तुम होती तो कहती !

Posted on
  • Tuesday, February 8, 2011
  • by
  • दर्शन कौर धनोय
  • in
  • Labels:




  • जब-जब आंसू भरे आँखों में |
    तब-तब कमी तुम्हारी खटकी माँ,
    काश ! कि तुम  होती तो कहती ---
    मोती व्यर्थ लुटाओ न ----?


                          जब -जब  गायन के सुर साघे |
                          जब -जब तन्मय हो तान उठाई |
                          तब -तब कमी तुम्हारी खटकी माँ,
                          काश ! कि तुम होती तो कहती---
                          इक बार फिर से गाओ न ---?

                                       जब -जब गीत बनाया कोई--|
                                जब-जब सस्वर पाठ किया --|
                                    तब-तब कमी तुम्हारी खटकी माँ,
                                     काश ! कि तुम होती तो कहती ---
                                बेटा ,फिर से दोहराओ  न ---?

    6 comments:

    रश्मि प्रभा... said...

    माँ जीवन का सम्पूर्ण आधार होती है... प्रेरणा, प्रशंसा , दुलार माँ के पर्यायवाची शब्द हैं

    क्रिएटिव मंच-Creative Manch said...

    जब-जब आंसू भरे आँखों में |
    तब-तब कमी तुम्हारी खटकी माँ,
    काश ! कि तुम होती तो कहती ---
    मोती व्यर्थ लुटाओ न ----?

    बहुत ही सुन्दर
    माँ को समर्पित यह रचना बेहद अच्छी लगी
    आभार

    DR. ANWER JAMAL said...

    मेरे बुजुर्गों का साया था जब तलक मुझ पर
    मैं अपनी उम्र से छोटा दिखाई देता था

    आपकी रचना मैंने अपनी वाइफ़ को पढ़कर सुनाई तो वह बोलीं कि
    'इंसान को माँ की जरूरत हर उम्र में रहती है '
    सन 1997 में ईद के दिन उनकी वालिदा मोहतरमा का कैंसर की बीमारी से इंतक़ाल हो गया था । उनके 2 छोटी बहनें और एक छोटा भाई है जिसकी वजह से उनके वालिद साहब को 2 महीने बाद ही दिल्ली की एक तलाक़शुदा औरत से शादी करनी पड़ी और फिर वे अपनी बेटी की शादी मुझसे करके वापस Riyadh चले गए। वे पहले से ही वहीं रहते थे और यहाँ केवल अपनी बेटी की शादी करने के लिए आए थे ।

    दर्शन कौर धनोए said...

    डॉ. सा,आपकी पत्नी ने ठीक कहा हे इन्सान को हर उम्र में माँ की जरूरत पडती हे -- मै जब महज ११ साल की थी तभी मेरी भी माँ का इंतकाल हो गया था -मेरा एक भाई ९ साल का और दूसरा केवल ७ साल का था --हमारे पिता ने दूसरी शादी नही की क्योकि हमारी दादी जिन्दा थी --कुछ साल वो रही हमारे साथ --फिर तो अकेला ही जीवन था बस गुजर गया --पर माँ के बिछोह का जो गम था वो कभी न भर सका न भर सकता हे !

    सदा said...

    काश ! कि तुम होती तो कहती ---
    बेटा ,फिर से दोहराओ न ---?

    बहुत ही भावमय करते शब्‍द ।

    HAKEEM YUNUS KHAN said...

    nice post.

    There was an error in this gadget

    Followers

    प्यारी माँ

    Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
    • मर्द की एक हकीकत - *[image: Hand writing I Love Me with red marker on transparent wipe board. - stock photo][image: Selfish business man not giving information to others.Mad...
    • एकाकी मोरनी - बाट निहारूँ कब तक अपना जीवन वारूँ आ जाओ प्रिय तुम पर अपना सर्वस हारूँ सूरज डूबा दूर क्षितिज तक हुआ अंधेरा घिरी घटाएं रिमझिम बरसें टूटे जियरा ...
    • क्या दीवाली लक्ष्मी जयन्ती है? - एक मान्यता के अनुसार दीपावली ‘लक्ष्मी जयन्ती’ अर्थात् लक्ष्मी के जन्मदिन के रूप में मनाई जाती है। निश्चित ही यह कल्पना अर्वाचीन है, क्योंकि प्राचीन देवताओं...
    • दीवाली इस वर्ष - [image: Happy Diwali and swachchhata abhiyan - pics के लिए चित्र परिणाम] जब ज्योति जली विष्णुप्रिया के मंदिर में तम घटा घर के हर कोने का जगमग मन मंदिर हु...
    • अपनी बचा लूं और दूसरे की रीत दूँ - पहली बार अमेरिका 2007 में जाना हुआ था। केलिफोर्निया में रेड-वुड नामक पेड़ का घना जंगल है। हम मीलों-मील चलते रहे लेकिन जंगल का ओर-छोर नहीं मिला। इस जंगल में...
    • हुनर - *समेट लेना खुद को , अपने दायरे में * *सिखा देता है ये हुनर , वक़्त आहिस्ता आहिस्ता !!* *सु-मन *
    • We never can change our history - Dr Sharad Singh - *Dr Sharad Singh, * *Author & Historian**Thought of the Day* *History give us a chance to change ourselves but we never can change our history.* *- Dr Shar...
    • झूठ की लंका ! - गाँव में समाधान बैठक होने वाली थी और उसमें मंत्रीजी का आना तय था। सरपंच गाँव में माहौल बनाने के लिए लोगों को पहले से स...
    • - * गज़ल * बेवफाई के नाम लिखती हूँ आशिकी पर कलाम लिखती हूँ खत में जब अपना नाम लिखती हूँ मैं हूँ उसकी जिमाम लिखती हूँ आँखों का रंग लाल देखूँ तो उस नज़र को मैं...
    • अँधा युग - गोली और गाली जो बन चुके हैं पर्यायवाची इस अंधे युग की बनकर सौगात लगाते हैं ठिकाने बडबोली जुबान को तुम , तुम्हारी जुबान और तुम्हारी कलम रहन है सत्ता की...
    • नींद बनाम ख्व़ाब - मैंने अपनी नींदें बेच, कुछ ख्वाब खरीदे थे। रख दिया था सहेज कर, उन्हें अपनी पलकों तले। वक़्त की बारिशों औ आंधी से, कुछ उड़ गए, कुछ बह गए। कुछ को बचाया जतन...
    • माँ तुझे प्रणाम - *माँ तुझे प्रणाम* *शत शत नमन कोटि प्रणाम * *माँ तुझे प्रणाम ।* *जब मैं तेरी कोख में आई * *तूने स्पर्श से बताया था * *ममता का कोई मोल नहीं * *तूने ही सि...
    • जाने कहाँ गया वो दिन??? - "आज कुछ special बना दो, Sunday है... " ... अभी तो परसों कढ़ाही पनीर बनी थी... "सुनो, मैं अपने दोस्तों से मिल कर आ रहा हूँ, वो आज Sunday है न..." ... हाँ, द...
    • अधूरे हम... - एक युवक बगीचे में खिन्न मुद्रा में बैठा था । एक बुजुर्ग ने उस परेशान युवक से पूछा - क्या हुआ बेटा क्यूं इतने परेशान हो ? युव...
    • भ्रष्ट आचार - स्वतंत्र भारत की नीव में उस समय के नेताओं ने अपनी महत्त्वाकांक्षाओं के रख दिये थे भ्रष्ट आचार फिर देश से कैसे खत्म हो भ्रष्टाचार ?
    • उदास आँखों में छुपी झुर्रियों की दास्तान (भाग -4) - *(रात में बेटी के फोन की आवाज़ से वे जग जाती हैं,और पुराना जीवन याद करने लगती हैं.उनकी चार बेटियों और दो बेटों से घर गुलज़ार रहता. पति गाँव के स्कूल में श...

    मन की दुनिया

    नारी का पूर्ण सशक्तिकरण

     
    Copyright (c) 2010 प्यारी माँ. All rights reserved.