माँ कुछ नहीं होती

Posted on
  • Sunday, February 20, 2011
  • by
  • vandana gupta
  • in
  • माँ कुछ नहीं होती 
    कहते हैं सब 
    माँ वो होती है
    जो बच्चे की 
    पहली गुरु होती है
    कौन मानता है 
    कौन समझता है
    माँ तो सिर्फ 
    जरूरत पर 
    प्रयोग की जाने वाली
    वस्तु होती है
    जिसकी भावनाओं से 
    खेला जा सके
    अपने आंसुओं से जिसे
    पिघलाया जा सके
    जिसे रोज ये पाठ 
    याद कराया जाए
    माँ तो त्याग  और स्नेह 
    की प्रतिमूर्ति होती है
    और वो इसी भंवरजाल में
    उम्र भर उलझी रहे

    कहते हैं सब 
    माँ वो होती है 
    जो भगवान से भी
    बढ़कर होती है
    मगर कहाँ होती है
    अभी जाना किसी ने
    जब माँ को घर से निकाल
    चौराहे पर खड़ा कर देते हैं 
    तब भगवान का कौन सा 
    रूप होती है वो   
    माँ तो सिर्फ 
    वक्ती जरूरत होती है
    जब तक हड्डियाँ 
    चलती रहती हैं
    तभी तक कुछ 
    क़द्र होती है
    उसके बाद तो 
    माँ सिर्फ एक 
    घर के कोने में पड़ा
    गैर जरूरी सामान होती है 
    जो जगह घेरे होती है

    वो कहते हैं 
    माँ घर की शान होती है
    कहाँ होती है ?
    कब होती है ?
    शायद तभी तक 
    जब तक समाज से 
    बच्चे की गलती पर भी 
    लड़ जाती है पर 
    उस पर न आंच आने देती है 
    हर गुनाह हर दोष को 
    छुपा लेती है जब तक 
    तभी तक माँ , माँ होती है
    जिस दिन दोष दिखा दिया
    उस दिन से माँ की पदवी से
    गिरा दिया जाता है
    फिर माँ न माँ होती है
    वो तो सिर्फ 
    मजबूरी का लिहाफ होती है
    जिसे फटने पर फेंक दिया जाता है
    रिश्तों की दहलीज पर 
    खड़ी एक कमजोर 
    बेबस , लाचार
    कड़ी के सिवा 
    और कुछ नहीं होती 
    जो तपस्या त्याग 
    की मूर्ति कहलाये 
    जाने की कीमत चुकाती है 
    मगर उफ़ न कर पाती है
    इसलिए कहती हूँ 
    माँ कुछ नहीं होती

    9 comments:

    रश्मि प्रभा... said...

    haan pyaari maa , bhagwaan si maa ke saath yah satya bhi juda hota hai ...

    DR. ANWER JAMAL said...

    हम सायादार पेड़ ज़माने के काम आये
    जब सूखने लगे तो जलाने के काम आए

    Indranil Bhattacharjee ........."सैल" said...

    इंसान स्वार्थ में अंधा हो गया है !

    दिगम्बर नासवा said...

    Bahut hi maarmik ... koi aisa kaise ho sakta hai ...

    शालिनी कौशिक said...

    vastvikta se paripoorit.

    कविता रावत said...

    bahut sundar maarmik prastuti..
    sach maa maa hoti hai..

    Anjana (Gudia) said...

    uff..... yeh bhi sach hai..... marmik rachna

    सदा said...

    बिल्‍कुल सही कहा है आपने ...।

    POOJA... said...

    kahi ka satya... kadwa satya...
    na jane maa ke hi saath aisa kyu hota hai???
    kya bhagwaan jaisi maa ka koi mol bhagwaan ki nazaron mein bhi nahi hota???

    There was an error in this gadget

    Followers

    प्यारी माँ

    Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
    • मर्द की एक हकीकत - *[image: Hand writing I Love Me with red marker on transparent wipe board. - stock photo][image: Selfish business man not giving information to others.Mad...
    • एकाकी मोरनी - बाट निहारूँ कब तक अपना जीवन वारूँ आ जाओ प्रिय तुम पर अपना सर्वस हारूँ सूरज डूबा दूर क्षितिज तक हुआ अंधेरा घिरी घटाएं रिमझिम बरसें टूटे जियरा ...
    • क्या दीवाली लक्ष्मी जयन्ती है? - एक मान्यता के अनुसार दीपावली ‘लक्ष्मी जयन्ती’ अर्थात् लक्ष्मी के जन्मदिन के रूप में मनाई जाती है। निश्चित ही यह कल्पना अर्वाचीन है, क्योंकि प्राचीन देवताओं...
    • दीवाली इस वर्ष - [image: Happy Diwali and swachchhata abhiyan - pics के लिए चित्र परिणाम] जब ज्योति जली विष्णुप्रिया के मंदिर में तम घटा घर के हर कोने का जगमग मन मंदिर हु...
    • अपनी बचा लूं और दूसरे की रीत दूँ - पहली बार अमेरिका 2007 में जाना हुआ था। केलिफोर्निया में रेड-वुड नामक पेड़ का घना जंगल है। हम मीलों-मील चलते रहे लेकिन जंगल का ओर-छोर नहीं मिला। इस जंगल में...
    • हुनर - *समेट लेना खुद को , अपने दायरे में * *सिखा देता है ये हुनर , वक़्त आहिस्ता आहिस्ता !!* *सु-मन *
    • We never can change our history - Dr Sharad Singh - *Dr Sharad Singh, * *Author & Historian**Thought of the Day* *History give us a chance to change ourselves but we never can change our history.* *- Dr Shar...
    • झूठ की लंका ! - गाँव में समाधान बैठक होने वाली थी और उसमें मंत्रीजी का आना तय था। सरपंच गाँव में माहौल बनाने के लिए लोगों को पहले से स...
    • - * गज़ल * बेवफाई के नाम लिखती हूँ आशिकी पर कलाम लिखती हूँ खत में जब अपना नाम लिखती हूँ मैं हूँ उसकी जिमाम लिखती हूँ आँखों का रंग लाल देखूँ तो उस नज़र को मैं...
    • अँधा युग - गोली और गाली जो बन चुके हैं पर्यायवाची इस अंधे युग की बनकर सौगात लगाते हैं ठिकाने बडबोली जुबान को तुम , तुम्हारी जुबान और तुम्हारी कलम रहन है सत्ता की...
    • नींद बनाम ख्व़ाब - मैंने अपनी नींदें बेच, कुछ ख्वाब खरीदे थे। रख दिया था सहेज कर, उन्हें अपनी पलकों तले। वक़्त की बारिशों औ आंधी से, कुछ उड़ गए, कुछ बह गए। कुछ को बचाया जतन...
    • माँ तुझे प्रणाम - *माँ तुझे प्रणाम* *शत शत नमन कोटि प्रणाम * *माँ तुझे प्रणाम ।* *जब मैं तेरी कोख में आई * *तूने स्पर्श से बताया था * *ममता का कोई मोल नहीं * *तूने ही सि...
    • जाने कहाँ गया वो दिन??? - "आज कुछ special बना दो, Sunday है... " ... अभी तो परसों कढ़ाही पनीर बनी थी... "सुनो, मैं अपने दोस्तों से मिल कर आ रहा हूँ, वो आज Sunday है न..." ... हाँ, द...
    • अधूरे हम... - एक युवक बगीचे में खिन्न मुद्रा में बैठा था । एक बुजुर्ग ने उस परेशान युवक से पूछा - क्या हुआ बेटा क्यूं इतने परेशान हो ? युव...
    • भ्रष्ट आचार - स्वतंत्र भारत की नीव में उस समय के नेताओं ने अपनी महत्त्वाकांक्षाओं के रख दिये थे भ्रष्ट आचार फिर देश से कैसे खत्म हो भ्रष्टाचार ?
    • उदास आँखों में छुपी झुर्रियों की दास्तान (भाग -4) - *(रात में बेटी के फोन की आवाज़ से वे जग जाती हैं,और पुराना जीवन याद करने लगती हैं.उनकी चार बेटियों और दो बेटों से घर गुलज़ार रहता. पति गाँव के स्कूल में श...

    मन की दुनिया

    नारी का पूर्ण सशक्तिकरण

     
    Copyright (c) 2010 प्यारी माँ. All rights reserved.