'माँ' The mother

Posted on
  • Saturday, February 19, 2011
  • by
  • DR. ANWER JAMAL
  • in
  • Labels:
  • मौत की आग़ोश में जब थक के सो जाती है माँ
    तब कहीं जाकर ‘रज़ा‘ थोड़ा सुकूं पाती है माँ

    फ़िक्र में बच्चे की कुछ इस तरह घुल जाती है माँ
    नौजवाँ होते हुए बूढ़ी नज़र आती है माँ

    रूह के रिश्तों की गहराईयाँ तो देखिए
    चोट लगती है हमारे और चिल्लाती है माँ

    ओढ़ती है हसरतों का खुद तो बोसीदा कफ़न
    चाहतों का पैरहन बच्चे को पहनाती है माँ

    एक एक हसरत को अपने अज़्मो इस्तक़लाल से
    आँसुओं से गुस्ल देकर खुद ही दफ़नाती है माँ

    भूखा रहने ही नहीं देती यतीमों को कभी
    जाने किस किस से, कहाँ से माँग कर लाती है माँ

    हड्डियों का रस पिला कर अपने दिल के चैन को
    कितनी ही रातों में ख़ाली पेट सो जाती है माँ

    जाने कितनी बर्फ़ सी रातों में ऐसा भी हुआ
    बच्चा तो छाती पे है गीले में सो जाती है माँ

    जब खिलौने को मचलता है कोई गुरबत का फूल
    आँसुओं के साज़ पर बच्चे को बहलाती है माँ

    फ़िक्र के श्मशान में आखिर चिताओं की तरह
    जैसे सूखी लकड़ियाँ, इस तरह जल जाती है माँ

    भूख से मजबूर होकर मेहमाँ के सामने
    माँगते हैं बच्चे जब रोटी तो शरमाती है माँ

    ज़िंदगी की सिसकियाँ सुनकर हवस के शहर से
    भूखे बच्चों को ग़िजा, अपना कफ़न लाती है माँ

    मुफ़लिसी बच्चे की ज़िद पर जब उठा लेती है हाथ
    जैसे हो मुजरिम कोई इस तरह शरमाती है माँ

    अपने आँचल से गुलाबी आँसुओं को पोंछकर
    देर तक गुरबत पे अपनी अश्क बरसाती है माँ

    सामने बच्चों के खुश रहती है हर इक हाल में
    रात को छुप छुप के लेकिन अश्क बरसाती है माँ

    कब ज़रूरत हो मिरी बच्चे को, इतना सोचकर
    जागती रहती हैं आँखें और सो जाती है माँ

    पहले बच्चों को खिलाती है सुकूनो चैन से
    बाद में जो कुछ बचा, वो शौक़ से खाती है माँ

    माँगती ही कुछ नहीं अपने लिए अल्लाह से
    अपने बच्चों के लिए दामन को फैलाती है माँ

    दे के इक बीमार बच्चे को दुआएं और दवा
    पाएंती ही रख के सर क़दमों पे सो जाती है माँ

    जाने अन्जाने में हो जाए जो बच्चे से कुसूर
    एक अन्जानी सज़ा के डर से थर्राती है माँ

    गर जवाँ बेटी हो घर में और कोई रिश्ता न हो
    इक नए अहसास की सूली पे चढ़ जाती है माँ

    हर इबादत, हर मुहब्बत में निहाँ है इक ग़र्ज़
    बेग़र्ज़ , बेलौस हर खि़दमत को कर जाती है माँ

    अपने बच्चों की बहारे जिंदगी के वास्ते
    आँसुओं के फूल हर मौसम में बरसाती है माँ

    ज़िंदगी भर बीनती है ख़ार , राहे ज़ीस्त से
    जाते जाते नेमते फ़िरदौस दे जाती है माँ

    बाज़ुओं में खींच के आ जाएगी जैसे कायनात
    ऐसे बच्चे के लिए बाहों को फैलाती है माँ

    एक एक हमले से बच्चे को बचाने के लिए
    ढाल बनती है कभी तलवार बन जाती है माँ

    ज़िंदगानी के सफ़र में गर्दिशों की धूप में
    जब कोई साया नहीं मिलता तो याद आती है माँ

    प्यार कहते है किसे और मामता क्या चीज़ है
    कोई उन बच्चों से पूछे जिनकी मर जाती है माँ

    पहले दिल को साफ़ करके खूब अपने खून से
    धड़कनों पर कलमा ए तौहीद लिख जाती है माँ

    सफ़हा ए हस्ती पे लिखती है उसूले ज़िंदगी
    इस लिए इक मकतबे इस्लाम कहलाती है माँ

    उसने दुनिया को दिए मासूम राहबर इस लिए
    अज़्मतों में सानी ए कुरआँ कहलाती है माँ

    घर से जब परदेस जाता है कोई नूरे नज़र
    हाथ में कुरआँ लेकर दर पे आ जाती है माँ

    दे के बच्चे को ज़मानत में रज़ाए पाक की
    पीछे पीछे सर झुकाए दूर तक जाती है माँ

    काँपती आवाज़ से कहती है ‘बेटा अलविदा‘
    सामने जब तक रहे हाथों को लहराती है माँ

    रिसने लगता है पुराने ज़ख्मों से ताज़ा लहू
    हसरतों की बोलती तस्वीर बन जाती है माँ

    जब परेशानी में घिर जाते हैं हम परदेस में
    आँसुओं को पोंछने ख़्वाबों में आ जाती है माँ

    लौट कर वापस सफ़र से जब घर आते हैं हम
    डाल कर बाहें गले में सर को सहलाती है माँ

    ऐसा लगता है कि जैसे आ गए फ़िरदौस में
    भींचकर बाहों में जब सीने से लिपटाती है माँ

    देर हो जाती है घर आने में अक्सर जब हमें
    रेत पर मछली हो जैसे ऐसे घबराती है माँ

    मरते दम बच्चा न आ पाए अगर परदेस से
    अपनी दोनों आँखें चैखट पे रख जाती है माँ

    बाद मर जाने के फिर बेटे की खि़दमत के लिए
    भेस बेटी का बदल कर घर में आ जाती है माँ
           (...जारी)
    शायर-‘रज़ा‘ सिरसवी,
    ब्रांच सिरसी, मुरादाबाद, उ. प्र.

    शब्दार्थ;
    बोसीदा-पुराना, पैरहन-लिबास,
    अज़्मो इस्तक़लाल-इरादा और मज़बूती
    ग़िज़ा-भोजन, अश्क-आँसू, बेलौस-बिना लालच
    ज़ीस्त-ज़िंदगी, नेमते फ़िरदौस-जन्नत की नेमत
    कलमा ए तौहीद-ईश्वर के एकत्व की शिक्षा
    सानी ए कुरआँ-कुरआन जैसे सम्मान की हक़दार
    ----------------------------------------------------------------------------

    जनाब ‘रज़ा‘ सिरसवी साहब का कलाम उनकी सोच की गहराई का खुद ही सुबूत है। मैंने बरसों पहले इस नज़्म को पढ़ा था जो कि ‘माँ‘ के नाम से उर्दू में किताबी शक्ल में मुझे मेरे एक मेरे एक ऐसे दोस्त से मिली थी जो कि पैग़म्बर हज़रत मुहम्मद साहब स. के वंशज हैं और फ़ने शायरी में मैं उन्हें अपने उस्ताद का दर्जा देता हूँ। इस ब्लाग ‘प्यारी माँ‘ के वुजूद में आने की वजह यह किताब भी है। यह नज़्म बहुत लंबी है। इसका हरेक शेर दिल की गहराईयों से निकला है और दिल की गहराईयों तक ही पहुंचता भी है। ‘माँ‘ के तमाम रूप और तमाम जज़्बों को ही नहीं बल्कि एक औरत की हक़ीक़त को भी इस नज़्म में जनाब रज़ा साहब ने बड़े सलीक़े से पेश कर दिया है। ‘माँ‘ पर बहुत से छोटे बड़े शायरों और कवियों की रचनाएं मैंने पढ़ी हैं लेकिन इससे ज़्यादा पूर्ण और सुंदर कोई एक भी मुझे नज़र नहीं आई। जब आप इस नज़्म को पूरा पढ़ लेंगे तो आप भी यही कहेंगे। इस प्यारी नज़्म को इस ब्लाग पर क़िस्तवार अंदाज़ में पेश किया जाएगा, इंशा अल्लाह।

    13 comments:

    Tarkeshwar Giri said...

    भाई जान कितनी बार कहा हैं कि छोटी पोस्ट लिखा करे. अउर बिना हड्डी के बात नहीं होती क्या.

    रश्मि प्रभा... said...

    माँ को सम्पूर्णता में लिख दिया आपने ... माँ के हर रूप को सूक्ष्मता से शब्दों में पिरोया है . एक एक शब्द प्रत्युत्तर में माँ का आशीष बन गए हैं

    Minakshi Pant said...

    माँ को समर्पित बहुत खुबसूरत रचना |

    वन्दना said...

    आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
    कल (21-2-2011) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
    देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
    अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।

    http://charchamanch.blogspot.com/

    Patali-The-Village said...

    माँ को समर्पित बहुत खुबसूरत रचना |

    एस.एम.मासूम said...

    घर से जब परदेस जाता हैं कोई नूर -ए -नज़र

    हाथ में कुरान लेकर दर पेय आजाती हैं माँ


    देके बच्चे को ज़मानत में रेज़ा -ए -पाक की

    पीछे पीछे सर झुकाए दूर तक जाती हैं माँ


    कांपती आवाज़ से कहती हैं बेटा अलविदा

    सामना जब तक रहे हाथों को लहराती हैं माँ


    याद आता हैं शब् -ए -आशूर का कडियल जवान

    जब कभी उलझी हुई जुल्फों को सुलझाती हैं माँ


    शिमर के कंजर से या सूखे गले से पूछिये


    ऐसा लगता हैं किस्सी मकतल से अब भी वक़्त -ए -अस्र

    एक बुरीदा सर से ज्यादा प्यासा हूँ सदा आती हैं माँ

    संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

    माँ के सारे एहसास लिख दिए हैं ..बहुत सुन्दर

    Anjana (Gudia) said...

    Bahut hi khoobsurat nazm hai... Anwar bhai, kisi din baki bhi post kar dijiyega....

    RameshGhildiyal"Dhad" said...

    Tumhen padh kar Bahut yaad aati hai pyari si maa, ai dost! teri nazm me nazar aati hai teri, meri aur hamari si maa!

    Maa khuda ki bakshi hui azeem nemat hai "Maa"

    Ramesh Ghildiyal, Kotdwar Uttarakhand

    RameshGhildiyal"Dhad" said...

    Kar irade buland apne, tod de pinjra tu saiyaad ka!
    chal padegi jab chhuri, kya karogi iss jahaan-abad ka

    POOJA... said...

    maa kee sampoornata ko shabd de diye aapne... bahut-bahut dhnyawaad

    Rajesh Kumari said...

    maa ka smpoorn chitran kiya gaya hai .bahut bhaavpoorn prabhaav shali rachna.

    Anjana (Gudia) said...

    ऐसा लगता है कि जैसे आ गए फ़िरदौस में
    भींचकर बाहों में जब सीने से लिपटाती है माँ

    poori nazm share karne ke liye shukriya, Anwar bhai! Bahot khoobsurat aur pak nazm hai

    There was an error in this gadget

    Followers

    प्यारी माँ

    Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
    • बस ! अब और नहीं --- - वक्त और हालात ने इतने ज़ख्म दे दिए हैं कि अब हवा का हल्का सा झोंका भी उनकी पर्तों को बेदर्दी से उधेड़ जाता है मैं चाहूँ कि न चाहूँ मेरे मन पर अंकित त...
    • अनुरागी मन - है सौभाग्य चिन्ह मस्तक पर बिंदिया दमकती भाल पर हैं नयन तुम्हारे मृगनयनी सरोवर में तैरतीं कश्तियों से तीखे नयन नक्श वाली तुम लगतीं गुलाब के फूल सी है मधुर ...
    • हम मजबूरों की एक और मजबूरी - बाल मजदूरी - ”बचपन आज देखो किस कदर है खो रहा खुद को , उठे न बोझ खुद का भी उठाये रोड़ी ,सीमेंट को .” ........................................................................
    • ब्राह्मण की पोथी लुटी और बणिये का धन लुटा - हम बनिये-ब्राह्मण उस सुन्दर लड़की की तरह हैं जिसे हर घर अपनी दुल्हन बनाना चाहता है। पहले का जमाना याद कीजिए, सुन्दर राजकुमारियों के दरवाजे दो-दो बारातें ख...
    • अँधा युग - गोली और गाली जो बन चुके हैं पर्यायवाची इस अंधे युग की बनकर सौगात लगाते हैं ठिकाने बडबोली जुबान को तुम , तुम्हारी जुबान और तुम्हारी कलम रहन है सत्ता की...
    • एक उम्मीद जरूरी है जीने के लिए - एक उम्मीद जिसकी नाउम्मीदी पर उठती है मन में खीज, झुंझलाहट निराश मन कोसता बार-बार उम्मीद उनसे जो खुद उम्मीद में जीते-पलते हैं उम्मीद उनसे लगा बैठते हैं परिण...
    • - * GAZAL * पिघल कर आँख से उसकी दिल ए पत्थर नहीं आता" वो हर गिज़ दोस्तो मेरे जनाज़े पर नहीं आता दिखाया होता तूने आइना उसको सदाक़त का जो आया करता था झुक कर, क...
    • रूबरू - *तुझसे रूबरू न हो पाऊँ , न सही * *तेरी धड़कन अब मुझसे होकर गुजरती है !!* *सु-मन *
    • नींद बनाम ख्व़ाब - मैंने अपनी नींदें बेच, कुछ ख्वाब खरीदे थे। रख दिया था सहेज कर, उन्हें अपनी पलकों तले। वक़्त की बारिशों औ आंधी से, कुछ उड़ गए, कुछ बह गए। कुछ को बचाया जतन...
    • माँ तुझे प्रणाम - *माँ तुझे प्रणाम* *शत शत नमन कोटि प्रणाम * *माँ तुझे प्रणाम ।* *जब मैं तेरी कोख में आई * *तूने स्पर्श से बताया था * *ममता का कोई मोल नहीं * *तूने ही सि...
    • जाने कहाँ गया वो दिन??? - "आज कुछ special बना दो, Sunday है... " ... अभी तो परसों कढ़ाही पनीर बनी थी... "सुनो, मैं अपने दोस्तों से मिल कर आ रहा हूँ, वो आज Sunday है न..." ... हाँ, द...
    • अधूरे हम... - एक युवक बगीचे में खिन्न मुद्रा में बैठा था । एक बुजुर्ग ने उस परेशान युवक से पूछा - क्या हुआ बेटा क्यूं इतने परेशान हो ? युव...
    • नया साल ! - समर घर से निकला तो पत्नी और बच्चों के लिए गिफ्ट पहले ही खरीदता हुआ होटल पहुंचा था। रात में प्रोग्राम ख़त्म करके सीधे घर भागेगा क्यो...
    • वेदों में गायन कला - *- डॉ. शरद सिंह* *गायन मानव की संवेदनाओं को जागृत करता है.आज दुनिया भर में संगीत के महत्व पर वैज्ञानिक शोध हो रहे हैं . पाश्चात्य जगत के व...
    • भ्रष्ट आचार - स्वतंत्र भारत की नीव में उस समय के नेताओं ने अपनी महत्त्वाकांक्षाओं के रख दिये थे भ्रष्ट आचार फिर देश से कैसे खत्म हो भ्रष्टाचार ?
    • उदास आँखों में छुपी झुर्रियों की दास्तान (भाग -7) - *(रात में बेटी के फोन की आवाज़ से जग कर वे,अपना पुराना जीवन याद करने लगती हैं.उनकी चार बेटियों और दो बेटों से घर गुलज़ार रहता. पति गाँव के स्कूल में शिक्षक...

    मन की दुनिया

    नारी का पूर्ण सशक्तिकरण

    • ये है नारी शक्ति - नारी की सशक्तता यहाँ देखो /इनमे देखो . मैंने बहुत पहले एक आलेख लिखा था- नारी शक्ति का स्वरुप:कमजोरी केवल भावुकता/सहनशीलता [image: Maa Durga][image: Maa Durg...
      4 days ago
     
    Copyright (c) 2010 प्यारी माँ. All rights reserved.