बेटा चाहिए तो नाश्ता करना न भूलें To get a son

Posted on
  • Saturday, February 19, 2011
  • by
  • DR. ANWER JAMAL
  • in
  • Labels:
  • गर्भावस्था के शुरू में भरपेट नाश्ता करने पर लड़के के जन्म की संभावना अधिक
    लंदन। मां बनने की तैयारियों में जुटी महिलाएं ज़रा ग़ौर फ़रमाएं। अगर आप अपनी पहली संतान के रूप में बेटा पाना चाहती हैं, तो पेट भर नाश्ता करना न भूलें। एक नए अध्ययन के मुताबिक़ प्रेग्नेंट महिलाएं गर्भावस्था के शुरूआती दौर में जो चीज़ें खाती हैं, उससे न केवल उनके गर्भ में पल रहे शिशु का स्वास्थ्य बल्कि लिंग भी निर्धारित होता है। उच्च वसायुक्त ब्रेकफ़ास्ट करने से जहां लड़के के जन्म की संभावना बढ़ती है, वहीं हल्के नाश्ते के सेवन से औलाद के रूप में बेटी मिलने की गुंजाइश अधिक रहती है।
    मिसौरी यूनिवर्सिटी के शोधकर्ता दर्जनों गर्भवती महिलाओं के बच्चों के लिंग पर उनके खानपान का प्रभाव आंकने के बाद इस नतीजे पर पहुंचे हैं। उन्होंने पाया, गर्भधारण से पहले और उसके बाद नाश्ते से समझौता करने वाली महिलाओं के गर्भ में संभोग के दौरान नर भ्रूण नष्ट हो जाते हैं।
                               हिन्दुस्तान, मेरठ संस्करण, दिनांक 30 जनवरी 2011

    .................................................................
     विज्ञान के अनुसार मनुष्य जाति में लिंग का निर्धारण वाई क्रोमोज़ोम के कारण होता है जो कि मर्द से आता है। यह ठीक है। मर्द से एक्स और वाई दोनों ही क्रोमोज़ोम्स आते हैं जबकि औरत में केवल एक्स क्रोमोज़ोम ही पाया जाता है। लेकिन आख़िर वे कौन सी कैमिकल कंडीशंस होती हैं जिनमें से एक हालत में तो औरत के एक्स क्रोमोज़ोम से मर्द का एक्स क्रोमोज़ोम मिलता है और दूसरी हालत में वाई क्रोमोज़ोम। इस आधुनिक शोध में औरत के शरीर की इसी कैमिकल कंडीशन का अध्ययन किया गया है। इस संबंध में आप इसी ब्लाग की एक और पोस्ट भी देख सकते हैं।

    http://pyarimaan.blogspot.com/2011/01/relation-between-vegetables-and-girl.html

    4 comments:

    शालिनी कौशिक said...

    yadi is tarah hi ladka-ladki paida honge to gareeb logon ke yanha n to ladka hoga aur n ladki kyonki unhe to bharpet bhogjan bhi nahi mil pata .aur aapki ye post yadi un sason me padh li jinki bahuein pregnent hain tab ve apni bahuon ko khoob khilayengi aur yadi bad me ladki ho gayee tab to ve unka muhn ka dana bhi chhen lengi.kam se kam kuchh galatfahmi vali sas to aisa kar hi dengi...

    दर्शन कौर धनोए said...

    मेरे ख्याल से यह ठीक स्थिति नही हे --यदि ऐसा सम्भव हुआ तो कोई भी भूखा नही रहेगा --जबकि हमको प्रेगनेंसी के दोरान डॉ कहती हे की थोडा -थोडा दो बार का खाना चार बार में खाए --ज्यादा खाने से आलस आएगा --फिर भी, यदि ऐसा हे तो उन माँ ओ के लिए हर्ष की बात हे जिनको २ या ३ बेटियाँ हे |

    Indranil Bhattacharjee ........."सैल" said...

    यह सवाल पैदा ही क्यूँ हो रहा है ... लड़का हो या लड़की यह जानना ज़रूरी क्यूँ है ... लिंग कोई भी हो ... अपना ही बच्चा है न ?
    समाज की कुछ घटिया रुढियों के आगे सर झुकाकर खुद भी उस सडन का हिस्सा बनना कहाँ तक उचित है ...
    विज्ञान ने हमें बहुत कुछ दिया है ... क्या ज़रूरी है कि हम हमेशा गलत बातों को ही गले लगाएं ? क्या हम अंधे हैं कि हमें अच्छी बातें दिखाई नहीं देती ?

    Indranil Bhattacharjee ........."सैल" said...

    यह सही है कि आज भी रुढिवादी भारतीय समाज में लड़का पैदा होना अच्छा माना जाता है ... इसके चलते बहु पे अत्याचार होता है ... ढंग से खाना पीना नहीं मिलता है ... पोस्ट में दे गई खबर शायद ससुराल में बहु को अच्छे खान पान मिलने में सहायता करे ... पर इसके बाद भी यदि लड़की पैदा हो तो स्थिति बिगड़ते देर नहीं लगेगी ...
    इस तरह की बातों से समस्या का समाधान संभव नहीं है ... ज़रूरी है इस घटिया मानसिकता का त्याग करना ... बेटा हो या बेटी समाज को दोनों कि ज़रूरत है ...

    There was an error in this gadget

    Followers

    प्यारी माँ

    Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
    • बेघर बेचारी नारी - [image: Image result for poor position of woman image] निकल जाओ मेरे घर से एक पुरुष का ये कहना अपनी पत्नी से आसान बहुत आसान किन्तु क्या घर बनाना उसे बसाना सी...
    • एकाकी मोरनी - बाट निहारूँ कब तक अपना जीवन वारूँ आ जाओ प्रिय तुम पर अपना सर्वस हारूँ सूरज डूबा दूर क्षितिज तक हुआ अंधेरा घिरी घटाएं रिमझिम बरसें टूटे जियरा ...
    • क्या दीवाली लक्ष्मी जयन्ती है? - एक मान्यता के अनुसार दीपावली ‘लक्ष्मी जयन्ती’ अर्थात् लक्ष्मी के जन्मदिन के रूप में मनाई जाती है। निश्चित ही यह कल्पना अर्वाचीन है, क्योंकि प्राचीन देवताओं...
    • दीवाली इस वर्ष - [image: Happy Diwali and swachchhata abhiyan - pics के लिए चित्र परिणाम] जब ज्योति जली विष्णुप्रिया के मंदिर में तम घटा घर के हर कोने का जगमग मन मंदिर हु...
    • अपनी बचा लूं और दूसरे की रीत दूँ - पहली बार अमेरिका 2007 में जाना हुआ था। केलिफोर्निया में रेड-वुड नामक पेड़ का घना जंगल है। हम मीलों-मील चलते रहे लेकिन जंगल का ओर-छोर नहीं मिला। इस जंगल में...
    • हुनर - *समेट लेना खुद को , अपने दायरे में * *सिखा देता है ये हुनर , वक़्त आहिस्ता आहिस्ता !!* *सु-मन *
    • We never can change our history - Dr Sharad Singh - *Dr Sharad Singh, * *Author & Historian**Thought of the Day* *History give us a chance to change ourselves but we never can change our history.* *- Dr Shar...
    • झूठ की लंका ! - गाँव में समाधान बैठक होने वाली थी और उसमें मंत्रीजी का आना तय था। सरपंच गाँव में माहौल बनाने के लिए लोगों को पहले से स...
    • - * गज़ल * बेवफाई के नाम लिखती हूँ आशिकी पर कलाम लिखती हूँ खत में जब अपना नाम लिखती हूँ मैं हूँ उसकी जिमाम लिखती हूँ आँखों का रंग लाल देखूँ तो उस नज़र को मैं...
    • अँधा युग - गोली और गाली जो बन चुके हैं पर्यायवाची इस अंधे युग की बनकर सौगात लगाते हैं ठिकाने बडबोली जुबान को तुम , तुम्हारी जुबान और तुम्हारी कलम रहन है सत्ता की...
    • नींद बनाम ख्व़ाब - मैंने अपनी नींदें बेच, कुछ ख्वाब खरीदे थे। रख दिया था सहेज कर, उन्हें अपनी पलकों तले। वक़्त की बारिशों औ आंधी से, कुछ उड़ गए, कुछ बह गए। कुछ को बचाया जतन...
    • माँ तुझे प्रणाम - *माँ तुझे प्रणाम* *शत शत नमन कोटि प्रणाम * *माँ तुझे प्रणाम ।* *जब मैं तेरी कोख में आई * *तूने स्पर्श से बताया था * *ममता का कोई मोल नहीं * *तूने ही सि...
    • जाने कहाँ गया वो दिन??? - "आज कुछ special बना दो, Sunday है... " ... अभी तो परसों कढ़ाही पनीर बनी थी... "सुनो, मैं अपने दोस्तों से मिल कर आ रहा हूँ, वो आज Sunday है न..." ... हाँ, द...
    • अधूरे हम... - एक युवक बगीचे में खिन्न मुद्रा में बैठा था । एक बुजुर्ग ने उस परेशान युवक से पूछा - क्या हुआ बेटा क्यूं इतने परेशान हो ? युव...
    • भ्रष्ट आचार - स्वतंत्र भारत की नीव में उस समय के नेताओं ने अपनी महत्त्वाकांक्षाओं के रख दिये थे भ्रष्ट आचार फिर देश से कैसे खत्म हो भ्रष्टाचार ?
    • उदास आँखों में छुपी झुर्रियों की दास्तान (भाग -4) - *(रात में बेटी के फोन की आवाज़ से वे जग जाती हैं,और पुराना जीवन याद करने लगती हैं.उनकी चार बेटियों और दो बेटों से घर गुलज़ार रहता. पति गाँव के स्कूल में श...

    मन की दुनिया

    नारी का पूर्ण सशक्तिकरण

    • बेघर बेचारी नारी - [image: Image result for poor position of woman image] निकल जाओ मेरे घर से एक पुरुष का ये कहना अपनी पत्नी से आसान बहुत आसान किन्तु क्या घर बनाना उसे बसाना सी...
      1 day ago
     
    Copyright (c) 2010 प्यारी माँ. All rights reserved.