क्या लिखूं?

Posted on
  • Tuesday, February 22, 2011
  • by
  • Anjana Dayal de Prewitt
  • in
  • मम्मी के लिए कुछ मुक्कमल लिखना नामुमकिन है... कहीं न कहीं कोई न कोई कमी रह ही जाएगी... कुछ कहने की कोशिश करूँ भी तो कहाँ से शुरू करूँ और कहाँ ख़त्म, यह नहीं पता... शुरुआत कुछ सवालों से कर रही हूँ.... उसी से पूछ कर...

    तुम्हारे बारे में क्या लिखूं?
    तुम्हारी डांट या मोहब्बत लिखूं?

    वो मार लिखूं जो अब तक राह दिखाती है,
    या मार के बाद रोते हुए गले लगाने की आदत लिखूं?

    बच्चों के साथ तुम्हारा प्यार लिखूं,
    या बुजुर्गों की खिदमत लिखूं?

    अरहर की दाल हो या पौधीने की चटनी,
    या फिर ज़िन्दगी में तुमसे बढती लज्ज़त लिखूं?

    बरकतों की पोटली लिखूं,
    या कुदरत की इनायत लिखूं?

    तुम्हारी सादगी लिखूं,
    या उस सादगी में छिपी तुम्हारी ताकत लिखूं?

    चालीस साल के हमसफ़र के जाने का ग़म लिखूं
    या उसके चले जाने के बाद तुम्हारी हिम्मत लिखूं?

    बेदाग़ आँचल सी उम्र लिखूं,
    या ज़िन्दगी भर की इबादत लिखूं?

    आई लिखूं, मम्मी लिखूं, प्यारी माँ लिखूं,
    या बस खुदा की सूरत लिखूं? 

    ...............

    12 comments:

    निर्मला कपिला said...

    सच मे माँ के लिये कुछ भी लिखना बहुत मुश्किल है भावमय सुन्दर कविता के लिये बधाई।

    रश्मि प्रभा... said...

    maa to anlikhi kaynaat hai...

    POOJA... said...

    "माँ"...उनके लिये तो इतनाही काफी है...
    बहुत ही प्यारे सवाल... धन्यवाद...

    Sodagar's said...

    क्या बात कही है! वाह!

    शालिनी कौशिक said...

    आपकी प्रस्तुति प्रशंसनीय है.

    DR. ANWER JAMAL said...

    अपने सीने पर रखे है कायनाते ज़िंदगी
    ये ज़मीं इस वास्ते ऐ दोस्त कहलाती है माँ

    Nice post.

    Kanta said...

    bas gudia yeansu na padhne de rahe hen na likhne.

    सदा said...

    वाह ....बहुत ही सुन्‍दर भावों से सजी बेहतरीन अभिव्‍यक्ति मां के बारे में लिखना ...शायद ऐसा ही होता है ।

    वन्दना said...

    आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
    कल (24-2-2011) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
    देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
    अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।

    http://charchamanch.blogspot.com/

    vandy said...

    Very touching, I just salute you. Thanks for written such kind of poem

    Sadhana Vaid said...

    एक बहुत ही भावपूर्ण, प्रशंसनीय एवं बेमिसाल रचना ! दुनिया की किसी भी भाषा के शब्द बौने पड़ जायेंगे जब वो एक 'माँ' को परिभाषित करना चाहेंगे ! बहुत ही ख़ूबसूरत रचना ! मेरी बधाई स्वीकार करें !

    सुरेन्द्र सिंह " झंझट " said...

    माँ तो बस माँ है ......क्या लिखें

    बहुत ही भावुक abhivyakti.

    There was an error in this gadget

    Followers

    प्यारी माँ

    Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
    • विश्वास - ‘विश्वास’ कितना आभासी है ना यह शब्द ! कितना क्षणिक, कितना छलनामय, कितना भ्रामक ! विश्वास के जिस धागे से बाँध कर कल्पना की पतंग को आसमान की ऊँच...
    • राजीव गांधी :अब केवल यादों में - शत शत नमन - एक नमन राजीव जी को आज उनकी जयंती के अवसर पर.राजीव जी बचपन से हमारे प्रिय नेता रहे आज भी याद है कि इंदिरा जी के निधन के समय हम सभी कैसे चाह रहे थे कि ...
    • हमें अपनी झील के आकर्षण में बंधे रहना है - #हिन्दी_ब्लागिंग मैं कहीं अटक गयी हूँ, मुझे जीवन का छोर दिखायी नहीं दे रहा है। मैं उस पेड़ को निहार रही हूँ जहाँ पक्षी आ रहे हैं, बसेरा बना रहे हैं। कहाँ ...
    • शापित मंजिलें - *... स्थितियाँ * *बदल देती हैं * *राह जिंदगी की ...* *... मंजिलें* *अक्सर अकेली रह * *शापित हो जाया करती हैं !!* *सु-मन *
    • बातें हैं बातों का क्या ....... - अम्बुआ की डाली पर चाहे न कुहुके कोयल किसी अलसाई शाम से चाहे न हो गुफ्तगू कोई बेनामी ख़त चाहे किसी चौराहे पर क्यों न पढ़ लिया जाए ज़िन्दगी का कोई नया शब्दक...
    • केवल राष्ट्र के लिए था यह सृजन - देश की स्वतंत्रता के लिए 1857 से लेकर 1947 तक क्रान्तिकारियों व आंदोलनकारियों के साथ ही लेखकों, कवियों और पत्रकारों ने भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। उस समय...
    • कृष्ण लीला - ग्वाल बाल साथ ले कान्हा ने धूम मचाई गोकुल की गलियों में ! खिड़की खुली थी घर में छलांग लगाई खाया नवनीत खिलाया मित्रों को भी कुछ खाया कुछ फैलाया आहट ...
    • नींद बनाम ख्व़ाब - मैंने अपनी नींदें बेच, कुछ ख्वाब खरीदे थे। रख दिया था सहेज कर, उन्हें अपनी पलकों तले। वक़्त की बारिशों औ आंधी से, कुछ उड़ गए, कुछ बह गए। कुछ को बचाया जतन...
    • - गज़ल 1 मुहब्बत से रिश्ता बनाया गया उसे टूटते रोज पाया गया मुहब्बत पे उसकी उठी अँगुलियाँ सरे बज़्म रुसवा कराया गया यहाँ झूठ बिकता बड़े भाव पर मगर सच को ठेंगा द...
    • माँ तुझे प्रणाम - *माँ तुझे प्रणाम* *शत शत नमन कोटि प्रणाम * *माँ तुझे प्रणाम ।* *जब मैं तेरी कोख में आई * *तूने स्पर्श से बताया था * *ममता का कोई मोल नहीं * *तूने ही सि...
    • जाने कहाँ गया वो दिन??? - "आज कुछ special बना दो, Sunday है... " ... अभी तो परसों कढ़ाही पनीर बनी थी... "सुनो, मैं अपने दोस्तों से मिल कर आ रहा हूँ, वो आज Sunday है न..." ... हाँ, द...
    • अधूरे हम... - एक युवक बगीचे में खिन्न मुद्रा में बैठा था । एक बुजुर्ग ने उस परेशान युवक से पूछा - क्या हुआ बेटा क्यूं इतने परेशान हो ? युव...
    • नया साल ! - समर घर से निकला तो पत्नी और बच्चों के लिए गिफ्ट पहले ही खरीदता हुआ होटल पहुंचा था। रात में प्रोग्राम ख़त्म करके सीधे घर भागेगा क्यो...
    • वेदों में गायन कला - *- डॉ. शरद सिंह* *गायन मानव की संवेदनाओं को जागृत करता है.आज दुनिया भर में संगीत के महत्व पर वैज्ञानिक शोध हो रहे हैं . पाश्चात्य जगत के व...
    • भ्रष्ट आचार - स्वतंत्र भारत की नीव में उस समय के नेताओं ने अपनी महत्त्वाकांक्षाओं के रख दिये थे भ्रष्ट आचार फिर देश से कैसे खत्म हो भ्रष्टाचार ?
    • उदास आँखों में छुपी झुर्रियों की दास्तान (भाग -9) - *(रात में बेटी के फोन की आवाज़ से जग कर वे,अपना पुराना जीवन याद करने लगती > हैं.उनकी चार बेटियों और दो बेटों से घर गुलज़ार रहता. पति गाँव के स्कूल में > ...

    मन की दुनिया

    नारी का पूर्ण सशक्तिकरण

     
    Copyright (c) 2010 प्यारी माँ. All rights reserved.