माँ ऐसे कपूत को क्यों माफ़ करेगी ? Maa

Posted on
  • Thursday, November 17, 2011
  • by
  • DR. ANWER JAMAL
  • in
  • Labels:
  •  Facebook  पर Arun Garg ji ने बताया -
    बेटे ने अपनी 75 वर्षीय बूढी माँ से पूछा "माँ चल तुझे तीर्थ करा लाता हूँ" बूढी माँ बोली इससे ज्यादा भली बात और क्या होगी, मन ही मन सोचती है आखिर संस्कारी पिता का संस्कारी पुत्र है मेरा बेटा. इस तरह माँ बेटे माँ वैष्णो देवी की यात्रा पर निकल पड़ते है, ट्रेन के सफ़र के थकेहारो ने कटरा की धर्मशाला में शरण ली. बेटा माँ से बोला माँ तुम तो वैसे भी बहुत थकी हो, माँ वैष्णो की चढाई नहीं कर सकोगी तुम यही ठहरो मैं मईया का प्रसाद चढ़ा के आता हूँ.
    माँ की आँखों में वात्सल्य की बूंदे छलक आई, मेरा बेटा कितना लायक है, भगवान् सबको ऐसा ही सपूत दे. बेटा कटरा से वैष्णो देवी निकल पड़ा. जब 2 दिन तक नहीं लौटा तो माँ को चिंता होने लगी, मन में बेटे की कुशलता की प्रार्थना करने लगी. वह धर्मशाला के मेनेजर के पास जा पहुंची और बोली "बेटा मेरा बेटा वैष्णो देवी से नहीं लौटा, आज दो दिन पूरे हो गए. मेनेजर बोला "अम्मा तेरा बेटा अब वैष्णो देवी से नहीं लौटेगा. वह तेरे खर्चे के पैसे हमें दे गया है, और हमें 1500 रुपए हर महीने भेज दिया करेगा". माँ सन्न रह गयी, कुछ देर बाद बोली, बेटा तुम मुझे 200 रुपये दे कर मेरी जरा मदद कर सकते हो, तुम्हारा अहसान मानूंगी. मैनेजर ने उसके पैसो में से 200 रुपये दे दिए.
    वह उन 200 रुपये की मदद से अपने घर वापस लौट आई और अपने पति के रैक में रखी अपने नाम की वसीयत लेकर चली गयी, उस वसीयत की जानकारी सिवा उस बुडिया के किसी को नहीं थी. उसने अपने पति का डुप्लेक्स बेच दिया जिससे आज उसका बेटा बेघर हो गया. माँ को बेघर करने वाला आज खुद बेघर हो गया.
    अब बहु बेटा माँ से माफ़ी मांग रहे है. 
    माँ ऐसे कपूत को क्यों माफ़ करेगी ?

    15 comments:

    दिगम्बर नासवा said...

    ऐसे कपूतों को माफ नहीं करना चाहिए कभी भी ...

    वाणी गीत said...

    सभी माएं इतनी मजबूत हो जाये तो कपूत ही नहीं बचेंगे !

    POOJA... said...

    bahut sahi... saari MAA aisi hi ho jaayen to kitna acchha ho... beta-bahu, sab sudhar jayenge...

    कुमार राधारमण said...

    कुछ कमी रह जाती है संस्कार के स्तर पर। मांओं को भी इस पर विचार करना चाहिए।

    "जाटदेवता" संदीप पवाँर said...

    जैसे को तैसा

    Unlucky said...

    Congratulations and thanks for sharing this info to all your visitor… Btw how did you get a clean site like this? Once again thanks a lot.

    From everything is canvas

    Navin C. Chaturvedi said...

    माँ-बाप की सेवा करना हर औलाद का कर्तव्य होता है, और धर्म भी। सब को इस का अनुपालन करना चाहिए।

    मैं और मेरा परिवेश said...

    इतने अमानवीय कैसे हो जाते हैं लोग।

    vandana said...

    ठीक किया माँ ने

    Sumit Madan said...

    bahu acha kiya jaise ko taisa

    utkarsh said...

    bahut sahi kiya yahi karna chahiye aise logo ke saath bahut hi accha naam hai is blog ka ab tak ke sabhi blog me se best blog hai ye

    V.P. Singh Rajput said...

    बहुत ही अच्‍छी प्रस्‍तुति ।
    मेरा शौक
    मेरे पोस्ट में आपका इंतजार है
    आज रिश्ता सब का पैसे से

    Mamta Bajpai said...

    सचमुच ..दिल दहलाने वाली घटना है माफी का
    तो प्रश्न ही नहीं उठता

    vikram7 said...

    उफ ....माँ के साथ ऐसा बर्ताव , अति निंदनीय

    v7: स्वप्न से अनुराग कैसा........

    Lucy Saputri said...

    माँ की चुदाई

    कामुक रिश्तों की गिरावट

    चाची को संतुष्ट किया

    दो हसीनाएं

    वासना का नशा

    गीता भाभी की चुदाई



    Cerita Lucah Teruk Sex Melayu

    Cerita Dewasa Sedarah

    Cerita Mesum Seks Dewasa

    There was an error in this gadget

    Followers

    प्यारी माँ

    Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
    • समीक्षा - "ये तो मोहब्बत नहीं" - समीक्षक शालिनी कौशिक - समीक्षा - '' ये तो मोहब्बत नहीं ''-समीक्षक शालिनी कौशिक [image: Ye To Muhabbat Nahi]उत्कर्ष प्रकाशन ,मेरठ द्वारा प्रकाशित डॉ.शिखा कौशिक 'नूतन' का काव्य-सं...
    • आस अभी ज़िंदा है - जब साँझ का धुँधलका हो मन कहीं खोया हुआ हो सूचना होगी ऐसी मन में उदासी भर देगी पर हर वक्त का नकारात्मक सोच जीवन का सुकून हर लेगा यदि दीप जलाने का...
    • कब साकार होगा नशा मुक्त देवभूमि का सपना - जब कोई हमारी प्रकृति की सुरम्य पहाड़ियों की गोद में बसे देवता, ऋषि-मुनियों एवं तपस्वियों की निवास स्थली देवभूमि उत्तराखंड की चर्चाएं मद्यपान के फलते-फूलते क...
    • मैं नदी हूँ - बहती रही अथक निरंतर मैं सदियों से करती रही धरा अभिसिन्चित मैं सदियों से साधना वैद
    • तू इसमें रहेगा और यह तुझ में रहेगा - प्रेम में डूबे जोड़े हम सब की नजरों से गुजरे हैं, एक दूजे में खोये, किसी भी आहट से अनजान और किसी की दखल से बेहद दुखी। मुझे लगने लगा है कि मैं भी ऐसी ही प्र...
    • वह जीने लगी है... - अब नहीं होती उसकी आँखे नम जब मिलते हैं अपने अब नहीं भीगतीं उसकी पलके देखकर टूटते सपने। अब नहीं छूटती उसकी रुलाई किसी के उल्हानो से अब नहीं मरती उसकी भूख कि...
    • ये है सरकारी होली :) - सरकार आपको होली तक फ्री राइड करवाएगी फिर वो बस हो ऑटो टैक्सी या फिर मेट्रो क्योंकि यदि नोट लेकर निकले और किसी ने रंग भरा गुब्बारा मार दिया तो आपकी तो बल्ले...
    • तुम और मैं -८ - *.....तुम !* *स्याह लफ्ज़ों में लिपटे ख़यालात हो* *और मैं...* *उन ख़यालों की ताबीर |* *एक एहसास की नज़्म* *आज भी ...* *जिन्दा है तुम्हारे मेरे बीच !!* *सु-म...
    • जाने कहाँ गया वो दिन??? - "आज कुछ special बना दो, Sunday है... " ... अभी तो परसों कढ़ाही पनीर बनी थी... "सुनो, मैं अपने दोस्तों से मिल कर आ रहा हूँ, वो आज Sunday है न..." ... हाँ, द...
    • अधूरे हम... - एक युवक बगीचे में खिन्न मुद्रा में बैठा था । एक बुजुर्ग ने उस परेशान युवक से पूछा - क्या हुआ बेटा क्यूं इतने परेशान हो ? युव...
    • टी-पाट - *टी-पाट* *कहानी-पूनम श्रीवास्तव * *छनाक की तेज आवाज हुयी और उज्ज्वला कुछ लिखते लिखते चौंक पड़ी।फिर बोली क्या हुआ?क्या टूटा ?अ...
    • नया साल ! - समर घर से निकला तो पत्नी और बच्चों के लिए गिफ्ट पहले ही खरीदता हुआ होटल पहुंचा था। रात में प्रोग्राम ख़त्म करके सीधे घर भागेगा क्यो...
    • - * गज़ल * तमन्ना सर फरोशी की लिये आगे खड़ा होता मैं क़िसमत का धनी होता बतन पर गर फना होता अगर माकूल से माहौल में मैं भी पला होता मेरा जीने का मक़सद आसमां से भी ...
    • वेदों में गायन कला - *- डॉ. शरद सिंह* *गायन मानव की संवेदनाओं को जागृत करता है.आज दुनिया भर में संगीत के महत्व पर वैज्ञानिक शोध हो रहे हैं . पाश्चात्य जगत के व...
    • भ्रष्ट आचार - स्वतंत्र भारत की नीव में उस समय के नेताओं ने अपनी महत्त्वाकांक्षाओं के रख दिये थे भ्रष्ट आचार फिर देश से कैसे खत्म हो भ्रष्टाचार ?
    • उदास आँखों में छुपी झुर्रियों की दास्तान (भाग -9) - *(रात में बेटी के फोन की आवाज़ से जग कर वे,अपना पुराना जीवन याद करने लगती > हैं.उनकी चार बेटियों और दो बेटों से घर गुलज़ार रहता. पति गाँव के स्कूल में > ...

    मन की दुनिया

    नारी का पूर्ण सशक्तिकरण

     
    Copyright (c) 2010 प्यारी माँ. All rights reserved.