान से जोड़ा गया। इंजेक्शन, दवाओं के उपयोग से अलग व्यावहारिक ज्ञान का प्रसार भी गांवों में किया गया।
पहले यह कार्यक्रम मात्र 30 गांवों तक सीमित था, पर जब इसमें उल्लेखनीय सफलता मिली, तो इसे मेथा और रसूलाबाद प्रखंडों (रमाबाई या कानपुर देहात जिला) की 120 पंचायतों में भी चलाया किया गया। इस विस्तार के लिए पर्याप्त धन उपलब्ध नहीं था। अत: ग्रामीण महिलाओं को सहेली संजीवनी की भूमिका निभाने के लिए बिना किसी मानदेय के ही वॉलंटीयर बनना पड़ा। परियोजना के मूल्यांकन से पता चला कि मातृ मृत्यु दर में उल्लेखनीय कमी आई है। यही नहीं, इसके जरिये भ्रूण हत्या रोकने का भी सफल अभियान चलाया गया है। इन अनुभवों का
साभार हिन्दुस्तान :

0 comments:

There was an error in this gadget

Followers

प्यारी माँ

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
  • बातें हैं बातों का क्या ....... - अम्बुआ की डाली पर चाहे न कुहुके कोयल किसी अलसाई शाम से चाहे न हो गुफ्तगू कोई बेनामी ख़त चाहे किसी चौराहे पर क्यों न पढ़ लिया जाए ज़िन्दगी का कोई नया शब्दक...
  • पहाड़ों के बीच बसा अलसीगढ़ - #हिन्दी_ब्लागिंग मनुष्य प्रकृति की गोद खोजता है, नन्हा शिशु भी माँ की गोद खोजता है। शिशु को माँ की गोद में जीवन मिलता है, उसे अमृत मिलता है और मिलती है सुरक...
  • * भारत माँ का आर्तनाद * - १५ अगस्त के उपलक्ष्य में विशेष रचना वर्षों की गर्भ यंत्रणा सहने के बाद सन् १९४७ की १४ और १५ अगस्त में जब कुछ घंटों के अंतराल पर मैंने दो जुडवाँ ...
  • केवल राष्ट्र के लिए था यह सृजन - देश की स्वतंत्रता के लिए 1857 से लेकर 1947 तक क्रान्तिकारियों व आंदोलनकारियों के साथ ही लेखकों, कवियों और पत्रकारों ने भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। उस समय...
  • कृष्ण लीला - ग्वाल बाल साथ ले कान्हा ने धूम मचाई गोकुल की गलियों में ! खिड़की खुली थी घर में छलांग लगाई खाया नवनीत खिलाया मित्रों को भी कुछ खाया कुछ फैलाया आहट ...
  • खाली हसरतें - *खाली हसरतों की * *होती है मियाद * *बस इतनी ....* *भीतर के भरेपन में * *होती है खाली * *जाम-ए-पनाह जितनी.. !!* *सु-मन *
  • नींद बनाम ख्व़ाब - मैंने अपनी नींदें बेच, कुछ ख्वाब खरीदे थे। रख दिया था सहेज कर, उन्हें अपनी पलकों तले। वक़्त की बारिशों औ आंधी से, कुछ उड़ गए, कुछ बह गए। कुछ को बचाया जतन...
  • तुम राम बनके दिल यूँ ही दुखाते रहोगे . - [image: Image result for seeta agni pariksha image] अवसर दिया श्रीराम ने पुरुषों को हर कदम , अग्नि-परीक्षा नारी की तुम लेते रहोगे , करती रहेगी सीता सदा मर्य...
  • - गज़ल 1 मुहब्बत से रिश्ता बनाया गया उसे टूटते रोज पाया गया मुहब्बत पे उसकी उठी अँगुलियाँ सरे बज़्म रुसवा कराया गया यहाँ झूठ बिकता बड़े भाव पर मगर सच को ठेंगा द...
  • माँ तुझे प्रणाम - *माँ तुझे प्रणाम* *शत शत नमन कोटि प्रणाम * *माँ तुझे प्रणाम ।* *जब मैं तेरी कोख में आई * *तूने स्पर्श से बताया था * *ममता का कोई मोल नहीं * *तूने ही सि...
  • जाने कहाँ गया वो दिन??? - "आज कुछ special बना दो, Sunday है... " ... अभी तो परसों कढ़ाही पनीर बनी थी... "सुनो, मैं अपने दोस्तों से मिल कर आ रहा हूँ, वो आज Sunday है न..." ... हाँ, द...
  • अधूरे हम... - एक युवक बगीचे में खिन्न मुद्रा में बैठा था । एक बुजुर्ग ने उस परेशान युवक से पूछा - क्या हुआ बेटा क्यूं इतने परेशान हो ? युव...
  • नया साल ! - समर घर से निकला तो पत्नी और बच्चों के लिए गिफ्ट पहले ही खरीदता हुआ होटल पहुंचा था। रात में प्रोग्राम ख़त्म करके सीधे घर भागेगा क्यो...
  • वेदों में गायन कला - *- डॉ. शरद सिंह* *गायन मानव की संवेदनाओं को जागृत करता है.आज दुनिया भर में संगीत के महत्व पर वैज्ञानिक शोध हो रहे हैं . पाश्चात्य जगत के व...
  • भ्रष्ट आचार - स्वतंत्र भारत की नीव में उस समय के नेताओं ने अपनी महत्त्वाकांक्षाओं के रख दिये थे भ्रष्ट आचार फिर देश से कैसे खत्म हो भ्रष्टाचार ?
  • उदास आँखों में छुपी झुर्रियों की दास्तान (भाग -9) - *(रात में बेटी के फोन की आवाज़ से जग कर वे,अपना पुराना जीवन याद करने लगती > हैं.उनकी चार बेटियों और दो बेटों से घर गुलज़ार रहता. पति गाँव के स्कूल में > ...

मन की दुनिया

नारी का पूर्ण सशक्तिकरण

 
Copyright (c) 2010 प्यारी माँ. All rights reserved.